Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
भारत

CAA को लेकर UNHCHR ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की हस्तक्षेप याचिका

Tuesday, March 03, 2020 19:30 PM
सुप्रीम कोर्ट।

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (यूएनएचसीएचआर) ने सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को वादकालीन (हस्तक्षेप) याचिका दायर करके नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) 2019 को लेकर कुछ आपत्तियां दर्ज कराई है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त मिशेल बी. जेरिया ने सीएए को चुनौती देने वाली याचिकाओं में हस्तक्षेप का अनुरोध किया है। जेरिया ने अपनी याचिका में कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट नियमावली 2013 के आदेश 17, नियम-3 के तहत यह याचिका दायर कर रही हैं।

याचिकाकर्ता ने सीएए के दायरे को संकीर्ण बताते हुए कहा है कि यह कानून भारत वापस आने वाले के लिए केवल धार्मिक आधार प्रदान करता है। याचिकाकर्ता का कहना है कि यह कानून कुछ खास जातीय-धार्मिक समूह तक सीमित है। जेरिया ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्ताव 48/141 के तहत प्रदत्त सभी मानवाधिकारों के संरक्षण एवं संवर्धन के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत देव मुखर्जी एवं अन्य बनाम भारत सरकार के मामले में न्याय मित्र के तौर पर हस्तक्षेप करना चाहती हैं।

बता दें कि गत दिसंबर में संसद के दोनों सदनों से नागरिकता संशोधन कानून पारित हुआ था। यह कानून पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक रूप से प्रताड़ित होकर भारत आए अल्पसंख्यक लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान करता है। इन तीन देशों के अल्पसंख्यकों में हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन एवं पारसी शामिल हैं। विपक्ष इस कानून का विरोध कर रहा है। विपक्ष की दलील है कि धार्मिक आधार पर नागरिकता देना गलत है और यह संविधान की मूल भावना के खिलाफ है।

सीएए के खिलाफ देश भर में विरोध-प्रदर्शन हुए। सबसे पहले विरोध की हिंसक आंच असम और फिर पश्चिम बंगाल में फैली। पश्चिम बंगाल में सीएए के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन में सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया। इसके बाद दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मुंबई सहित देश के कई शहरों में सीएए के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हुए। इन प्रदर्शनों में करीब 25 लोगों की जान गई। सबसे ज्यादा 18 मौतें अकेले उत्तर प्रदेश में हुईं। दिल्ली के शाहीन बाग में अभी भी महिलाओं का धरना जारी है।

यह भी पढ़ें:

महात्मा गांधी को भारत रत्न देने की याचिका खारिज, CJI ने कहा- राष्ट्रपिता भारत रत्न से भी ऊपर

सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को भारत रत्न देने की मांग वाली याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट ने कहा कि महात्मा गांधी को दी गई राष्ट्रपिता की पदवी भारत रत्न से भी ऊपर हैं। हम आपकी भावनाओं की कद्र करते हैं। अगर आप चाहें तो केंद्र सरकार को इस बारे में ज्ञापन दे सकते हैं।

17/01/2020

मायावती ने 1984 के दंगों से की दिल्ली हिंसा की तुलना, संसद में चर्चा नहीं कराने को बताया दुखद

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को कहा कि सरकार को दिल्ली हिंसा पर संसद में खुली चर्चा कराकर सवालों का जवाब देना चाहिए। मायावती ने एक ट्वीट कर दिल्ली हिंसा की तुलना 1984 के सिख विरोधी दंगों से की और कहा कि हिंसा पर चर्चा नहीं कराना दुखद है।

02/03/2020

सुप्रीम कोर्ट में बढ़ेंगे न्यायाधीशों के तीन पद

सरकार ने लंबित मुकदमों को जल्दी निपटाने के मकसद से सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों की संख्या 30 से बढ़ाकर 33 करने का फैसला किया है जिसके लिए संसद में विधेयक लाया जाएगा।

01/08/2019

पाक सांसद के खुलासे के बाद नड्डा का राहुल गांधी पर हमला, कहा- शहजादे को भारत की किसी भी चीज पर विश्वास नहीं

भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर तेज हमला करते हुए कहा कि 'शहजादे' को भारत की किसी भी चीज पर विश्वास नहीं है, तो वे अपने 'सबसे भरोसेमंद देश' पाकिस्तान की ही सुन लें।

29/10/2020

जम्मू कश्मीर में हिन्दुओं की संख्या अधिक होती तो भाजपा 370 नहीं हटाती: चिदंबरम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम ने कहा कि जम्मू कश्मीर के मुस्लिम बहुल प्रदेश होने के कारण ही संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाया गया है। भाजपा के नेताओं ने चिदंबरम के बयान की तीखी आलोचना की है।

13/08/2019

लाल किला उपद्रव मामला: मुख्य आरोपी दीप सिद्धू गिरफ्तार, 7 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा

गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) को लाल किले में हुए उपद्रव का मुख्‍य आरोपी दीप सिद्धू पकड़ा गया है। घटना के बाद से ही दीप सिद्धू फरार चल रहा था। दिल्ली पुलिस ने सिद्धू की गिरफ्तारी के लिए एक लाख रुपए का इनाम रखा था।

09/02/2021

हथियार खरीदने के लिए सेनाओं को मिले विशेष वित्तीय अधिकार

चीन के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच तीनों सेनाओं को लड़ाई के लिए जरूरी हथियार और गोला बारूद की खरीद के वास्ते प्रति प्रोजेक्ट 500 करोड़ रुपये तक का वित्तीय अधिकार दिया गया है।

22/06/2020