Dainik Navajyoti Logo
Sunday 13th of June 2021
 
भारत

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला का युवाओं से आह्वान, देश सर्वोपरि के मंत्र को बनाएं अपने व्यक्तित्व का अंग

Monday, January 11, 2021 14:55 PM
ओम बिरला ने किया राष्ट्रीय युवा संसद का उद्घाटन।

नई दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने देश के नवयुवाओं का आह्वान किया कि वे नए भारत के निर्माण में समर्पण एवं निष्ठा से योगदान करें और देश सर्वोपरि के मंत्र को अपने व्यक्तित्व का अंग बनाएं। बिरला ने संसद भवन के केन्द्रीय कक्ष में खेल एवं युवा मामलों के मंत्रालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय युवा संसद का उद्घाटन करने के बाद समारोह को संबोधित करते हुए यह कहा। इस मौके पर खेल एवं युवा मामलों के केन्द्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) किरन रिजीजू भी उपस्थित थे। स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन के मौके पर आयोजित राष्ट्रीय युवा संसद 11 एवं 12 जनवरी को चलेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंगलवार को समापन समारोह को संबोधित करेंगे। बाद में उन्होंने युवाओं के साथ सामूहिक तस्वीर भी खिंचवायी और उनसे अनौपचारिक बातचीत भी की।

बिरला ने नवयुवाओं को वर्तमान संसद भवन के महत्व की जानकारी देते हुए कहा कि संसद भवन के ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष में 14-15 अगस्त 1947 की मध्य-रात्रि को हमारे देश ने ब्रिटिश राज से स्वतंत्रता की प्राप्ति की थी। यह भवन ऐसी कितनी ही ऐतिहासिक घटनाओं का साक्षी रहा है। इसी केंद्रीय कक्ष में आजादी के बाद भारत के संविधान निर्माताओं ने भारत का संविधान बनाया था जो आज भी हमारा मार्गदर्शन कर रहा है। उन्होंने कहा कि संविधान निर्माताओं ने जनता को केंद्र में रखकर संविधान का निर्माण किया था और एक लोकतांत्रिक गणराज्य की नींव रखी थी। उनकी भावना थी कि जनता से चुनी हुई सरकारें देश की प्रगति के लिए और देश की आम जनता के कल्याण के लिए काम करें।  

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि बीते सात दशकों में इस देश में बहुत परिवर्तन हुए और यह संसद का भवन इन परिवर्तनों का साक्षी है जहां पर हमारे चुने हुए प्रतिनिधियों ने देश के लिए योगदान दिया और देश को आगे बढ़ाने के लिए संकल्पित होकर काम किया। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के पूर्व की परिस्थिति के अनुसार युवाओं ने अपना बलिदान देकर देश को आजाद कराया था। इसी भावना से नौजवानों ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया था। उनके प्रयासों से ही हमें आजादी मिली। लेकिन आज देशसेवा के लिए हमारे दायित्व कुछ और हैं, हमारे कर्तव्य भिन्न हैं। आज का दौर इस देश के नवनिर्माण का है, देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का है। नए भारत के निर्माण में अपनी सक्रिय भागीदारी निभाने का है। अब नई तकनीक, नई सोच, नए विचार एवं नवाचारों के साथ हम सबको देश को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाना है।

