Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of July 2021
 
स्वास्थ्य

मांझे ने गहराई तक काटा टखना, डॉक्टरों ने सर्जरी कर बचाया

Friday, January 17, 2020 11:55 AM
मांझा फंसने से बुरी तरह से टखना कट गया।

जयपुर। पतंगबाजी के जुनून में मांझा हर किसी के लिए आफत बना हुआ है। ऐसे ही आशिदा के पैर में मांझा फंसने से उनका टखना बुरी तरह से कट गया, खून इतना बह गया कि बीपी तक रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था। शहर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में मरीज लाई गई, जहां डॉक्टर्स ने रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी कर मरीज के पैर को बचा लिया।

बाएं पैर को गहराई तक काट गया मांझा
नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक, हैण्ड एवं माइक्रोवासकुलर सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता ने बताया कि दौसा निवासी आशिदा किसी काम से बाहर गई थी और अचानक मांझा उनके बाएं टखने पर फंस गया। मांझे के फंसने और उसे जोर से खींचने पर मरीज का टखना गहराई तक कट गया, जिससे टखने में रक्त प्रवाह बनाए रखने वाली नसें कट गई। मरीज का हॉस्पिटल पहुंचने तक काफी खून बह गया था, बीपी भी रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था और मरीज अवचेतना की स्थिति में चली गई थी। नारायणा हॉस्पिटल के इमरजेंसी में ही मरीज को तुरन्त खून चढ़ाया गया।

दो घंटे की सर्जरी कर बचाया पैर
मरीज को खून चढ़ाकर शरीर में रक्त की हुई कमी को पूरा किया गया और टखने की सर्जरी की गई। डॉ. गिरीश गुप्ता, कार्डियक सर्जन डॉ. सुनील शर्मा ने ऐनस्थिसिया व क्रिटिकल केयर टीम के सहयोग से दो घंटे तक सर्जरी कर टखने की कटी सभी नसों को सही तरीके से जोड़कर, संरचना को ठीक किया। अगर मरीज की समय पर सर्जरी नहीं होती तो टखने में रक्त प्रवाह न होने से मरीज का पैर खराब हो सकता था। सर्जरी के बाद मरीज का टखना तेजी से रिकवर हो रहा है एवं मरीज अब ठीक है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के फेसिलिटी डायरेक्टर कार्तिक रामाकृष्णन् ने बताया कि हार्ट अटैक व ब्रेन स्ट्रोक की तरह ही इस प्रकार की इमरजेंसी में समय का बहुत महत्व है। अगर मरीज को समय रहते एक ऐसे हॉस्पिटल में लाया जाएं, जहां सीटीवीएस सर्जन व माईक्रोवैस्कुलर सर्जन की बहुचिकित्सकीय टीम उपलब्ध हो तो पूर्णतः या आंशिक कटे हुए हाथ या पैर को जोड़कर (रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी द्वारा) मरीज को फिर से कार्य कुशल बनाया जा सकता है। माईक्रोवैस्कुलर सर्जरी में आई एडवांस्ड तकनीकों के कारण यह संभव हुआ है।
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020

Video: गुर्दे का कैंसर पहुंचा हार्ट तक, 8 घंटे की सफल सर्जरी के बाद स्थापित किया कीर्तिमान

यह ट्यूमर किडनी की खून की नली के रास्ते होता हुआ ह्रद्य के निचले चैम्बर तक अपनी जडे जमा चुका था एवं विष्व में इस तरह का यह तीसरा सफल ऑपरेशन है।

06/01/2020

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019

इम्यूनिटी और वैक्सीन के बाद हारेगा कोरोना, संक्रमण के फैलाव के साथ लोगों में विकसित हो रही इम्यूनिटी

कोरोना का समय जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है, इसके इलाज और इम्यूनिटी पावर से संबंधित सवालों के जवाब मिल रहे हैं। कुछ देशों से कोरोना की वैक्सीन तैयार करने का दावा भी किया है लेकिन उसके बारे में कुछ स्पष्ट स्थिति सामने नहीं आ रही है। वहीं कोरोना केसों में हो रही वृद्धि के कारण आमजन में हर्ड इम्यूनिटी बढ़ने की चर्चा भी चल रही है।

09/09/2020

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019