Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of May 2021
 
भारत

सदन में सदस्यों के व्यवहार से आहत स्पीकर ओम बिरला, दूसरे दिन भी नहीं कार्यवाही में नहीं हुए शामिल

Thursday, March 05, 2020 17:00 PM
ओम बिरला (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। लोकसभा में मंगलवार को कुछ सदस्यों के व्यवहार से आहत अध्यक्ष ओम बिरला गुरुवार को भी लगातार दूसरे दिन सदन में नहीं आए। बताया गया है कि बिरला सदन में सदस्यों के बर्ताव से बहुत क्षुब्ध हैं और इस वजह से सदन में नहीं आ रहे हैं। गुरुवार सुबह 11 बजे जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्षी सदस्य दिल्ली हिंसा पर तुरंत चर्चा कराने और गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग को लेकर नारे लगाते हुए आसन के करीब आ गए। पीठासीन उपाध्यक्ष भर्तृहरि महताब ने कहा कि वह पीठ की तरफ से सदन को बताना चाहते हैं कि कुछ सदस्यों के बर्ताव से अध्यक्ष महोदय बहुत दु:खी हैं और इसी वजह से वह सदन में नहीं आ रहे हैं। सदन में अध्यक्ष को जिस तरह से चुनौती दी जा रही है वह दुखद है और उससे दु:खी होना अध्यक्ष का अधिकार है। अध्यक्ष कुछ सदस्यों के व्यवहार को लेकर बहुत दु:खी हैं और यही कारण है कि वह सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं हो रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली हिंसा पर तत्काल चर्चा कराने की विपक्ष की मांग को लेकर मंगलवार को हुए भारी हंगामे के दौरान सदस्यों ने कागज फाड़कर अध्यक्ष के आसन की ओर फेंक दिए थे तथा विपक्ष और सत्ता पक्ष के सदस्यों के बीच जबरदस्त धक्का-मुक्की हुई। उस दिन सुबह दो बार स्थगन के बाद दोपहर दो बजे सदन की कार्यवाही जब शुरू हुई तो विपक्षी सदस्यों ने दिल्ली में हुए दंगों पर चर्चा कराने की मांग को लेकर हंगामा करना शुरू कर दिया। हंगामे के बीच ही बिरला ने सबसे पहले जरूरी कागजात सदन के पटल पर रखवाए। इसके बाद उन्होंने बैंककारी विनियमन (संशोधन) विधेयक, 2020 पेश करने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का नाम पुकारा। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी तथा विपक्ष के लगभग सभी सदस्यों ने खड़े होकर दिल्ली हिंसा पर चर्चा की मांग की। अध्यक्ष ने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है और होली के बाद 11 मार्च को इस पर चर्चा होगी। इस पर विपक्ष का हंगामा और बढ़ गया तथा विपक्षी सदस्य अध्यक्ष के आसन के करीब आ गए। कुछ विपक्षी सदस्य कागज फाड़कर आसन की तरफ उछालने लगे।

अध्यक्ष ने बिना चर्चा के ही विधेयक पारित कराने की कोशिश की और कुछ संशोधन ध्वनि मत से पारित भी करा दिए। विपक्ष ने इस पर सवाल उठाते हुए इसे गलत बताया। इसके बाद कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी सत्ता पक्ष की ओर जाकर अध्यक्ष के आसन के पास पहुंच गए। कुछ कहने के बाद वे वापस जा रहे थे, लेकिन महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी तथा सत्ता पक्ष की कुछ अन्य सदस्य इस बीच अपनी सीट छोड़कर रास्ते में आ चुकी थीं, जिसके कारण चौधरी अपनी सीट पर नहीं जा सके। विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद और सत्ता पक्ष के कुछ सदस्य चौधरी के लिए रास्ता बनाते हुए उन्हें पकड़कर वापस ले जाने लगे, लेकिन तब तक सत्ता पक्ष और विपक्ष के कई सदस्य आसन के समीप आ चुके थे। उनके बीच आपस में जबरदस्त धक्का-मुक्की हुई। दोनों तरफ के अन्य सदस्य भी अपनी-अपनी सीटों पर खड़े हो गए, जिससे सदन में भारी शोरगुल और हंगामा शुरू हो गया और बिरला ने कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी। सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दिए जाने के बावजूद दोनों पक्षों के सदस्य कुछ देर तक सदन में जमे रहे और उनके बीच जोर-जोर से तीखी नोंकझोंक जारी रही। मंगलवार की उस घटना के बाद से बिरला सदन में नहीं आए।

यह भी पढ़ें:

पश्चिम बंगाल: मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने व्हील चेयर पर किया रोड शो, बोलीं- घायल शेर ज्यादा खतरनाक

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चोट लगने के बाद पहली बार चुनाव प्रचार किया। वह गांधी मूर्ति मैदान में व्हीलचेयर से ही पहुंची।

14/03/2021

मॉब लिंचिंग की घटनाओं को पेश कर षड्यंत्र चलाया जा रहा है : मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने आरएसएस के स्थापना दिवस पर कहा कि मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं का इस्तेमाल देश को बदनाम करने के संदर्भ में नहीं किया जाना चाहिए।

08/10/2019

चण्डी प्रसाद भट्ट को दिया जाएगा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार सलाहकार समिति की बैठक हुई, जिसमें मनमोहन सिंह, कपिला वत्सायन, एके ऐंटॉनी और मोतीलाल सहित कई लोग मौजूद रहे।

11/10/2019

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिरी, सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है भाजपा

कर्नाटक की 14 माह पुरानी जनता दल (एस) और कांग्रेस गठबंधन सरकार मंगलवार को गिर गई जिसके साथ ही छह दिन तक चले सियासी नाटक का पटाक्षेप हो गया।

23/07/2019

देश में कोरोना के 54,736 नए मामले आए सामने

देश में कोरोना संक्रमण के पिछले 24 घंटों के दौरान 51 हजार से अधिक लोग संक्रमण मुक्त हुए है। इस दौरान 54,736 नए मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या साढ़े 17 लाख से अधिक हो गयी।

02/08/2020

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत

उच्चतम न्यायालय ने आईएनएक्स मीडिया निवेश के प्रवर्तन निदेशालय से जुड़े मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदम्बरम को गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान की है।

23/08/2019

कोविशील्ड की दूसरी डोज चार से आठ सप्ताह में लगाई जाए, केन्द्र सरकार ने राज्यों को लिखा खत

देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर फैलने की संभावना के बीच टीकाकरण अभियान को तेज करने के लिए मोदी सरकार ने राज्यों को खत लिखा है। खत में मोदी सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोविशील्ड की पहली डोज के बाद दूसरी खुराक 4 से 8 सप्ताह के बीच देने की सलाह दी है।

23/03/2021