उन्होंने कहा कि अपनी बौद्धिक क्षमता और अपार ऊर्जा के बल पर आज भारत का नौजवान पूरे विश्व में अलग-अलग क्षेत्रों में नेतृत्व की भूमिका में है। इसी ऊर्जा और इसी क्षमता के साथ हमें नए भारत और 'आत्मनिर्भर भारत' के निर्माण को संकल्पित होना है। इसलिए हमारे संस्कारों, हमारे विचारों में समाहित लोकतंत्र को और मजबूत करने की आवश्यकता है। हम जिस भी क्षेत्र में रहें, जो भी दायित्व निभाएं उसके मूल में देश की उन्नति एवं देशवासियों का कल्याण होना चाहिए। हमारा प्रयास रहना चाहिए कि हमारा प्रत्येक निर्णय आखिरी पायदान पर खड़े अंतिम व्यक्ति के कल्याण की ओर लक्षित हो। बिरला ने कहा कि आपके हर प्रयास में, हर कार्य के केंद्र में यह भावना होनी चाहिए कि मैं अपने देश को कैसे आगे बढ़ाऊं, देश के नवनिर्माण में मेरा क्या योगदान हो। जब हम इस भावना के साथ देश के नवनिर्माण का कार्य करेंगे, तब ही यह देश विश्व में सफलता के नए शिखर छुएगा। यह समर्पण एवं निष्ठा का भाव हमारे व्यक्तित्व का अंग बन जाना चाहिए।

बिरला ने कहा कि देश के नौजवान जो भी काम करें, जिस भी क्षेत्र में काम करें, उसमें देश मेरे लिए प्रथम है, यह भाव मन में सदैव होना चाहिए। मुझे पूरा विश्वास है कि देश की यह विशाल युवा शक्ति, नए भारत का निर्माण करेगी। आने वाले समय में हमारे नौजवानों की बौद्धिक क्षमता, तकनीकी ज्ञान और कुशल मानव संसाधन के बल पर भारत, विश्व गुरू के रूप में दुनिया का नेतृत्व करेगा। उनके इस प्रयास को लोकतांत्रिक व्यवस्था ही ऊर्जा देगी। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि लोकतंत्र में हम अपने विचारों और अनुभवों को साझा करते हैं। उन पर वाद-विवाद और विमर्श करते हैं तथा व्यापक चर्चा के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचते हैं। यही लोकतांत्रिक व्यवस्था की ताकत है जो सबको अपने मत को प्रकट करने का अधिकार देती है। हमारे लोकतंत्र की विशेषता है कि यहां जनप्रतिनिधि अलग-अलग क्षेत्रों से चुनकर आते हैं। उनकी बोली, भाषा, खान-पान तथा राजनीतिक प्रतिबद्धताएं भी अलग होती है लेकिन इन सभी विविधताओं के बाद भी राष्ट्रीय एकता और देश हित के विषय पर हम सब एक हैं। हमारा प्रत्येक निर्णय देशहित में होता है।

उन्होंने कहा कि संविधान निर्माताओं की दूरदर्शिता और देश के लिए विजन था कि आज हमारे देश की सात दशकों की यात्रा में भारत का लोकतंत्र निरंतर मजबूत हुआ है, सशक्त हुआ है, समृद्ध हुआ है। लोकतंत्र के प्रति लोगों का विश्वास और भरोसे में लगातार वृद्धि हुई है। यही कारण है कि देश में अब तक 17 आम चुनाव हुए हैं, 300 से भी अधिक विधानसभा के चुनाव हुए हैं और हर चुनाव में मतदान का प्रतिशत बढ़ा है। विशेष रूप से लोकतंत्र के उत्सव में नौजवानों की भागीदारी ने इस विश्वास और भरोसे को और बढ़ाया है। बिरला ने कहा कि इस मंच पर आप देश के अलग-अलग गांवों से, अलग-अलग स्थानों से आए हैं। आप युवा सांसद के रूप में देश के अलग-अलग क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। जो भी युवा उपस्थित हैं उनके दिलों में देश सर्वोपरि की भावना है, उनकी आत्मा और विचारों में लोकतंत्र है। आज आप यहां पर सामूहिक रूप से इसी बात पर मंथन करेंगे कि हम देश की सभी लोकतांत्रिक संस्थाओं को मजबूत करते हुए देश को कैसे आगे बढ़ाएं।

