Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 2nd of March 2021
 
भारत

आरटीआई के दायरे में आएंगे सरकारी मदद लेने वाले एनजीओ, स्कूल-कॉलेज

Thursday, September 19, 2019 09:20 AM
फाइल फोटो

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसले में कहा कि ऐसे गैर सरकारी संगठन आरटीआई एक्ट के दायरे में आएंगे, जिन्हें सरकार से भारी आर्थिक मदद मिलती है। जस्टिस दीपक गुप्ता और अनिरुद्ध बोस की पीठ ने कहा कि ये एनजीओ आरटीआई एक्ट, 2005 की धारा 2 एच के तहत सार्वजनिक प्राधिकार माने जाएंगे और सूचना देने के लिए बाध्य होंगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि स्कूल, कॉलेज या अस्पताल, जो सरकार से प्रत्यक्ष या रियायती दर पर जमीन के रूप में अप्रत्यक्ष मदद लेने वाले संस्थान भी आरटीआई के तहत लोगों को सूचना देने के लिए बाध्य हैं।

कोर्ट ने कहा कि अगर एनजीओ या अन्य संस्थान सरकार से पर्याप्त मात्रा में वित्तीय मदद हासिल करते हैं, तो हमें कोई ऐसा कारण नहीं नजर आता कि क्यों कोई नागरिक यह जानकारी नहीं मांग सकता कि एनजीओ या अन्य संस्थानों को दिए गए उसके पैसे का सही इस्तेमाल हो रहा है या नहीं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आरटीआई कानून सार्वजनिक लेन-देन में पारदर्शिता लाने और सार्वजनिक जीवन में शुचिता लाने के लिए लाया गया था। कोर्ट ने कहा कि हमें यह मानने में कोई संकोच नहीं है कि सरकार द्वारा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से बड़ी मात्रा में कोष प्राप्त करने वाला एनजीओ या अन्य संस्थान एक सार्वजनिक प्राधिकार होगा, जो आरटीआई कानून के प्रावधानों के अधीन होगा।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के सामने यह मुद्दा आया था कि क्या सरकार से पैसे लेने वाले एनजीओ 2005 के आरटीआई एक्ट के प्रावधानों के तहत सार्वजनिक प्राधिकरण के दायरे में आते हैं या नहीं। कई स्कूलों, कॉलेजों और इन शैक्षणिक संस्थानों को चलाने वाले संस्थानों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर यह दावा किया था कि एनजीओ आरटीआई एक्ट के दायरे में नहीं आते हैं।
 

यह भी पढ़ें:

कांग्रेस से कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर समझौता, विचारधारा पर नहीं: उद्धव

वीर सावरकर को लेकर राहुल गांधी की ओर से दिए बयान पर महाराष्ट्र की सियासत में बवाल जारी है। उद्धव ने कहा कि सावरकर के मुद्दे पर शिवसेना का स्टैंड आज भी वही है, जो महाराष्ट्र की सरकार बनने से पहले था।

16/12/2019

तमिल सांसदों को अपनी भाषा में सवाल पूछने की नहीं दी अनुमति, राहुल गांधी ने की आलोचना

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला द्वारा तमिलनाडु के सांसदों को अपनी भाषा मे सवाल पूछने देने की अनुमति नहीं देने की आलोचना करते हुए कहा कि यह लोकतांत्रिक अधिकारों का उल्लंघन है। मोदी सरकार में केवल एकतरफा संवाद चल रहा है। हम लोग कुछ पूछ नहीं सकते।

17/03/2020

एक वोटर के लिए 480 किलोमीटर जंगल की यात्रा कर लगाया था पोलिंग बूथ

यह मामला अरुणाचल प्रदेश का है, जहां मालोगाम इलाके में पहुंचकर चुनाव आयोग की टीम ने यह साहसिक काम किया

19/06/2019

मेरा मकसद है, भ्रष्टाचार हराना और दिल्ली को आगे ले जाना: केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में मेरा मकसद है, भ्रष्टाचार हराना और दिल्ली को आगे ले जाना।

21/01/2020

मोटर व्हीकल एक्ट में बदलाव, बिना हेलमेट और शराब पीकर चलाने पर 10 हजार रुपए जुर्माना

मोटर व्हीकल एक्ट में बदलाव कर मोटर व्हीकल संशोधन बिल लोकसभा में पास हो गया है। एक्ट में बदलाव के बाद ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर अधिक ज्यादा सजा होगी और जुर्माना भी अधिक लगेगा।

27/07/2019

क्या आप जानते हैं कि नागरिक संशोधन कानून का NRC से कोई संबंध नहीं है, पढ़िए पूरा सच

क्या आप जानते हैं कि नागरिक संशोधन कानून का NRC से कोई संबंध नहीं है, पढ़िए इसका पूरा सच ताकि आप इन कानून को लेकर भ्रमित न हों।

19/12/2019

आईपीसी और सीआरपीसी में बदलाव की कवायद कर रही केन्द्र सरकार: अमित शाह

केन्द्र की मोदी सरकार भारतीय दंड संहिता और अपराध प्रक्रिया संहिता में बदलाव की कवायद कर रही है। इसके लिए केन्द्र की ओर से सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों, केन्द्र शासित राज्यों के उप-राज्यपालों से सुझाव मांगे गए हैं।

05/12/2019