Dainik Navajyoti Logo
Sunday 7th of June 2020
 
स्वास्थ्य

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे: कोरोना वायरस महामारी के दौरान जानलेवा हो रहा है हाइपरटेंशन

Sunday, May 17, 2020 12:20 PM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। रक्तचाप से जुड़ी बीमारी हाइपरटेंशन आज दुनियाभर में अपनी जड़ें जमा चुकी है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक विश्व में 1.13 बिलियन लोग हाइपरटेंशन की समस्या से जूझ रहे हैं। हर 4 में से एक पुरुष और 5 पांच में से एक महिला को हाइपरटेंशन है। अगर भारत की बात की जाए तो देश में 30 प्रतिशत लोगों को यह समस्या है। कोरोना के बीच कई ऐसी रिसर्च भी आई हैं, जिसमें यह सामने आया है कि हाइपरटेंशन के मरीजों को कोरोना का संक्रमण होता है तो यह उनके लिए अन्य मरीजों की अपेक्षा अधिक जानलेवा है। वर्तमान समय की बात करें तो देशभर के साथ ही राजस्थान और राजधानी जयपुर में भी कोरोना से होने वाली अधिकांश मौतों में ज्यादातर लोगों को हाइपरटेंशन की समस्या पहले से ही थी। ऐसे में कोरोना वायरस उनके लिए जानलेवा साबित हुआ।

एंबुलेटरी बीपी मॉनिटरिंग जांच जरूरी
फोर्टिस हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियक इलेक्ट्रोफीजियोलॉजिस्ट डॉ. राहुल सिंघल ने बताया कि हाइपरटेंशन की पहचान करने के लिए सिर्फ  बीपी की जांच करा लेना पर्याप्त नहीं है। कई बार जांच कराते समय तनाव के कारण भी रक्तचाप ज्यादा हो सकता है या कुछ लोगों को दिन में किसी समय रक्तचाप कम भी हो सकता है जबकि ज्यादातर उनका रक्तचाप ज्यादा ही रहता है। इसे मास्क्ड हाइपरटेंशन कहा जाता है। हाइपरटेंशन का पता करने के लिए एंबुलेटरी बीपी मॉनिटरिंग जांच करवानी चाहिए। रक्तचाप का सही स्तर जानने के लिए एक से ज्यादा बार जांच होनी चाहिए। एबीपीएम नामक मशीन से सही रक्तचाप जांचा जा सकता है। यह मशीन मरीज के कपड़ों के अंदर लगाई जाती है और 24 घंटे मरीज का रक्तचाप रिकॉर्ड करती है। कई बार सामान्य जांच के लिए भी डॉक्टर के पास जाने पर मरीज का बीपी बढ़ जाता है जिसे व्हाइट कोट हाइपरटेंशन कहते हैं।

हाइपरटेंशन सीधे तौर पर हार्ट को पहुंचाता है नुकसान
एचसीजी हास्पिटल के सीनियर फिजिशियन और क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट डॉ. पंकज आनंद ने बताया कि हाइपरटेंशन के कारण शरीर में कई गंभीर व जानलेवा बीमारियां हो सकती है। हाइपरटेंशन होने से हार्ट पर ज्यादा जोर पड़ता है व हार्ट फेलियर की संभावनाएं बढ़ जाती हैं और कोरोनरी आर्टरीज में कोलेस्ट्रोल जमने से हार्ट अटैक का खतरा हो सकता है। वहीं दिमाग में हाइपरटेंशन से लकवा भी मार सकता है। जब आर्टरीज में ब्लड क्लॉट के कारण खून की सप्लाई नहीं हो पाती, ऐसा तभी होता है। इससे हाइपरटेंशन से रक्त धमनियों में सूजन और कमजोरी आ जाती है। धमनियों के फटने से मौत भी हो सकती है। वहीं हाइपरटेंशन से किडनी की बीमारी भी हो सकती है।

मरीज ऐसे करें कोरोना से बचाव
अपनी दवाएं समय पर लेना जारी रखें, डॉक्टर के निर्देशानुसार आहार लें। सर्दी और फ्लू या अन्य सांस संबंधी मर्ज वाले लोगों के संपर्क में न आएं। खांसते और छींकते समय मुंह पर रूमाल या टिशू रखें। हाथों को साबुन से अच्छी तरह बार-बार धोएं।

यह भी पढ़ें:

मांझे ने गहराई तक काटा टखना, डॉक्टरों ने सर्जरी कर बचाया

पतंगबाजी के जुनून में मांझा हर किसी के लिए आफत बना हुआ है। ऐसे ही आशिदा के पैर में मांझा फंसने से उनका टखना बुरी तरह से कट गया, खून इतना बह गया कि बीपी तक रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था।

17/01/2020

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020