उन्होंने कहा कि मुझे आशा है कि यह युवा संसद उसी भावना से काम करेगी। आपकी जिम्मेदारी आज के बाद और बढ़ जाएगी। आज जब यहां से अपने क्षेत्र में वापस लौटें तो यहां से लोकतंत्र के सशक्तिकरण और देश सर्वोपरि का संकल्प और संदेश लेकर जाएं। आज राष्ट्र सेवा के लिए यही आपका दायित्व भी है और कर्तव्य भी है। यह बात हमारे मन में हमेशा होनी चाहिए कि हम रहें न रहें, देश रहेगा और देश में लोकतंत्र रहेगा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

केंद्र सरकार ने जारी की कोविड-19 वित्तीय पैकेज की 890.32 करोड़ रुपए की दूसरी किस्त

केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर स्वास्थ्य संबंधी ढांचागत तैयारियों तथा आपात प्रबंधन के लिए देश के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 890.32 करोड़ रुपये की दूसरी किस्त जारी की है। राज्यों में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या के आधार पर वित्तीय पैकेज का वितरण होगा।

06/08/2020

झारखंड चुनाव : कांग्रेस ने जारी की पहली लिस्ट, 5 उम्मीदवारों का ऐलान

कांग्रेस ने झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए पांच उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की है। कांग्रेस चुनाव समिति के प्रमुख मुकुल वासनिक ने रविवार को जारी विज्ञप्ति में यह जानकारी दी।

10/11/2019

सेवानिवृत्त न्यायाधीश पटनायक करेंगे बैंस के दावे की जांच

उच्चतम न्यायालय ने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर लगे यौन उत्पीड़न के मामले को साजिश बताने के वकील उत्सव बैंस के दावे की जांच के लिए गुरुवार को न्यायालय ने सेवानिवृत्त न्यायाधीश एके पटनायक के नेतृत्व में एक समिति नियुक्त की।

26/04/2019

कोरोना: 24 घंटे में आए करीब 12 हजार नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 8 लाख 38 हजार के पार

देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के 11,831 नए मामले सामने आए। हालांकि स्वस्थ होने वालों की संख्या अपेक्षाकृत अधिक रहने से सक्रिय मामलों में गिरावट रही। इस बीच देश में अब तक 58 लाख 12 हजार 362 लोगों का कोविड-19 टीकाकरण किया जा चुका है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1 करोड़ 8 लाख 38 हजार से अधिक हो गया है।

08/02/2021

6 महीने में पहली बार घटे रसोई गैस के दाम, बिना सब्सिडी वाला सिलेंडर 53 रुपए सस्ता

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतों में भारी गिरावट के बीच तेल कंपनियों ने रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में कटौती की है। देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार दिल्ली में 14.2 किलोग्राम का बिना सब्सिडी वाला घरेलू रसोई गैस सिलेंडर 53 रुपए सस्ता होकर 805.50 रुपए का रह गया है।

01/03/2020

लव जिहाद कानून से बेरोजगारी और गरीबी खत्म हो तो हमें कोई दिक्कत नहीं: दिग्विजय सिंह

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने लव जिहाद कानून को लेकर कहा है कि यदि इससे बेरोजगारी, पिछड़ापन और गरीबी खत्म हो जाए तो हमें कोई दिक्कत नहीं। दिग्विजय सिंह ने भाजपा सरकार पर प्रमुख मुद्दों से ध्यान भटकाने का आरोप लगाते हुए कहा कि आज जो समस्याएं हैं, सरकार उन पर ध्यान क्यों नहीं दे रही है।

01/12/2020

सायरस मिस्त्री की बहाली के NCLAT के आदेश के खिलाफ टाटा संस पहुंची सुप्रीम कोर्ट

टाटा संस ने राष्ट्रीय कंपनी कानून अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) के उस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है जिसमें सायरस मिस्त्री को टाटा संस के कार्यकारी अध्यक्ष पद पर बहाल करने का आदेश दिया गया है।

02/01/2020