Dainik Navajyoti Logo
Friday 14th of May 2021
 
भारत

कैप्टन अमरिंदर की केंद्र से कृषि कानून रद्द करने की अपील, कहा- किसानों की मांगों में कुछ भी गलत नहीं

Wednesday, January 06, 2021 18:50 PM
कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री से अपील की है कि किसानों की मांगों में कुछ भी गलत नहीं है इसलिए समस्या से निपटने के लिए खेती कानूनों को तुरंत ही रद्द किया जाना चाहिए। नए खेती कानूनों के पहले ही लागू किए जाने संबंधी रिपोर्टों को गैर जिम्मेदाराना बताते हुए उन्होंने कहा कि खाद्य मंत्री भारत भूषण आशु के बयान को एक अखबार द्वारा गलत तरीके से पेश किया गया है, जिसे अन्यों ने छाप दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब केंद्र के कृषि कानूनों का विरोध करने वाला पहला राज्य था। उन्होंने इस मुद्दे पर भ्रामक प्रचार करने के लिए आम आदमी पार्टी को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि राज्यपाल को हमारे बिल राष्ट्रपति को मंजूरी के लिए भेजना चाहिए था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

मुख्यमंत्री ने एक मीडिया इंटरव्यू में साफ किया कि पंजाब नए कानूनों के जरिए अपने किसानों की जिंदगी को बर्बाद नहीं होने देगा। किसानों और उनके परिवारों की मदद करने के लिए जो भी संभव होगा हम करेंगे। सरकार ने किसानों के लिए दो हैल्पलाइनें भी शुरू की हैं जिन पर वे किसी भी संकट के समय संपर्क कर सकते हैं। प्रधानमंत्री से नए कृषि कानून वापस लेने और किसानों के साथ बातचीत करने की अपील करते हुए कैप्टन सिंह ने कहा कि किसानों ने अपना रूख साफ कर दिया है कि कानून रद्द होने तक वे संघर्ष जारी रखेंगे। केंद्र किसानों से बातचीत और सलाह मशविरे के बाद नए कानून ला सकता है।

उन्होंने बताया कि संविधान में कई बार संशोधन किया जा चुका है और हाल ही में लागू किए गए खेती कानूनों को रद्द करने के लिए यह संशोधन फिर किया जा सकता है। अब समय आ गया है कि किसानों का मसला सुलझा लिया जाए, जिससे ठंड और बारिश का सामना कर रहे किसान वापस जाकर अपनी रोजमर्रा की जिम्मेदारियां निभा सकें। मुख्यमंत्री ने प्रदर्शन कर रहे किसानों को नक्सली और दहशतगर्द कहने वालों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ऐसा करना गलत और गैर जिम्मेदाराना व्यवहार है।

यह भी पढ़ें:

असम में चाय बागान कर्मियों ने वृद्ध डॉक्टर को पीट-पीट कर उतारा मौत के घाट, 21 गिरफ्तार

असम के जोरहाट जिले में अपने एक साथी की इलाज के दौरान मौत से नाराज चाय बागान कर्मियों ने एक वृद्ध चिकित्सक को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया। इस मामले में 21 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

02/09/2019

न्यायाधीश लोया के मौत का मामला जरूरत पड़ने पर दोबारा खोला जाएगा: देशमुख

महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को कहा कि केन्द्रीय जांच ब्यूरो के विशेष न्यायाधीश बीएच लोया की मौत का मामला जरूरत पड़ने पर दोबारा खोला जाएगा। राज्य गृहमंत्री अनिल देशमुख ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारी सरकार लोया के मौत के मामले की दोबारा जांच करा सकती है।

09/01/2020

भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था की हालत पंचर कर दी: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सकल घरेलू उत्पाद की रफ्तार सवा छह वर्ष के निचले स्तर पर लुढ़क जाने को लेकर नरेन्द्र मोदी सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि अच्छे दिन का भोंपू बजाने वाली भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार ने अर्थव्यवस्था की हालत पंचर कर दी है।

31/08/2019

रेलवे का नहीं होगा निजीकरण, पीपीपी योजना पर किया जा रहा विचार : पीयूष गोयल

सरकार ने एक बार फिर स्पष्ट किया कि रेलवे के निजीकरण की उसकी कोई योजना नहीं है, लेकिन साथ ही यह भी कहा कि उसे बेहतर बनाने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी पर विचार किया जा रहा है।

04/03/2020

केदारनाथ धाम के 17 मई को खुलेंगे कपाट, बद्रीनाथ धाम के 18 मई और गंगोत्री-यमुनोत्री के 14 मई को खुलेंगे द्वार

उत्तराखंड के चार धामों में से एक और 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ धाम के कपाट ग्रीष्मकालीन दर्शन के लिए 17 मई को प्रात: पांच बजे खोले जाएंगे। उत्तराखंड के तीन अन्य धाम बद्रीनाथ के कपाट 18 मई को और गंगोत्री-यमुनोत्री के कपाट अक्षय तृतीया (14 मई) को खोले जाएंगे।

12/03/2021

दिल्ली चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस को एक और झटका, प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने दिया इस्तीफा

दिल्ली विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार से कांग्रेस में खलबली मच गई है और उसके नेताओं के इस्तीफे की होड़ के बीच बुधवार को प्रदेश प्रभारी महासचिव पीसी चाको ने इस्तीफा दे दिया।

12/02/2020

कोरोना रोकने के कड़े कदम: अब दफ्तरों में भी लगेगी वैक्सीन, केंद्र ने राज्यों से 11 अप्रैल तक तैयार रहने को कहा

कोरोना वैक्सीन का टीका लगवाने के बाद भी कुछ लोगों के वायरस के शिकार होने की खबरें आने पर मोदी सरकार सतर्क हो गई है। ऐसे लोगों का पता लगाने के लिए मोदी सरकार ने नया कदम उठाया है। वैक्सीनेशन अभियान को गति देने के लिए मोदी सरकार ने कार्यस्थलों पर भी टीका लगाने की सुविधा देने जा रही है।

08/04/2021