Dainik Navajyoti Logo
Thursday 16th of July 2020
 
भारत

मैं चाहता हूं कि कांग्रेस उदारवादी दलों के साथ मिलकर फिर से सत्ता में वापस आए: थरूर

Thursday, August 29, 2019 12:30 PM
शशि थरूर (फाइल फोटो)

तिरुवनंतपुरम। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा करने के लिए तीखी आलोचनाओं का सामना कर रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं लोकसभा सांसद शशि थरूर ने फिर से उनकी तारीफ के पुल बांधते हुए कहा कि मोदी पूरे देश में अपना मत प्रतिशत 2014 के 31 फीसदी के मुकाबले 2019 में 37 प्रतिशत तक पहुंचा दिया है।

थरूर ने यह विचार मोदी की प्रशंसा को लेकर केरल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एम रामचंद्रन की ओर से जारी किये गये कारण बताओ नोटिस का जवाब देते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि पार्टी के तौर पर कांग्रेस को यह समझना चाहिए कि क्यों उसे महज 19 प्रतिशत वोट मिले।

थरूर ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रशंसा करने लायक बहुत कम काम किया है, लेकिन वह देश भर में अपना वोट प्रतिशत बढ़ाने में प्रभावी रहे है। उन्होंने कहा कि स्पष्ट रूप से मतदाताओं ने सोचा कि वह उनको कुछ दे रहे हैं। हमें इसे स्वीकार करने की आवश्यकता है, लेकिन इसकी सीमाओं को भी इंगित करें। थरूर ने कहा कि मोदी ने शौचालय बनाने के लिए कदम उठाए, लेकिन उनमें से 60 प्रतिशत में पानी नहीं है। उन्होंने गरीब ग्रामीण महिलाओं को गैस सिलेंडर दिया, लेकिन उनमें से 92 प्रतिशत दोबारा गैस नहीं भरवा सकती है।

थरूर ने कहा कि मैं चाहता हूं कि कांग्रेस, प्रगतिशील, धर्मनिरपेक्ष और उदारवादी दलों के साथ मिलकर फिर से सत्ता में वापस आए। इसके लिए हमें पिछले दो चुनावों में भाजपा पर भरोसा करने वालों के भरोसे और वोटों को वापस जीतने की जरूरत है। इससे यह पता चलेगा कि मोदी को किस चीज ने सबसे अधिक आकर्षित किया है। फिर, हमारी आलोचना की विश्वसनीयता अधिक होगी।

कांग्रेस नेता ने कहा कि जयराम रमेश और अभिषेक मनु सिंघवी ने मोदी के पक्ष में टिप्पणी सार्वजनिक मंचों पर की थी और मैं सोशल मीडिया पर टिप्पणियों का जवाब दे रहा था। उन्होंने कहा कि जैसा कि आप जानते हैं, मैं पार्टी के किसी अन्य फोरम का सदस्य नहीं हूं, जहां मैं अपने विचार व्यक्त कर सकता था। सार्वजनिक रूप से उठाए गए मुद्दों को सार्वजनिक रूप से निपटाया जाना चाहिए।

गौरतलब है कि रमेश और सिंघवी ने मोदी के कार्यों की सार्वजनिक तौर पर सराहना की थी, जिस पर थरूर ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। इसके बाद केरल प्रदेश कांग्रेस ने मोदी की सराहना के लिए थरूर से स्पष्टीकरण मांगा था, जिसकी सफाई उन्होंने फिर से विवादित अंदाज में दी है। इससे पहले केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने भी थरूर की तीखी निंदा की थी।

यह भी पढ़ें:

प्रियंका का मोदी पर हमला, ऐसा कमजोर पीएम नहीं देखा

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मोदी का बगैर नाम लिए कहा कि मैंने जिंदगी में इनसे कमजोर और कायर प्रधानमंत्री नहीं देखा।

10/05/2019

बिहार में पांच चिकित्सा टीमें भेजेगा केन्द्र

केन्द्र सरकार ने बिहार में मस्तिस्क ज्वर के इलाज में सहायता के लिए वरिष्ठ बाल रोग चिकित्सकों और अर्द्ध चिकित्साकर्मियों की पांच टीमें तत्काल मुजफ्फरपुर भेजने का निर्देश दिए हैं।

20/06/2019

हिम्मत है तो विपक्ष अपने घोषणा पत्र में लिखे, हम 370 को वापस लाएंगे : मोदी

महाराष्ट्र के भंडारा जिले के सकोली में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ‘बांटो और राज करो’ की राजनीति अब अतीत का हिस्सा हो चुकी है। जनता ने 2014 में इसका ट्रेलर दिखा दिया था और इस बार पूरी फिल्म दिखाएगी।

14/10/2019

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की 100 प्रतिशत VVPAT पर्ची मिलान की याचिका

100 प्रतिशत वीवीपैट पर्ची मिलान की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में जल्द सुनवाई से इनकार कर दिया है।

21/05/2019

हमारे पास सच्चाई और चीन के पास बंदूक की ताकत: दलाई लामा

दलाई लामा ने महाबोधि मंदिर में भगवान बुद्ध के दर्शन किए। वह 14 दिवसीय प्रवास पर मंगलवार को बोधगया पहुंचे है।

25/12/2019

अब FASTag के बिना गाड़ी का रजिस्ट्रेशन और फिटनेस नहीं, केंद्र सरकार ने जारी किए निर्देश

सरकार ने वाहनों का पंजीकरण करने या वाहन फिटनेस प्रमाण पत्र जारी करने से पहले उसका फास्टैग विवरण लेना अनिवार्य कर दिया है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने रविवार को जारी एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी और बताया कि नए वाहन का पंजीकरण करने या राष्ट्रीय परमिट वाले वाहनों के लिए फिटनेस प्रमाणपत्र जारी करने से पहले उनका फास्टैग विवरण लेना जरूरी किया गया है।

12/07/2020

कर्नाटक: मेंगलुरु रेलवे स्टेशन पर प्रवासी श्रमिकों ने दिया धरना, घर भेजने की मांग

कर्नाटक के मेंगलुरु में 700 से अधिक दिहाड़ी प्रवासी श्रमिकों ने राज्य सरकार से अपने घर लौटने के लिए सुविधा मुहैया कराने की मांग को लेकर शुक्रवार को धरना दिया। उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और अन्य राज्यों के प्रदर्शनकारी श्रमिक मुख्य रूप से दक्षिण कन्नड़ जिले से आए थे।

08/05/2020