Dainik Navajyoti Logo
Thursday 22nd of April 2021
 
भारत

परीक्षा पे चर्चा-2021: मोदी सर की ऑनलाइन क्लास, कहा- परीक्षा केन्द्र में जाने से पहले बाहर छोड़ दें टेंशन

Thursday, April 08, 2021 09:35 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्टूडेंट्स, पैरेंट्स एवं टीचर्स से चर्चा की।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को परीक्षा पे चर्चा-2021 में ऑनलाइन इंटेरैक्शन के दौरान देश भर के 14 लाख रजिस्टर्ड स्टूडेंट्स, पैरेंट्स एवं टीचर्स से चर्चा की। छात्रों और शिक्षकों ने डिजिटल मोड में मोदी से सवाल पूछे रहे हैं। सवालों के जवाब में पीएम ने कहा कि परीक्षा को लेकर तनाव न लें। परीक्षा से डरना नहीं चाहिए। बच्चों की सहज एवं तनावमुक्त रखना है। देश भर के स्कूलों में सीनियर कक्षाओं 9वीं से लेकर 12वीं तक के छात्रों के लिए आयोजित होने वाली वार्षिक एवं बोर्ड परीक्षाओं को लेकर होने वाले तनाव को लेकर प्रधानमंत्री ने कई महत्वपूर्ण टिप्स दिए।

एक पैरैंट्स के पूछे गए सवाल के जवाब में मोदी ने कहा कि पैरेट्स को चेक करना चाहिए कि कहीं आप अपने विचार व्यवहार से बच्चों पर कितना असर हो रहा है। बच्चों को देने वाले मूल्यों को जीकर उन्हें प्रेरित करने का प्रयास करें। आपके आचार-व्यवहार से बच्चे सीखते हैं। एक अन्य पैरेंट्स द्वारा बच्चों को मोटिवेट करने के उपाय के लिए मांगे गए टिप्स को लेकर पीएम ने कहा कि बच्चे बहुत एक्टिव होते हैं। हमे बड़े होने के बावजूद अपना मूल्यांकन करना चाहिए। हम एक सामाजिक ढांचा बना देते हैं और कोशिश करते हैं बच्चे उसी में ढल जाएं। बच्चों को मोटिवेट करने का तरीका है ट्रेनिंग। ट्रेनिंग के लिए अच्छी किताबें, मूवी या अच्छी कविता का सहारा लिया जा सकता है। यदि आप चाहते हैं कि बच्चा सुबह उठकर पढ़ें, बच्चे सामने ऐसी चर्चा करें कि सुबह उठने के क्या फायदे हैं।

ये भी दिए टिप्स
-परीक्षा आखिरी पड़ाव नहीं है।
-परीक्षा में समय को बराबर-बराबर बांटना चाहिए।
-एग्जाम हॉल में जाते समय सारी टेंशन को बाहर छोड़ देना चाहिए।
-जो लोग सफल होते हैं वे सभी विषयों में पारंगत नहीं होते, बल्कि वे किसी एक विषय में निपुण होते हैं। इसलिए किसी एक विषय में महारथ हासिल करें।
-शिक्षक छात्रों को टोकने की बजाय उन्हें गाइड करें।
-परीक्षा के दौरान आसान सवाल पहले हल करें, इससे तनाव कम होगा और आत्म-विश्वास बढ़ेगा।
-बच्चों में कभी भी भय पैदा न करें। ऐसा आसान लगता है लेकिन इससे निगेटिव मोटिवेशन की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।
-टीचर के कहने का बच्चों पर अधिक असर होता है।
-याद करने की बजाय जीने की कोशिश करनी चाहिए।
-बच्चों को सकारात्मक प्रेरणा देते रहना चाहिए।
-बच्चों को अपने सपने को लेकर बैठना नहीं चाहिए, बल्कि उसक लिए सतत प्रयास करने चाहिए।

यह भी पढ़ें:

डिनर में जुटेंगे NDA के दिग्गज नेता, नरेन्द्र मोदी करेंगे अगवानी

लोकसभा के चुनावी दंगल में मतदान समाप्त होने के बाद 23 मई को आने वाले नतीजों से पहले सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेताओं के बीच बैठकों का दौर जारी हो गया है।

21/05/2019

सुरंग में फंसे लोगों को निकालने का किया जा रहा है कार्य

उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से हुई त्रासदी के कारण सुरंग में लोग फंस गए थे। उन्हें निकालने का कार्य किया जा रहा है। आटीबीपी, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ सुरंग में रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही है।

10/02/2021

केरल में बीजेपी ने ई श्रीधरन को बनाया मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार

भारतीय जनता पार्टी ने केरल विधानसभा चुनाव के लिए मेट्रो मैन ई श्रीधरन को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है। श्रीधरन ने कहा कि वह दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन से इस्तीफा देने के बाद चुनाव का नामांकन भरेंगे।

04/03/2021

fgfgf

gfgfgf

10/11/2016

प्रधानमंत्री मोदी बच्चों के साथ देखेंगे चंद्रयान-2 के चांद पर उतरने के ऐतिहासिक क्षण

चंद्रयान-2 लैंडर विक्रम अपने साथ रोवर प्रज्ञान को लेकर रात डेढ़ बजे से ढाई बजे के बीच चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा।

06/09/2019

केंद्रीय कर्मचारियों का डीए काटने का निर्णय अमानवीय और असंवेदनशील: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी आजकल केन्द्र की मोदी सरकार पर निशाना साधने का कोई भी मौका नहीं चूक रहे हैं। राहुल गांधी ने केन्द्रीय कर्मचारियों एवं पेंशनभोगियों का मंहगाई भत्ता काटने के निर्णय को अमानवीय और असंवेदनशील बताया है। उन्होंने कहा कि सरकार का कोरोना वायरस से निपटने का यह तरीका ठीक नहीं है।

24/04/2020

राफेल डील पर याचिकाकर्ताओं ने दाखिल किया हलफनामा

सुप्रीम कोर्ट में राफेल डील में रिव्यू पीटिशन दाखिल करने वाले याचिकाकर्ताओं ने अपना हलफनामा दाखिल किया है।

09/05/2019