Dainik Navajyoti Logo
Sunday 19th of September 2021
 
भारत

आपातकाल की बरसी पर PM मोदी का कांग्रेस पर निशाना, कहा- इमरजेंसी लगाकर लोकंतत्र को कुचला था

Friday, June 25, 2021 11:10 AM
नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। साल 1975 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा देश में लगाए गए आपातकाल की आज बरसी है। आपातकाल को भारत के इतिहास में काले दिनों के तौर पर याद किया जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरजेंसी की 46वीं बरसी पर उन काले दिनों को याद किया और कांग्रेस पर जमकर बोला। उन्होंने आपातकाल के दौरान भारतीय लोकतंत्र की रक्षा करने वाले देशवासियों को याद करते हुए कहा कि कांग्रेस ने आपातकाल लगाकर भारतीय लोकतंत्र को कुचल दिया था। मोदी ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस ने हमारे लोकतंत्र को कुचल दिया था। हम उन सभी महान व्यक्तियों को याद करते हैं, जिन्होंने आपातकाल का विरोध किया और भारतीय लोकतंत्र की रक्षा की। आपातकाल के काले दिनों को कभी भी नहीं भुलाया जा सकता। वर्ष 1975 से 1977 की अवधि इस बात की गवाह है कि संस्थानों को किस तरह से ध्वस्त किया गया। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि आइये हम भारत के लोकतंत्र की भावना को मजबूत बनाने के लिए हरसंभव प्रयास करने का संकल्प लें और हमारे संविधान में निहित मूल्यों को अपने जीवन में आत्मसात करें।

लोकतंत्र की हत्या हुई थी आज ही के दिन: शाह
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आपातकाल के दौरान संविधान और लोकतंत्र की रक्षा के लिए संघर्ष करने वाले देशवासियों के त्याग और बलिदान को नमन किया है। शाह ने 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लगाये जाने का उल्लेख करते हुए शुक्रवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा कि 21 महीनों तक निर्दयी शासन की क्रूर यातनाएं सहते हुए देश के संविधान व लोकतंत्र की रक्षा के लिए निरंतर संघर्ष करने वाले सभी देशवासियों के त्याग व बलिदान को नमन। एक अन्य ट्वीट में कहा कि 1975 में आज ही के दिन कांग्रेस ने सत्ता के स्वार्थ व अंहकार में देश पर आपातकाल थोपकर विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की हत्या कर दी। असंख्य सत्याग्रहियों को रातों रात जेल की कालकोठरी में कैदकर प्रेस पर ताले जड़ दिए। नागरिकों के मौलिक अधिकार छीनकर संसद व न्यायालय को मूकदर्शक बना दिया। एक परिवार के विरोध में उठने वाले स्वरों को कुचलने के लिए थोपा गया आपातकाल आजाद भारत के इतिहास का एक काला अध्याय है।

आपातकाल लोकतंत्र के इतिहास का काला अध्याय: राजनाथ
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आपातकाल को भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का काला अध्याय करार देते हुए कहा कि वह दौर अभी भी लोगों की स्मृतियों में ताजा है। सिंह ने ट्वीट कर कहा कि भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में आपातकाल एक 'काले अध्याय' के रूप में जाना जाता है। देश की लोकतांत्रिक परम्पराओं पर कुठाराघात करने के लिए जिस तरह संविधान का दुरुपयोग हुआ उसे कभी भूला नहीं जा सकता। आज भी वह दौर हम सभी की स्मृतियों में ताजा है। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि इस दौरान लोकतंत्र की रक्षा के लिए देश में आंदोलन भी हुए और लोगों ने न जाने कितनी यातनाएं सही। उनके त्याग, साहस और संघर्ष को हम आज भी स्मरण करते हैं और प्रेरणा प्राप्त करते हैं। लोकतंत्र की रक्षा में जिन लोगों की भी भूमिका रही है, मैं उन सभी को नमन और अभिनंदन करता हूं।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

आर्टिकल 35 ए पर बोली महबूबा, सभी दल हो एकजुट

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से मुलाकात की है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि वह नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से भी मिलें और उन्हें समझाएं कि हमें एक साथ आना होगा।

31/07/2019

सीएए को लेकर याचिकाओं की जल्द सुनवाई करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को चुनौती देने वाली याचिकाओं की सुनवाई जल्द करने की मांग ठुकरा दी। कोर्ट ने कहा कि सबरीमला मामले में महिला अधिकार बनाम धार्मिक परंपरा मामले की सुनवाई के बाद इसे सुना जाएगा।

05/03/2020

कुमारस्वामी सरकार रहेगी या गिरेगी

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार बहुमत साबित करेगी। राज्य के बसपा के इकलौते विधायक एन महेश फ्लोर टेस्ट में शामिल नहीं होंगे।

22/07/2019

एमएसपी की घोषणा नहीं, फसल की खरीद से होगा किसान का फायदा: कांग्रेस

केंद्र सरकार द्वारा खरीफ की फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाए जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) घोषित होने से किसान का फायदा नहीं होगा बल्कि इसके लिए फसल की खरीद जरूरी है और सरकार जिस तरह के कदम उठा रही है, उससे 10 साल तक भी किसान की आय दोगुनी नहीं होने वाली नहीं है।

02/06/2020

PSA के तहत उमर अब्दुल्ला की हिरासत का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, बहन सारा ने दायर की याचिका

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत हिरासत का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया। अब्दुल्ला की बहन सारा पायलट ने गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका दायर की है।

10/02/2020

संयुक्त राष्ट्र ने की विश्व के नेताओं से तनाव कम करने की अपील

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने विश्व के नेताओं से अपील की है कि वे अमेरिकी कार्रवाई में ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या से उत्पन्न भू-राजनीतिक तनाव को कम करने की दिशा में कदम उठाएं।

07/01/2020

एक दिन की स्थिरता के बाद फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, पेट्रोल 7 पैसे और डीजल 15 पैसे महंगा

पेट्रोल-डीजल के दाम एक दिन स्थिर रहने के बाद गुरुवार को एक बार फिर बढ़ गए। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में पेट्रोल गुरुवार 7 पैसे महंगा होकर 75.81 रुपए प्रति लीटर और डीजल 15 पैसे चढ़कर 68.94 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया।

09/01/2020