Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of January 2022
 
स्वास्थ्य

सिर में बिजली कौंधने जैसा दर्द तो हो सकता है ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया, लापरवाही हो सकती है जानलेवा

Friday, January 22, 2021 10:25 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। सिर दर्द कई तरह का होता है, लेकिन अगर आपको सिर व चेहरे पर बिजली कौंधने जैसा तेज दर्द हो तो आपको सावधान होने की जरूरत है। यह गंभीर न्यूरो डिजिज ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया हो सकती है। आमतौर पर युवाओं में ज्यादा देखे जाने वाली इस बीमारी में दर्द का पहला अटैक आते ही बिना देर किए विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इस रोग में लापरवाही जानलेवा भी हो सकती है। चेहरे में होने वाला हर दर्द ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया हो ऐसा जरूरी नहीं है। इसीलिए विशेषज्ञ से सही परामर्श लेकर बीमारी की सही जानकारी प्राप्त कर इलाज कराना मरीज के लिए फायदेमंद है।

युवा ज्यादा बीमार
सीनियर पेन एक्सपर्ट डॉ. संजीव कुमार शर्मा ने बताया कि ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया सिर व चेहरे में होने वाले दर्द में सबसे ज्यादा पीड़ादायक और असहनीय दर्द है। 25 से 40 वर्ष के बीच के युवाओं में इसके लक्षण ज्यादा देखने को मिलते हैं। इस रोग के कारण ट्यूमर, न्यूरोमा, एपिर्मोइड आदि गांठे हो सकती हैं। ट्राइजेमिनल नाड़ी के पास से गुजरने वाली खून की धमनी कभी-कभी लूप का आकार ले लेती है। इस धमनी में होने वाली धड़कन से बार-बार नस को चोट लगने के कारण ये बिजली की तरह अचानक तीव्र गति से चेहरे पर दर्द करती है।

रेडियोफ्रिक्वेंसी एब्लेशन से उपचार
डॉ. शर्मा ने बताया कि एमआरआई जांच द्वारा इस रोग का पता लगाया जा सकता है। इस बीमारी का इलाज सर्जरी से ही संभव था, लेकिन अब रेडियोफ्रिक्वेंसी एब्लेशन तकनीक से बिना सर्जरी इलाज हो सकता है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

वैक्सीन के लिए उमड़ा जन सैलाब : 15 लाख को वैक्सीन लगाने का टारगेट

जिले में 400 से ज्यादा सेंटर्स ओर कैम्प्स के जरिये लगाई जा रही है वैक्सीन

17/09/2021

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

जयपुर के निजी अस्पताल में विदेशी मरीज का लिवर ट्रांसप्लांट, 2 साल से सिरोसिस से था पीड़ित

निजी हॉस्पिटल ने विदेशी नागरीक का लिवर प्रत्यारोपण किया है। सूडान के एक मरीज की सर्जरी की गई। रोगी दो साल से सिरोसिस से पीड़ित था।

19/07/2021

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019