Dainik Navajyoti Logo
Sunday 19th of September 2021
 
भारत

दिल्ली चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस को एक और झटका, प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने दिया इस्तीफा

Wednesday, February 12, 2020 19:45 PM
पीसी चाको (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार से कांग्रेस में खलबली मच गई है और उसके नेताओं के इस्तीफे की होड़ के बीच बुधवार को प्रदेश प्रभारी महासचिव पीसी चाको ने इस्तीफा दे दिया। दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा के मंगलवार देर रात पार्टी की हार की जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा पार्टी हाईकमान को भेज दिया था। दिल्ली के चुनाव समिति के अध्यक्ष कीर्ति आजाद ने मंगलवार को दिन में ही पार्टी की प्रेस कांफ्रेंस में एक सवाल के जवाब में घोषणा कर दी थी कि उनको जिस रूप में जिम्मेदारी मिली थी, उस पद से चुनाव के बाद इस्तीफा देने की जरूरत ही नहीं होती है।     

पीसी चाको ने कहा कि उन्होंने पार्टी की हार की जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा पार्टी आला कमान को भेज दिया है। चाको ने कथितरूप से रूप से एक विवादित बयान दिया है, जिसमें उन्होंने कहा कि दिल्ली में कांग्रेस की हार का सिलसिला शीला दीक्षित के मुख्यमंत्री रहने के दौरान ही शुरू हो गया था। चाको ने यह भी कहा कि कांग्रेस का मतदाता 2013 में ही आम आदमी पार्टी के साथ चला गया था और उसके बाद मतदाता को पार्टी वापस नहीं लाया जा सका है। उसका खामियाजा पार्टी को दिल्ली विधानसभा के पिछले चुनाव के साथ ही इस बार भी भुगतना पड़ा है। दोनों चुनाव में 70 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली है।

चाको लम्बे समय से दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी हैं। उन्होंने मंगलवार को पार्टी की हार पर प्रतिक्रिया व्यक्त् करते हुए प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि दिल्ली की जनता ने भाजपा के झूठ और ध्रुवीकरण की राजनीति को नकारा है, इससे उन्हें खुशी हुई और कांग्रेस दिल्ली में वापसी करेगी। शीला दीक्षित के बारे में पीसी चाको के कथित बयान पर पार्टी के वरिष्ठ नेता मिलिंद देवड़ा ने तीखी टिप्पणी करते हुए ट्वीट किया कि शीला दीक्षित एक असाधारण राजनेता तथा प्रशासक थीं। उनके मुख्यमंत्री काल में दिल्ली बदल रही थी और कांग्रेस मजबूत हो रही थी। उन्होंने यह भी कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनके निधन के बाद उन पर आरोप लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कांग्रेस तथा दिल्ली की जनता के लिए जीवन समर्पित कर दिया था।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू की भारत यात्रा स्थगित

इजरायल में चुनाव होने की वजह से प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की भारत यात्रा को स्थगित कर दिया गया है।

03/09/2019

शोपियां में आतंकवादी हमला, नेशनल कॉन्फ्रेंस कार्यकर्ता घायल

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सोमवार देर रात आतंकवादियों ने नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक कार्यकर्ता पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया।

14/05/2019

चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करेंगे व्यापारी

जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर चीन के पाकिस्तान का समर्थन करने से खफा खुदरा व्यापारियों ने चीनी वस्तुओं का बहिष्कार की घोषणा की है। खुदरा व्यापारियों के संगठन कैट ने कहा है कि वह चीन की वस्तुओं के बहिष्कार के लिए एक सितंबर को राष्ट्रीय स्तर के अभियान की शुरुआत करेगा।

18/08/2019

लव जिहाद कानून से बेरोजगारी और गरीबी खत्म हो तो हमें कोई दिक्कत नहीं: दिग्विजय सिंह

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने लव जिहाद कानून को लेकर कहा है कि यदि इससे बेरोजगारी, पिछड़ापन और गरीबी खत्म हो जाए तो हमें कोई दिक्कत नहीं। दिग्विजय सिंह ने भाजपा सरकार पर प्रमुख मुद्दों से ध्यान भटकाने का आरोप लगाते हुए कहा कि आज जो समस्याएं हैं, सरकार उन पर ध्यान क्यों नहीं दे रही है।

01/12/2020

देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर एम्स डायरेक्टर का बयान, कहा- आम लोगों को 2022 तक करना होगा इंतजार

दिल्ली एम्स के डायरेक्टर और देश में कोरोना वायरस कोविड-19 के प्रबंधन के लिए गठित नेशनल टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि आम लोगों को कोरोना वैक्सीन के लिए वर्ष 2022 तक इंतजार करना होगा। उन्होंने कहा कि भारतीय बाजार में कोविड-19 के लिए कारगर वैक्सीन उपलब्ध होने में ही एक साल से अधिक समय लग जाएगा।

08/11/2020

इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के 2 कर्मचारी लापता, भारत ने पाक के सामने उठाया मुद्दा

पाकिस्तान के इस्लामाबाद में नियुक्त भारतीय उच्चायोग के दो कर्मचारियों के सोमवार को लापता हो जाने की रिपोर्टे हैं। सरकारी सूत्रों ने बताया कि भारत सरकार ने संबंधित पाकिस्तानी अधिकारियों के समक्ष इस मुद्दे को उठाया है।

15/06/2020

पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हिंसा का मामला, पुनर्वास संबंधी याचिका पर केंद्र और राज्य से जवाब तलब

सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल में चुनाव-उपरांत हिंसा से प्रभावित परिवारों का पलायन रोकने, मुआवजा दिलाए जाने और उनके पुनर्वास संबंधी जनहित याचिका पर केंद्र और राज्य सरकार से मंगलवार को जवाब तलब किया। कोर्ट ने मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, राष्ट्रीय महिला आयोग, राष्ट्रीय अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग तथा राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को पक्षकार बनाने का निर्देश दिया।

25/05/2021