Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of May 2021
 
भारत

बापू को नमन कर PM मोदी ने की आजादी के अमृत महोत्सव की शुरुआत, दांडी यात्री को दिखाई हरी झंडी

Friday, March 12, 2021 14:15 PM
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी।

अहमदाबाद। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के नमक सत्याग्रह के 91 वर्ष पूरे होने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को आजादी की 75वीं वर्षगांठ से संबंधित 'आजादी का अमृत महोत्सव' कार्यक्रम के राष्ट्रव्यापी आयोजन की शुरुआत की। अमृत महोत्सव 12 मार्च 2021 से 15 अगस्त 2023 तक चलेगा। इस दौरान उन्होंने ऐतिहासिक दांडी मार्च की स्मृति में अहमदाबाद से नवसारी के दांडी तक 386 किलोमीटर की पदयात्रा को रवाना किया। इस यात्रा में शामिल 81 लोग 386 किमी की यात्रा कर 5 अप्रैल को दांडी पहुंचेंगे। प्रधानमंत्री ने आजादी के अमृत महोत्सव की एक वेबसाइट लॉन्च की, साथ ही कार्यक्रम स्थल में एक बड़े चरखे का भी अनावरण किया।

इस मौके पर अपने संबोधन में आजादी के संग्राम की विस्तार से चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अपने गौरवशाली अतीत पर गर्व करने वाले भारत  की क्षमता और प्रतिभा की गूंज आज हर तरफ है। उन्होंने इस अवसर पर अपने सम्बोधन में यह भी कहा कि आने वाले समय में भारत एक बार फिर विश्वगुरु बन कर दुनिया को रास्ता दिखाएगा। आज हम इतिहास बनते देख रहे हैं और इसका हिस्सा भी बन रहे हैं। 15 अगस्त 2022 को आजादी के 75 साल पूरा होने से 75 सप्ताह पूर्व शुरू हुआ अमृत महोत्सव 2023 के 15 अगस्त तक चलेगा। इसका आयोजन जलियांवाला बाग, सेल्युलर जेल समेत देश भर में आजादी की लड़ाई से जुड़े कई स्थानों पर हो रहा है। वह आजादी के संग्राम में आहुति देने वालों को नमन करते हैं।

मोदी ने कहा कि भारत के पास गौरवशाली विरासत और गर्व करने वाले अतीत का विशाल भंडार है और साथ ही आजाद भारत की गौरवान्वित करने वाली प्रगति भी है। स्वाभिमान और बलिदान की परम्परा से अगली पीढ़ी को भी अवगत करना है क्योंकि राष्ट्र का भविष्य तभी उज्जवल होता है जब वह अपने अतीत के अनुभवों से जुड़ा रहता है। इस मौके पर उन्होंने आजादी की लड़ाई के नायकों पंडित नेहरु, सरदार पटेल आदि के साथ ही साथ कई अन्य का स्मरण किया। मोदी ने कहा कि आज दुनिया के हर मंच पर भारत के क्षमता और प्रतिभा की गूंज है। आज भारत आगे बढ़ रहा है। कोरोना काल में यह सिद्ध हो गया है। भारत के पास अपना टीका है और यह मानववता को इस महामारी से बाहर निकालने में लगा है। किसी को भी दु:ख नहीं देने वाला भारत सबका दु:ख दूर करने में लगा है। दुनिया के देश इस पर भरोसा कर रहे हैं। यह एक सूर्योदय काल है।

प्रधामंत्री ने आजादी के 75वें साल के आयोजन के मौके पर लोगों, छात्रों, शिक्षण संस्थानों से भी इससे जुड़ने और इसके बारे में जागरूकता फैलाने का आह्वान किया। अपने संबोधन में दांडी यात्रा की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे यहां नमक को कभी उसकी कीमत से नहीं आंका गया। भारत में नमक वफादारी, विश्वास और सम्मान का प्रतीक माना जाता है। हम आज भी कहते हैं कि हमने देश का नमक खाया है, ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि नमक कोई बहुत कीमती चीज है। ऐसा इसलिए क्योंकि नमक हमारे यहां श्रम और समानता का प्रतीक है। प्रधानमंत्री ने कहा कि किसी राष्ट्र का भविष्य तभी उज्ज्वल होता है, जब वो अपने अतीत के अनुभवों और विरासत के गर्व से पल-पल जुड़ा रहता है। फिर भारत के पास तो गर्व करने के लिए अथाह भंडार है, समृद्ध इतिहास है, चेतनामय सांस्कृतिक विरासत है। पीएम मोदी ने कहा कि गुलामी के दौर में करोड़ों लोगों ने आजादी की सुबह का वर्षों तक इंतजार किया था, ऐसे में यह स्वतंत्रता के 75 वर्षों के उत्सव को और भी महत्वपूर्ण बना देता है।

