Dainik Navajyoti Logo
Sunday 16th of May 2021
 
भारत

'वन नेशन वन एजुकेशन बोर्ड' पर सुनवाई से SC का इनकार, कहा- सरकार के सामने रखे मांग

Friday, July 17, 2020 13:50 PM
सुप्रीम कोर्ट।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने पूरे देश में 6 से 14 वर्ष की उम्र के बच्चों के लिए समान शिक्षा प्रणाली लागू करने को लेकर 'एक राष्ट्र एक शिक्षा बोर्ड' गठित करने के निर्देश देने संबंधी याचिका की सुनवाई से शुक्रवार को इनकार कर दिया। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने वकील अश्विनी उपाध्याय की जनहित याचिका यह कहते हुए ठुकरा दी कि यह नीतिगत मामला है और वह इस मामले में हस्तक्षेप नहीं कर सकती। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़़ ने कहा कि देश की शिक्षा प्रणाली के कारण बच्चों पर बस्ते का बोझ पहले से ही अधिक है और क्या पाठ्यक्रमों को एक साथ मिलाकर याचिकाकर्ता यह बोझ और बढ़ाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आप चाहते हैं कि कोर्ट सभी बोर्डों को विलय करके एक बोर्ड बनाने का आदेश दें। यह हम नहीं कर सकते। यह नीतिगत मामला है और इसमें हम कोई निर्णय नहीं ले सकते। याचिकाकर्ता चाहें तो अपनी बात लेकर सरकार के पास जा सकते हैं।

उपाध्याय ने पूरे देश में समान शिक्षा प्रणाली लागू करने के लिए वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की तर्ज पर राष्ट्रीय शिक्षा परिषद अथवा राष्ट्रीय शिक्षा आयोग के गठन की संभावना तलाशने का केंद्र को निर्देश देने का अनुरोध कोर्ट से किया था। याचिकाकर्ता ने 6 से 14 वर्ष की आयु वाले बच्चों के लिए एक समान पाठ्यक्रम शुरू करने का केंद्र को निर्देश देने की मांग की थी। याचिकाकर्ता का कहना था कि संविधान के अनुच्छेद 14, 15, 16, 38(2), 39 (एफ), 46 और 51ए की भावना को कायम रखने के लिए ऐसा करना जरूरी है। उपाध्याय ने 6 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों के पाठ्यक्रमों में मौलिक अधिकारों, कर्तव्यों, नीति निर्देशक तत्वों के अलावा संविधान की प्रस्तावना के उद्देश्यों को शामिल किए जाने और इनकी पढ़ाई सबके लिए अनिवार्य किए जाने की आवश्यकता जताई थी।

याचिका में इंडियन सर्टिफिकेट ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (आईसीएसई) बोर्ड और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) को आपस में मिलाकर 'वन नेशन वन एजुकेशन बोर्ड' गठित करने की संभावना तलाशने का केंद्र को निर्देश देने की मांग की गई थी। इस बीच उपाध्याय ने बताया कि वह अपने अनुरोध के साथ सरकार का दरवाजा खटखटाएंगे।

यह भी पढ़ें:

देश में कोरोना का कहर: 24 घंटे में 4205 मरीजों की मौत, 3.48 लाख से ज्यादा संक्रमित मिले

देश में कोरोना वायरस के दैनिक मामलों में एक बार फिर बढ़ोतरी देखने को मिली है तथा पिछले 24 घंटों के दौरान इस संक्रमण के 3.48 लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए गए और 4200 से ज्यादा मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 2.50 लाख के पार पहुंच गया है।

12/05/2021

डॉक्टर रेप-मर्डर मामला: हैदराबाद में गुस्साए लोगों ने प्रदर्शन कर आरोपियों को फांसी देने की मांग

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के पास शमशाबाद टोल प्लाजा पर एक वेटरनरी डॉक्टर की रेप के बाद हत्या से देशभर में आक्रोश है।

30/11/2019

ExitPolls: दिल्लीवासियों को पसंद AAP का 'झाडू', अबकी बार फिर केजरीवाल सरकार

दिल्ली विधानसभा चुनाव के ज्यादातर एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी (आप) सत्ता में वापसी करती दिखाई दे रही है, जबकि भारतीय जनता पार्टी को दूसरे नम्बर पर और कांग्रेस को अधिकतम चार सीट मिलने का अनुमान व्यक्त किया गया है।

08/02/2020

शाहीन बाग मामला: कोरोना के मद्देनजर धरना हटाने की सुप्रीम कोर्ट में अर्जी

कोरोना वायरस को महामारी घोषित किए जाने के मद्देनजर नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे विरोध प्रदर्शन को हटाने के लिए एक अर्जी सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई है। याचिकाकर्ता ने देश के किसी भी हिस्से में हो रहे इस तरह के धरना-प्रदर्शन को खत्म करने के निर्देश देने का भी अनुरोध किया है।

16/03/2020

भाजपा नेता वसीम बारी की हत्या में लश्कर के दो आतंकवादी शामिल: IG विजय कुमार

जम्मू-कश्मीर में कश्मीर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा है कि भाजपा नेता वसीम बारी और उनके परिवार के दो सदस्यों की हत्या में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादी शामिल थे, जिनमें से एक पाकिस्तानी नागरिक है। उन्होंने कहा कि यह पूर्व नियोजित हमला था और यदि सुरक्षाकर्मी चौकस रहते तो इसे टाला जा सकता था। यह सुरक्षा में चूक का मामला है।

09/07/2020

तब्लीगी जमात केसः सुप्रीम कोर्ट ने कहा- 'बोलने और अभिव्यक्ति की आजादी' का हाल में हुआ सबसे ज्यादा दुरुपयोग

सुप्रीम कोर्ट ने निजामुद्दीन मरकज घटना पर तब्लीगी जमात की रिपोर्टों के संदर्भ में कथित टीवी चैनलों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की याचिका पर गुरुवार को कहा कि हाल में 'बोलने और अभिव्यक्ति की आजादी' के अधिकार का सबसे ज्यादा दुरुपयोग हुआ है।

08/10/2020

स्वर्ण मंदिर में दर्शन कर सनी देओल ने भरा नामांकन

बॉलीवुड अभिनेता और बीजेपी उम्मीदवार सनी देओल ने पंजाब के गुरदासपुर से अपना नामांकन भरा। सनी के साथ उनके भाई बॉबी देओल, केंद्रीय मंत्री वीके सिंह और जितेंद्र सिंह मौजूद रहे।

29/04/2019