Dainik Navajyoti Logo
Thursday 6th of May 2021
 
स्वास्थ्य

मांझे ने गहराई तक काटा टखना, डॉक्टरों ने सर्जरी कर बचाया

Friday, January 17, 2020 11:55 AM
मांझा फंसने से बुरी तरह से टखना कट गया।

जयपुर। पतंगबाजी के जुनून में मांझा हर किसी के लिए आफत बना हुआ है। ऐसे ही आशिदा के पैर में मांझा फंसने से उनका टखना बुरी तरह से कट गया, खून इतना बह गया कि बीपी तक रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था। शहर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में मरीज लाई गई, जहां डॉक्टर्स ने रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी कर मरीज के पैर को बचा लिया।

बाएं पैर को गहराई तक काट गया मांझा
नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक, हैण्ड एवं माइक्रोवासकुलर सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता ने बताया कि दौसा निवासी आशिदा किसी काम से बाहर गई थी और अचानक मांझा उनके बाएं टखने पर फंस गया। मांझे के फंसने और उसे जोर से खींचने पर मरीज का टखना गहराई तक कट गया, जिससे टखने में रक्त प्रवाह बनाए रखने वाली नसें कट गई। मरीज का हॉस्पिटल पहुंचने तक काफी खून बह गया था, बीपी भी रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था और मरीज अवचेतना की स्थिति में चली गई थी। नारायणा हॉस्पिटल के इमरजेंसी में ही मरीज को तुरन्त खून चढ़ाया गया।

दो घंटे की सर्जरी कर बचाया पैर
मरीज को खून चढ़ाकर शरीर में रक्त की हुई कमी को पूरा किया गया और टखने की सर्जरी की गई। डॉ. गिरीश गुप्ता, कार्डियक सर्जन डॉ. सुनील शर्मा ने ऐनस्थिसिया व क्रिटिकल केयर टीम के सहयोग से दो घंटे तक सर्जरी कर टखने की कटी सभी नसों को सही तरीके से जोड़कर, संरचना को ठीक किया। अगर मरीज की समय पर सर्जरी नहीं होती तो टखने में रक्त प्रवाह न होने से मरीज का पैर खराब हो सकता था। सर्जरी के बाद मरीज का टखना तेजी से रिकवर हो रहा है एवं मरीज अब ठीक है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के फेसिलिटी डायरेक्टर कार्तिक रामाकृष्णन् ने बताया कि हार्ट अटैक व ब्रेन स्ट्रोक की तरह ही इस प्रकार की इमरजेंसी में समय का बहुत महत्व है। अगर मरीज को समय रहते एक ऐसे हॉस्पिटल में लाया जाएं, जहां सीटीवीएस सर्जन व माईक्रोवैस्कुलर सर्जन की बहुचिकित्सकीय टीम उपलब्ध हो तो पूर्णतः या आंशिक कटे हुए हाथ या पैर को जोड़कर (रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी द्वारा) मरीज को फिर से कार्य कुशल बनाया जा सकता है। माईक्रोवैस्कुलर सर्जरी में आई एडवांस्ड तकनीकों के कारण यह संभव हुआ है।
 

यह भी पढ़ें:

देश में 16 प्रतिशत बच्चों में बिस्तर गीला करने की बीमारी

देश में स्कूल जाने की उम्र वाले 12 से 16 प्रतिशत बच्चे सोते समय बिस्तर गीला करने की समस्या से जूझ रहे हैं। यह समस्या न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है बल्कि उनके आत्मविश्वास को भी कमजोर कर रही है।

06/04/2019

अस्थमा नहीं है लाइलाज, इनहेलेशन थैरेपी है कारगर

अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है जिसमें श्वास मार्ग में सूजन और श्वास मार्ग की संकीर्णता की समस्या होती है जो समय के साथ कम ज्यादा होती है।

03/05/2019

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

कैंसर उपचार में मददगार है साइको थैरेपी, बढ़ाती है रोगियों का इम्यून सिस्टम

सीबीटी, सीडीटी और एसडी थैरेपी का उपयोग कैंसर इलाज में एक वरदान के रूप में सामने आ रहा है। एडवांस स्टेज के कैंसर रोगियों के इलाज के लिए भी यह थैरेपी मददगार साबित हो रही है। इस थैरेपी के जरिए रोगियों के इम्यून सिस्टम की क्षमता को बढ़ाया जाता है, जिससे रोगी में कैंसर से लड़ने की क्षमता बढ़ रही है।

04/02/2020

विश्व के 83 और भारत के 89 प्रतिशत लोग तनाव में जी रहे : वांगचुक

जयपुरिया इंस्टीट्यूट आॅफ मैनेजमेंट, जयपुर में सोमवार को भूटान के पूर्व शिक्षा मंत्री नोरबू वांगचुक का हैप्पीनेस लैसंस फ्रॉम भूटान विषय पर इंटरेनशनल गेस्ट सैशन आयोजित किया गया।

05/11/2019