Dainik Navajyoti Logo
Monday 18th of January 2021
 
स्वास्थ्य

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

Tuesday, September 29, 2020 11:30 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए। कोरोना के खिलाफ जो एंटीबॉडी शरीर में बनती हैं उससे हार्ट की मांसपेशियों पर असर पड़ सकता है और हार्ट की पंपिंग क्षमता कम होकर सांस लेने में दिक्कत हो जाती है। इसके कारण हृदय रोगियों का कोरोना पॉजिटिव होने के बाद मृत्यु होने का खतरा ज्यादा होता है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से डरे नहीं और हार्ट के मरीजों को इलाज में देरी ना करके तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक वर्तमान में दुनिया में सबसे ज्यादा हृदय रोगी भारत में हैं। जहां हर साल 50 लाख लोगों की हार्टअटैक से मौत होती है, वहीं हर 4 में से एक रोगी की मौत हृदय रोगों से हो जाती है।

हर शरीर के लिए कॉलेस्ट्रोल का प्रभाव अलग

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. गौरव सिंघल ने बताया कि हमारे शरीर की सामान्य कार्यप्रणाली के लिए कॉलेस्ट्रोल जरूरी होता है। हालांकि हृदय रोगियों को कॉलेस्ट्रोल युक्त पदार्थों का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए। ऐसे पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन हर व्यक्ति पर अलग-अलग होता है, क्योंकि पेट की आंतों में इसका अवशोषण व्यक्ति के जीन पर निर्भर करता है।

तनाव को रखें दूर
सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने कहा कि इस समय तनाव और चिंता आपके हृदय के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। ध्यान, योग के अभ्यास से और मधुर संगीत सुनने से आप अपने हृदय के स्वास्थ्य को अच्छा रख सकते हैं। कोरोना काल जैसे इस मुश्किल समय में जरूरी है कि आप अपने नजदीकी लोगों और रिश्तेदारों के साथ संचार के साधनों से जुड़े रहें। कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. निखिल चौधरी ने बताया कि स्मोकिंग से हार्टअटैक का खतरा तीन गुना तक बढ़ जाता है। सेकेंड हैंड स्मोकिंग भी उतना ही हानिकारक है। ऐसे में स्मोकिंग की लत को छोड़ना बेहद आवश्यक है।

इम्यूनिटी के लिए ले सकते हैं थोड़ा देसी घी
सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. सैफी आरसीवाला ने बताया कि हृदय सर्जरी के बाद रोगियों को तीन सप्ताह तक खाने में प्रतिदिन 20 से 30 ग्राम तक देसी घी लेना चाहिए, इससे इम्यूनिटी बढ़ती है। जो मरीज कोलेस्ट्रॉल की दवा पर है, उन्हें विटामिन डी की जांच जरूर करवानी चाहिए। इसकी कमी से इम्युनिटी कम हो जाती है।

बिना डॉक्टरी सलाह के न लें दवा
नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के कार्डियक सर्जरी विभाग के डॉयरेक्टर एवं विभागाध्यक्ष डॉ. सीपी श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना काल में यह देखने में आ रहा है कि हृदय रोगी अपने डॉक्टर से कम संपर्क कर रहे हैं। जरूरी प्रोसिजर या सर्जरी टाल रहें हैं, जो कि खतरनाक साबित हो सकता है। जिन मरीजों की हार्ट प्रोसिजर या सर्जरी हो चुकी है या फिर जो हृदय रोग, उच्च रक्तचाप या डायबिटिज से प्रभावित है, उन्हें अपनी दवा नियमित रूप से लेनी चाहिए। सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. देवेन्द्र श्रीमाल ने बताया कि हार्टअटैक में गोल्डन पीरियड का विशेष महत्व है। आमजन को जानना जरूरी है कि हार्टअटैक से होने वाली मृत्यु के 50 प्रतिशत केस अटैक के एक घंटे यानि गोल्डन पीरियड के भीतर ही हो जाते हैं। यदि इस दौरान मरीज को अस्पताल ले जाया जाए तो उसे बचाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर बचाई जान, महात्मा गांधी अस्पताल के डॉक्टर्स ने की ब्लडलेस सर्जरी

जयपुर शहर के सीतापुरा स्थित महात्मा गांधी अस्पताल के हार्ट सर्जन को एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर एक युवक की जान बचाने में सफलता अर्जित की है। युवक बहुत ही नाजुक स्थिति में महात्मा गांधी अस्पताल में आया था। प्रख्यात हार्ट सर्जन डॉ एम ए चिश्ती ने तुरंत ही बीमारी की पहचान कर ली थी।

09/10/2020

सोनोलोजिस्ट के राष्ट्रीय सेमिनार की हुई शुरुआत

फेडरेशन ऑफ क्लिनिकल सोनोलोजिस्ट की ओर से केके रॉयल एण्ड कन्वेशन सेंटर में तीन दिवसीय सोनोग्राफी पर राष्ट्रीय सेमिनार की शुरूआत हो गई।

10/01/2020

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016