Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
भारत

वायु प्रदूषण रोकने के लिए केंद्र सरकार का सख्त कानून, 1 करोड़ रुपए जुर्माना और 5 साल जेल का प्रावधान

Thursday, October 29, 2020 17:05 PM
सांकेतिक तस्वीर।

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर और उससे सटे राज्यों में प्रदूषण फैलाने वाले सावधान हो जाएं। बढ़ते वायु प्रदूषण को देखते हुए केन्द्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। केंद्र ने नए अध्यादेश के जरिए प्रदूषण फैलाने का दोषी पाए जाने पर 5 साल तक कैद की सजा भुगतेगा और 1 करोड़ रुपए तक का जुर्माना लगाने का प्रावधान किया है। राष्ट्रपति ने ऑर्डिनेंस को मंजूरी दे दी है। इसके लिए केंद्र ने एक आयोग बनाया है। यह आयोग एनवायरमेंट पॉल्यूशन प्रिवेंशन एंड कंट्रोल अथॉरिटी (ईपीसीए) की जगह लेगा। आयोग का मुख्‍यालय दिल्ली में होगा और इसके आदेश को सिर्फ एनजीटी में ही चुनौती दी जा सकेगी। कोई अन्य बॉडी और अथॉरिटी आदेश पारित नहीं करेगी।

केंद्र सरकार ने दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के वायु प्रदूषण को देखते हुए 18 सदस्यों का कमिशन बनाया है, जिसका एक चेयरपर्सन होगा जो पूर्णकालीन होगा। ये चेयरपर्सन भारत सरकार के सेक्रेटरी या राज्य सरकार के चीफ सेक्रेटरी रैंक के अधिकारी होंगे। इन 18 सदस्यों में केंद्र सरकार, एनसीआर के राज्यों के प्रतिनिधि, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और इसरो के भी प्रतिनिधि भी होंगे। कमिशन के सदस्यों का कार्यकाल तीन साल का होगा। कमिशन वायु प्रदूषण को रोकने, उपाय सुझाने और निगरानी का काम करेगा।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 26 अक्टूबर को पराली जलाने पर रोक के लिए उठाए गए कदमों की निगरानी के लिए रिटायर जस्टिस की कमेटी बनाने के आदेश को फिलहाल स्थगित कर दिया था। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट को केंद्र ने बताया था कि पराली जलाने से रोकने और एयर पॉल्यूशन की समस्या से निपटने के लिए सरकार एक समग्र कानून लाने जा रही है। केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल ने सुप्रीम कोर्ट को उक्त जानकारी दी थी, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने 16 अक्टूबर को पारित अपने उस आदेश को स्थगित कर दी थी, जिसमें पराली मामले को देखने के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जज की कमिटी का गठन का आदेश दिया था।

यह भी पढ़ें:

भारत में 24 हजार से अधिक हो गई कोरोना मरीजों की संख्या

भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है। देश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 24 हजार से अधिक हो गई है और 775 लोगों की मौत हो चुकी है।

25/04/2020

सिंघु बॉर्डर खाली करवाने पहुंचे स्थानीय लोगों और किसानों के बीच पत्थरबाजी, SHO पर तलवार से हमला

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसान आंदोलन के बीच शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर बवाल हो गया। दोपहर करीब 1 बजे कुछ लोग धरनास्थल पहुंचे और नारेबाजी करते हुए किसानों से बॉर्डर खाली करने की मांग करने लगे। इनका कहना था कि किसान आंदोलन के चलते उनके कारोबार ठप हो रहे हैं। लोगों ने किसानों के टेंट उखाड़ दिए। इसके बाद दोनों गुटों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई।

29/01/2021

डोनाल्ड ट्रंप ने मेलानिया संग राजघाट पहुंच बापू को दी श्रद्धांजलि, विजिटर बुक में लिखा ये संदेश

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी पत्नी मेलानिया ट्रंप के साथ राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। ट्रंप ने राजघाट की विजिटर बुक पर संदेश भी लिखा।

25/02/2020

रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ सेंसेक्स और निफ्टी

विदेशी बाजारों से मिले मिश्रित संकेतों के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को मिले प्रचंड बहुमत से निवेश धारणा मजबूत रही जिससे शुक्रवार को बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 623.33 अंक की भारी बढ़त के साथ अब तक के रिकॉर्ड स्तर 39,434.72 अंक पर बंद हुआ।

24/05/2019

चुनाव आयोग का सख्त रुख, प्रज्ञा ठाकुर 72 घंटे नहीं कर सकेंगी प्रचार

भोपाल संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के प्रति निर्वाचन आयोग ने बुधवार को सख्त रुख अपनाते हुए उनके चुनाव प्रचार अथवा रैली आदि करने पर 72 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया।

02/05/2019

कोरोना के चलते मौजूदा परिस्थितियों में नियमित रेल गाड़ियों के परिचालन की संभावना नहीं: रेल मंत्रालय

रेलवे ने रविवार को स्पष्ट किया है कि मौजूदा परिस्थितियों में नियमित रेलगाड़ियां चलाना संभव नहीं है और जरूरत पड़ने पर वर्तमान समय में चलाई जा रही विशेष रेलगाड़ियों की संख्या बढ़ाई जाएगी। रेल मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि पुराने टाइम टेबल के अनुसार चलने वाली नियमित रेल गाड़ियों को कोविड की वजह से वर्तमान स्थिति में चलाना संभव नहीं है।

28/06/2020

प्रोफेसरों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, बीएचयू एक्ट के खिलाफ डॉ. फिरोज की नियुक्ति

बीएचयू के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में प्रोफेसर फिरोज खान की नियुक्ति मामले में नया मोड़ आ गया है। बीएचयू कार्यकारिणी के सदस्य रहे दो वरिष्ठतम प्रोफेसरों ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर कहा कि फिरोज खान की नियुक्ति बीएचयू एक्ट के खिलाफ है।

25/11/2019