इससे पहले मोदी ने साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी की प्रतिमा और परिसर में उनके तत्कालीन आवास हृदय कुंज में उनके तैलचित्र पर पारम्परिक रूप से सूत की माला से माल्यार्पण किया। उन्होंने आश्रम की आगंतुक पुस्तिका में लिखा कि आश्रम आकर वह धन्यता का अनुभव करते हैं, त्याग तपस्या की भावना जागती है और राष्ट्र निर्माण का संकल्प मजबूत होता है। महोत्सव के दौरान मुख्य कार्यक्रम में कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया, जिसमें देश भर के कलाकारों ने अलग अलग भाषाओं में मनमोहक प्रस्तुतियां भी दी। इस अवसर राज्यपाल आचार्य देवव्रत, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, केंद्रीय पर्यटन एवं सांस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रहलाद सिंह पटेल, सांसद और गुजरात भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल, आश्रम के न्यासी कार्तिकेय साराभाई, अमृत मोदी और डॉ. सुदर्शन आयंगर उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें:

UPSC: 12वीं में 60 प्रतिशत लाने वाले जुनैद तीसरे स्थान पर

तीसरे स्थान पर रहने वाले जुनैद अहमद यूपी के नगीना कस्बे के नगीना बन गए हैं। जुनैद बताते हैं कि एक मध्यम वर्गीय मुस्लमि परिवार से हूं। शुरू से पढ़ाई में भी औसत छात्र ही रहा।

06/04/2019

किसानों का भारत बंद: कई राज्यों में विपक्ष का प्रदर्शन, कई जगह ट्रेनें रोकी, सड़कों पर जलाए टायर

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन के दौरान किसान संगठनों की ओर से मंगलवार को भारत बंद का आह्वान किया गया है। प्रदर्शन के तहत सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक चक्का जाम रहेगा। आवश्यक सेवाओं को बंद से मुक्त रखा गया है। किसान संघों के राष्ट्रव्यापी बंद के आह्वान को राजनीतिक पार्टियों और कुछ मजदूर संघों ने समर्थन दिया है।

08/12/2020

डीजल और पेट्रोल के दाम न बढ़े वह अच्छा दिन : प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर हमला करते हुये कहा कि भाजपा सरकार को सप्ताह के उस दिन का नाम अच्छा दिन कर देना चाहिए, जिस दिन डीजल-पेट्रोल के दामों में बढ़ोत्तरी न हो।

20/02/2021

जमानत के लिए सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर रोक की शर्त की समीक्षा करेगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार करेगा कि क्या किसी व्यक्ति को जमानत की शर्तोँ के तहत सोशल मीडिया के इस्तेमाल से रोका जा सकता है। सचिन चौधरी की याचिका सुनवाई के लिए स्वीकार करते हुए कोर्ट ने कहा कि वह इस महत्वपूर्ण बिंदु पर विचार करेगी कि क्या जमानत की शर्तों में सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर प्रतिबंध को शामिल किया जा सकता है, खासकर तब जब उस व्यक्ति के खिलाफ सोशल मीडिया के दुरुपयोग का कोई आरोप नहीं है।

10/07/2020

दिल्ली में मोदी के नेतृत्व में बनेगी भाजपा की सरकार : अमित शाह

भाजपा अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार गठन का पूरा विश्वास व्यक्त करते पार्टी के कार्यकर्ताओं से घर-घर संपर्क और मोहल्लों में छोटी-छोटी बैठकें करने के लिए जुट जाने का आह्वान किया।

05/01/2020

स्‍वतंत्रता दिवस पर लद्दाख के सांसद ने परंपरागत लिबास में किया डांस

स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर ले‍ह में कार्यक्रम में बीजेपी सांसद जामयांग सेरिंग नामगयाल लद्दाख के परंपरागत लिबास में नजर आए।

16/08/2019

किसानों की ट्रैक्टर रैली को लेकर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी, दिल्ली में कौन आएगा या नहीं, पुलिस तय करे

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ ट्रैक्टर रैली पर रोक संबंधी याचिका की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई बुधवार तक के लिए टल गई है। दिल्ली पुलिस की याचिका सोमवार को मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे की अध्यक्षता वाली 3 सदस्यीय खंडपीठ के समक्ष सुनवाई के लिए सूचीबद्ध थी, लेकिन न्यायमूर्ति बोबडे ने कहा कि किसान आंदोलन की सुनवाई करने वाली बेंच ही इस मामले की सुनवाई करेगी।

18/01/2021