Dainik Navajyoti Logo
Saturday 6th of March 2021
 
भारत

कोरोना वैक्सीनेशन: संक्रमण की रिस्क मंजूर, वैक्सीन नामंजूर, 1.17 लाख हेल्थ वर्कर्स ने नहीं ली पहली डोज

Tuesday, February 23, 2021 10:35 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वैक्सीनेशन को शुरू हुए एक माह से ज्यादा हो चुका है, लेकिन हेल्थ वर्कर्स में वैक्सीन लगवाकर कोरोना को हराने की जगह वैक्सीन से बीमार होने का भय व्याप्त हैं। जबकि वे संक्रमण के सर्वाधिक रिस्की जोन यानि अस्पताल में काम करते हैं। प्रदेश में 23 फीसदी यानि 1 लाख 17 हजार 210 हेल्थ वर्कर्स बार-बार बुलाने पर भी वैक्सीन लेने नहीं आए हैं। वहीं बीमार होने की दर 3700 में से केवल एक वर्कर्स की रही है। उनमें भी बुखार, टीका लगवाने की जगह हल्का दर्द, कुछ देर चक्कर आना जैसी सामान्य समस्याएं हुई है। प्रदेश में अब तक 782701 में से ऐसे बीमारी के लक्षण रखने वालों की संख्या भी केवल 208 वर्कर्स ही है। जबकि इसके उलट फ्रंटलाइन वर्कर्स वैक्सीन लगवाकर कोरोना को हराने की और बढ़ रहे हैं। 17 दिन में जिनको वैक्सीन लगवाने बुलाया, उनमें से 84.3 फीसदी वैक्सीन की पहली डोज ले चुके हैं।

प्रदेश में 5 लाख 13 हजार 999 हेल्थ वर्कर्स ने वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया था। इनमें से 20 फरवरी तक के जिलेवार एकत्रित आंकड़ों के अनुसार 3 लाख 96 हजार 789 ही वैक्सीन की पहली डोज लेने सेंटरों पर पहुंचे हैं। बीमार होने के डर से शेष वर्कर्स बार-बार वैक्सीनेशन को बुलाने पर भी नहीं आए हैं। इसे लेकर हालांकि चिकित्सा विभाग चिंतित है, लेकिन मजबूर भी, क्योंकि वैक्सीन लेने की बाध्यता नियमों में नहीं है। वहीं दूसरी ओर फ्रंटलाइन वर्कर्स में वैक्सीन लेने का जोश कायम है। 4 फरवरी से उनका वैक्सीनेशन शुरू हुआ था, अब तक 4 लाख 57 हजार 577 वर्कर्स को वैक्सीन लेने के लिए बुलाया गया, इनमें से 3 लाख 85 हजार 912 वर्कर्स यानि 84.3 फीसदी सेंटरों पर पहुंचे और वैक्सीन की पहली डोज ले चुके हैं।

दूसरी डोज लेने 38358 आए
16 फरवरी से प्रदेश में वैक्सीन की दूसरी डोज लगना शुरू हुई थी। पांच दिन में बीस फरवरी तक 38358 हेल्थ वर्कर्स ही दूसरी डोज लगवाने आए हैं। जोधपुर में सबसे ज्यादा 3406 और दौसा में सबसे कम 340 ने ही आकर दूसरी डोज लगवाई है।

सबसे ज्यादा और सबसे कम यहां हुआ
हेल्थ वर्कर्स में: सबसे ज्यादा बूंदी में 94.6 फीसदी, सबसे कम जयपुर में 58.7 फीसदी।
फ्रंटलाइन वर्कर्स में: सबसे ज्यादा अजमेर में 99.2, सबसे कम जैसलमेर में 64.3 फीसदी।
कुल वैक्सीनेशन: सबसे ज्यादा बूंदी में 95.3, सबसे कम जयपुर में 62.15 फीसदी।

जयपुर में 31521 हेल्थ कर्मियों का वैक्सीन से परहेज
जयपुर में सबसे ज्यादा 76 हजार 384 हेल्थ वर्कर्स हैं। इनमें से अब तक केवल 44 हजार 863 यानि 58.7 फीसदी ही कर्मी वैक्सीन लेने आए हैं। 31 हजार 521 हेल्थ वर्कर्स वैक्सीन लेने नहीं आए हैं। जैसलमेर में सबसे कम 5156 में वर्कर्स हैं, जिनमें से 3156 यानि 61.2 फीसदी ही वैक्सीन लेने आए।

यह भी पढ़ें:

विशाखापत्तनम: हिन्दुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड में भारी क्रेन गिरने से 10 मजदूरों की मौत, कई घायल

आंध्र प्रदेश में विशाखापत्तनम स्थित हिन्दुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड में शनिवार को एक भारी भरकम क्रेन गिरने से 10 मजदूरों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। जिन्हे अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

01/08/2020

बिहार में पान मसाला बैन

बिहार की नीतीश सरकार ने राज्य में गुटखा और पान मसाले पर बैन लगा दिया है। पान मसाला में विभिन्न जांचों में मैग्नेशियम कॉर्बोनेट पाए जाने के बाद बैन किया गया है।

30/08/2019

मूक-बधिरों के लिए संस्थान खोलना चाहती हैं टॉपर पूजा

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के 12वीं कक्षा के परीक्षा में राजधानी के सरकारी स्कूलों में कॉमर्स स्ट्रीम की टॉपर पूजा सिंह भविष्य में मूक-बधिरों के लिए ऐसा प्रशिक्षण संस्थान खोलना चाहती हैं जिसमें उनकी प्रतिभा को निखार कर उन्हें रोजगार मुहैया कराया जा सके।

07/05/2019

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीर सावरकर को जयंती पर किया नमन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीर सावरकर को उनकी जयंती पर नमन किया। वीर सावरकर की 137वीं जयंती है।

28/05/2020

वायुसेना के AN-32 दुर्घटनाग्रस्त विमान में सभी 13 लोगों की मौत

अरुणाचल प्रदेश में 10 दिन पहले दुर्घटना ग्रस्त हुए वायुसेना के ए एन 32 विमान के मलबे का पता लगाने के बाद बचाव अभियान में जुटी टीम को दुर्घटसथाल पर कोई जीवित नहीं मिला है।

13/06/2019

गुजरात में दो गोदामों और यार्न फैक्ट्री में लगी भीषण आग

गुजरात में सूरत जिले के कमारेज क्षेत्र में एक यार्न फैक्ट्री और वडोदरा शहर के बापोद क्षेत्र में केमिकल के दो गोदामों में रविवार को भीषण आग लग गयी, जिससे लाखों रुपये का सामान जल गया।

22/12/2019

कर्नाटक विधान परिषद में हंगामा, कांग्रेस सदस्यों ने उपसभापति को जबरन आसन से उठाया

कर्नाटक विधान परिषद के सभापति प्रताप चंद्र शेट्टी को अपदस्थ करने के लिए बुलाया गया एक दिवसीय विशेष सत्र अभूतपूर्व हंगामे के बीच सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और विपक्षी कांग्रेस के सदस्यों के बीच हाथापाई तथा धक्का मुक्की का गवाह बना।

16/12/2020