Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of June 2021
 
स्वास्थ्य

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

Thursday, February 13, 2020 12:50 PM
चिकित्सकों की टीम थी।

जयपुर। सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है। ऐसा करने वाला एसएमएस उत्तर भारत ही नहीं बल्कि देश का पहला सरकारी अस्पताल बन गया है। युवक सड़क दुर्घटना में घायल होने पर उसे बीकानेर के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसे करीब एक सप्ताह पहले ब्रेनडैड घोषित कर दिया गया। इसकी सूचना एसएमएस अस्पताल को दी गई, मरीज को ट्रोमा सेंटर में भर्ती किया गया और उसके अंगों को डोनेट करने लायक बनाया गया। अस्पताल के सीटी सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष और हार्ट ट्रांसप्लांट यूनिट के हैड डॉ. अनिल शर्मा और टीम ने बुधवार अलसुबह करीब चार बजे ट्रांसप्लांट की तैयारियां शुरू की और सुबह करीब 10 बजे ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया पूरी की। अलवर निवासी मरीज को यह हार्ट लगाया गया है। ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को फिलहाल पोस्ट केयर यूनिट में गहन चिकित्सा इकाई में रखा गया है। वहीं डोनर का लिवर खराब होने के कारण उसे नहीं लगाया जा सका। जबकि दोनो किडनियां अस्पताल में भर्ती जरुरतमंद दो मरीजों को लगाई गई। दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट भी निशुल्क किया गया है।

अंगदान की पहल
अधीक्षक डॉ. मीणा ने बताया कि ब्रेन डैड युवक बीती तीन फरवरी को एक स्कूल बस से बाइक टकराने के कारण घायल हो गया था। उसे बीकानेर के अस्पताल भेजा गया, जहां मरीज को ब्रेनडैड घोषित किया गया। युवक के परिजनों ने अंगदान की पहल की। इस पर बीकानेर के अस्पताल अधीक्षक ने अंग प्रत्यारोपण के लिए बात की। युवक के अन्य अंग काम नहीं करने के चलते प्रत्यारोपण टलता रहा।

हार्ट ट्रांसप्लांट टीम के सदस्य
डॉ. अनिल शर्मा, डॉ. सुनील दीक्षित, डॉ. प्रमोद चांदोलिया, डॉ. मोहित, डॉ. केके महावर, डॉ. विमल यादव, डॉ. रीमा मीणा, डॉ. अंजुम, डॉ. सोहन शर्मा, डॉ. धु्रव शर्मा, डॉ. अनुराग, डॉ. सौरभ, डॉ. राजेन्द्र, डॉ. संजय, डॉ. अधोकशक, डॉ. पवित्र, कमलेश, सत्यप्रकाश, विश्वनाथ, अमीरा, आरपी मीणा सहित 28 चिकित्सकों की टीम थी।

 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

सात वचन निभाये, बाईपास सर्जरी भी कराई एक साथ

जीवन के सभी सुख-दुख साथ बांटने का वादा लिये एक जोड़े ने हार्ट की बायपास सर्जरी जैसा उपचार भी एक ही दिन, एक ही अस्पताल में और एक ही सर्जन से कराया।

05/11/2019

संक्रमण से बचाएगा देश का पहला 3D मास्क, SMS हॉस्पिटल एवं MNIT के सहयोग से किया तैयार

कोरोना के बेहतरीन उपचार को लेकर देशभर में विख्यात जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल के चिकित्सकों व एमएनआईटी जयपुर के सहयोग से कंपनी ने कोरोना से बचाव के लिए ऐसा मास्क बनाया है, जो संक्रमण से 99.9 फीसदी बचाएगा। खास बात ये है कि इस मास्क का विकास एवं निर्माण पूर्णतया जयपुर में हुआ है।

29/12/2020

ई-संजीवनी ओपीडी सेवा से मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे मिल रहा परामर्श

कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। जिससे अस्पतालों में भीड़ नियंत्रण कर संक्रमण को कम किया जा सके और आमजन को सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। इस सुविधा का आमजन लाभ भी उठा रहे हैं।

21/05/2020

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

गंभीर बीमारियों का इलाज भी होम्योपैथी से संभव

एक ओर जहां पूरा विश्व एलोपैथी दवाइयों और इलाज के पीछे भाग रहा है, वहीं होम्योपैथी पद्धति भी अब कई गंभीर रोगों के इलाज को संभव बना रही है।

10/04/2019

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है

17/03/2021

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019