Dainik Navajyoti Logo
Sunday 28th of November 2021
 
भारत

राज्यसभा में हंगामा करने वाले विपक्ष के 8 सांसदों पर कार्रवाई, पूरे सत्र के लिए किए गए निलंबित

Monday, September 21, 2020 11:40 AM
फोटो साभार[email protected]

नई दिल्ली। राज्यसभा में अमर्यादित आचरण करने के लिए विपक्ष के 8 सदस्यों को सत्र की शेष अवधि के लिए सोमवार को निलम्बित कर दिया गया। सभापति एम वेंकैया नायडु ने शून्यकाल के बाद तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और डोला सेन, कांग्रेस के सैयद नासिर हुसैन, रिपुण बोरा, राजीव सातव, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के के के रागेश और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के इलामारम करीम को चालू सत्र की शेष अवधि के लिए निलम्बित करने की घोषणा की। नायडु ने कहा कि निलम्बित सदस्य सदन की कार्यवाही का हिस्सा नहीं होंगे और वे सदन से बाहर चले जाएं। इसके बावजूद सभी सदस्य सदन में डटे रहे और निलंबन की कार्रवाई के खिलाफ नारेबाजी और हंगामा करने लगे। इसके बाद 9 बजकर 40 मिनट पर सदन की कार्यवाही 10 बजे तक स्थगित कर दी गई।

स्थगन के बाद 10 बजे बैठक फिर शुरू होने पर सदन में विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा और उपसभापति हरिवंश ने निलंबित किए गए सदस्यों को सदन से बाहर जाने को कहा, लेकिन वे बाहर नहीं गए। हंगामे के बीच ही शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक ने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान विधियां (संशोधन) विधेयक, 2020 चर्चा के लिए पेश किया। सदन में हंगामा थमते नहीं देख उपसभापति हरिवंश ने 10 बजकर 5 मिनट पर बैठक आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी। 2 बार के स्थगन के बाद बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और राज्यसभा की कार्यवाही 10.30 फिर आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई। 3 बार के स्थगन के बाद बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और राज्यसभा की कार्यवाही 11 बजकर 7 मिनट पर दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

4 बार के स्थगन के बाद जब सदन की कार्यवाही 12 बजे शुरू हुई तो पीठासीन अधिकारी भुवनेश्वर कालिता ने कहा कि निलंबित सदस्य सदन से बाहर चले जाएं, जिससे सदन की कार्यवाही चलायी जा सके। उन्होंने कहा कि सदन में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद को बोलने की अनुमति दी गई है लेकिन इससे पहले निलंबित सदस्यों के सदन से बाहर जाना होगा। इस पर विपक्षी दल कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, आप के सदस्य नारेबाजी करने लगे। उप सभापति ने सदस्यों से कहा कि वे अपनी सीटों पर चले जाएं तो विपक्ष के नेता अपनी बात रख सकते हैं, लेकिन विपक्षी सदस्यों का शोर शराबा जारी रहा। स्थिति को देखते हुए कालिता ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी।

इससे पहले सदस्यों के निलंबित करने की घोषणा के फौरन बाद कांग्रेस, आप और तृणमूल कांग्रेस के सदस्य सदन के बीच में आ गए और नारेबाजी करने लगे। नायडु ने कहा कि रविवार को कृषि सुधार से संबंधित विधेयकों को पारित किए जाने के दौरान कुछ सदस्य सभापति के आसन के निकट पहुंच गए, माइक उखाड़ दिया और कागज फेंके। उपसभापति को गालियां दी और सदन की कार्यवाही में बाधा पहुंचाई। उन्होंने कल के दिन को राज्यसभा के लिए बहुत बुरा दिन बताते हुए कहा कि इस दौरान कोविड से जुड़ी दूरी का भी सदस्यों ने पालन नहीं किया। नायडु ने कहा कि आसन के निकट सदस्य नाच रहे थे, चिल्ला रहे थे। समय पर मार्शल नहीं होते तो क्या होता। उन्होंने कहा कि उपाभापति को शारीरिक रुप से सदस्यों ने धमकी दी। उन्होंने कहा कि विपक्ष के नेता समेत 46 सदस्यों ने उपसभापति के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव दिया है, उसे वह नामंजूर करते हैं। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ पेश किया गया प्रस्ताव निर्धारित प्रारूप में नहीं है और इसके लिए जरूरी 14 दिनों के समय का भी पालन नहीं किया गया है।

सभापति ने कहा कि सदन में कोई समस्या है तो उस पर वाद विवाद किया जाना चाहिए। सदन की कार्यवाही में बाधा पहुंचाना निन्दनीय है। यह अस्वीकार्य है। उन्होंने कहा कि कल उपसभापति ने कहा था कि कृषि सुधारों से संबंधित विधेयकों पर हंगामा कर रहे सदस्य अपनी सीटों पर जाएं तो उसे पारित कराने को लेकर मतदान कराएंगे लेकिन सदस्यों ने ऐसा नहीं किया। सदस्यों ने संसदीय परम्पाराओं का उललंघन किया। यदि सदस्य नियमों का पालन नहीं करेंगे तो कार्यवाही कैसे होगी।
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

कांग्रेस संसदीय दल की 1 जून को होगी बैठक, चुना जाएगा नेता

कांग्रेस संसदीय दल की 1 जून को बैठक होगी, जिसमें संसदीय दल के नए नेता का चुनाव किया जाएगा। इस बैठक की अध्यक्षता सोनिया गांधी करेगी।

30/05/2019

मायावती ने कांग्रेस पर किया हमला

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने को लेकर रविवार को कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि धर्मनिरपेक्षता को लेकर देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी का दोहरा चरित्र उजागर हो गया है।

15/12/2019

यस बैंक संकट पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बयान, कहा- नहीं डूबेगा जमाकर्ताओं का एक भी पैसा

रिजर्व बैंक द्वारा यस बैंक पर कार्रवाई के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यस बैंक के खाताधारकों को भरोसा दिया है कि उनका एक भी पैसा नहीं डूबेगा। वित्त मंत्री ने कहा कि यस बैंक के मुद्दे को रिजर्व बैंक और सरकार विस्तृत तौर पर देख रहे हैं, हमने वह रास्ता अपनाया है जो सबके हित में होगा।

06/03/2020

मुंबई में MTNL की इमारत में लगी आग, करीब 100 लोगों के फंसे होने की सूचना

मुंबई के बांद्रा इलाके में एमटीएनएल की इमारत में आग लग गई। मिली जानकारी के मुताबिक तीसरी और चौथी मंजिल पर आग लगी है

22/07/2019

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक

नेतृत्व परिवर्तन, देश की वर्तमान स्थिति सहित कई अहम मुद्दों पर चर्चा

16/10/2021

लिवाली के बल पर शेयर बाजार में बनी रही तेजी

वैश्विक स्तर से मिले मजबूत संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर एनर्जी, धातु, बैंकिंग, वित्त आदि समूहों में हुई लिवाली के बल पर शेयर बाजार में तेजी बनी रही और इस दौरान सेंसेक्स 51500 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 15273 अंक के पार पहुंच गया।

03/03/2021

मेरा मकसद है, भ्रष्टाचार हराना और दिल्ली को आगे ले जाना: केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में मेरा मकसद है, भ्रष्टाचार हराना और दिल्ली को आगे ले जाना।

21/01/2020