Dainik Navajyoti Logo
Saturday 8th of August 2020
 
स्वास्थ्य

वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे: बच्चों में इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, हो सकता है ब्रेन कैंसर

Monday, June 08, 2020 11:15 AM
सांकेतिक तस्वीर।

जयपुर। बच्चों में ब्लड कैंसर के बाद सर्वाधिक होने वाला कैंसर ब्रेन ट्यूमर है। नेशनल हेल्थ प्रोग्राम की ओर से जारी एक रिपोर्ट के अनुसार बड़ों के मुकाबले बच्चों में यह बीमारी ज्यादा तेजी से बढ़ रही है। इसके लक्षणों को अनदेखा करना हजारों बच्चों के अकाल मौत का कारण बन रहा है। वयस्कों में होने वाले कैंसर में इसका प्रतिशत 2 से 3 फीसदी है, वहीं बच्चों में 26 फीसदी है। भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर जयपुर के न्यूरो ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ. नितिन द्विवेदी का कहना है कि मानव शरीर के विभिन्न अंगों में होने वाले कैंसर में से 40 फीसदी कैंसर ब्रेन तक अपनी पहुंच बना लेते हैं। मस्तिष्क में जब असामान्य कोशिकाएं विकसित होने लगती है तो ब्रेन ट्यूमर का रूप ले लेती हैं। इन लक्षणों को अगर गंभीरता से लेकर समय पर चिकित्सक से सलाह ली जाए तो शुरुआती अवस्था में इसकी पहचान कर रोगी को बचाना संभव हो पाता है। 

इनको ना करें अनदेखा
बच्चों और वयस्कों में इसके लक्षणों में काफी समानता है। इन लक्षणों में तेज या लगातार रहने वाला सिरदर्द, चलने में परेशानी, तालमेल में समस्या, मांसपेशियों में कमजोरी, रह-रहकर परेशानी होना, शरीर के एक तरफ कमजोरी या हाथों और पैरों की कमजोरी, चक्कर आना, उल्टी या मतली आना, चुभन महसूस करना या स्पर्श कम महसूस होना, ठीक से बोलने और समझने में परेशानी या सुध-बुध खोना, दौरे पड़ना, धुंधला दिखना, बेहोशी आना, बोलने में कठिनाई या व्यक्तित्व में बदलाव।

युवाओं में बढ़ती परेशानी
50 वर्ष से ज्यादा की उम्र के सामने आने वाला ब्रेन ट्यूमर अब युवाओं में भी में तेजी से आ रहा है। 30 से 40 की उम्र में भी हजारों रोगी इसका उपचार ले रहे है। ऐसे मामलों पर कई रिसर्च हुई हैं, लेकिन अभी तक इसके कारणों का पता नहीं लगा। कई शोध में पाया गया है कि मोबाइल का अधिक उपयोग और रेडिएशन एक्सपोजर के कारण मस्तिष्क पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। वहीं 80 फीसदी से ज्यादा रोगी ट्यूमर के पूरी तरह से बढ़ जाने के बाद न्यूरो एक्सपर्ट के पास आते हैं। एडवांस स्टेज में ट्यूमर की पहचान होने पर उसे तुरंत प्रभाव से ऑपरेशन के जरिए उपचार दिया जाता है।

यह भी पढ़ें:

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है।

08/06/2019

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019

जिम में ट्रेनर की न करें अनदेखी

हर व्यक्ति,खासकर युवा पीढ़ी जिम में जाकर एक्सरसाइज के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहता है।

26/02/2020

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019