Dainik Navajyoti Logo
Sunday 20th of June 2021
 
स्वास्थ्य

नहीं था अंगूठा, तर्जनी उंगली को जोड़ कर नया बनाया

Tuesday, January 28, 2020 14:55 PM
नया अंगूठा बना दिया।

जयपुर। कोटा की आयशा (3 वर्ष) के जन्म से ही दोनों हाथों में अंगूठे अविकसित थे, जिसके कारण वह कुछ भी ठीक से पकड़ नहीं पाती थी। वह छोटे-मोटे कामों के लिए भी दूसरों पर निर्भर थी। हैंड सर्जन ने सर्जरी कर आयशा की अंगूठे वाली खाली जगह में तर्जनी उंगली को जोड़ कर नया अंगूठा बना दिया, जिससे वह अब अपने हाथ का सही इस्तेमाल कर पा रही है। शहर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में यह सर्जरी की गई और बच्ची को बेहतर जीवन दिया गया।

विकसित नहीं हुए थे अंगूठे
इस सर्जरी को करने वाले नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक एवं हैंड सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता ने बताया कि बच्ची के दोनों हाथों के अंगूठे जन्मजात ही ठीक तरीके से विकसित नहीं हुए थे। इस स्थिति को हायपोप्लास्टिक थम्ब कहते हैं। अंगूठे न होने के कारण बच्ची कुछ भी पकड़ नहीं पाती थी। जब बच्ची के माता-पिता ने हमें यह दिखाया तो हमने उसके दोनों हाथों में अंगूठे लगाने की सर्जरी (पॉलीसाइजेशन) के बारे में परिजनों को बताया। यह सर्जरी एक बार में एक ही हाथ में होती है और इस केस में पहले मरीज के बाएं हाथ की सर्जरी की गई।

तर्जनी उंगली को बनाया अंगूठा
हैंड सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता ने बताया कि, पॉलीसाइजेशन के लिए बच्ची की तर्जनी (अंगूठे के बगल में) उंगली को अपनी जगह से हटाकर उसका अंगूठा बनाया। यह सर्जरी काफी जटिल व रिस्की थी, क्योंकि इसमें अंगूली को माँसपेशियों व नसों के साथ अपनी जगह से उठाकर अंगूठे की जगह पर प्रत्यारोपित करना पड़ता है। ऐसे में नसों को चोट लगने या दबाव से बंद होने का खतरा व अंगूली हमेशा के लिए खोने का भी डर रहता है। इस केस में अगर नसें ठीक से नहीं जुड़ती तो खून की नली बंद होने पर उंगली भी काली पड़ सकती थी। ऐसे में हमने सभी सावधानियों को बरतते हुए सर्जरी की और हम सर्जरी के परिणाम से काफी खुश है। पहले बाएं हाथ में यह सर्जरी की गई जिसमें तर्जनी उंगली को खून की नसों और टेंडन के साथ हटाकर अंगूठे की जगह लगाया गया। सर्जरी में करीब 4.30 घंटे का समय लगा। सर्जरी के बाद अब वह चीजें ढंग से पकड़ पा रही है।
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

वैज्ञानिकों का दावा, टी सेल थैरेपी से ठीक किया जा सकता है कैंसर

वैज्ञानिकों ने दावा किया कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यूनिटी को बढ़ाकर हर तरह के कैंसर से लड़ सकते हैं।

22/01/2020

कट्टरपंथी इस्लाम के प्रसार को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय बैठक बुलाउंगा : ट्रम्प

इस्लामिक स्टेट आतंकवादी समूह और इस्लामिक कट्टरपंथियों से निपटने के लिए विदेश नीति के दृष्टिकोण को पेश करते हुए रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि राष्ट्र निर्माण का युग खत्म होना चाहिए.

16/08/2016

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

05/12/2019

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

कोविड और पोस्ट कोविड मरीजों में हार्ट डिजीज का खतरा 15 प्रतिशत ज्यादा, अलर्ट रहने की जरूरत

पश्चिमी देशों के मुकाबले भारत में ह्रदय संबंधित मामले तीन गुना अधिक होते हैं। वहीं अब कोरोना वायरस द्वारा दिल पर बुरा प्रभाव पड़ने से डॉक्टरों की चिंताएं बढ़ा दी है। आंकड़ों के अनुसार कोरोना से संक्रमण होने पर हार्ट डिजीज का खतरा 10 से 15 प्रतिशत तक ज्यादा बढ़ जाता है।

06/01/2021

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

ब्रेन ट्यूमर से थम नहीं जाती जिंदगी, जल्दी जांच और नई तकनीकों से इलाज संभव

ब्रेन ट्यूमर की पहचान होने पर अकसर मरीज अपने जीवन की आशा छोड़ देते थे जबकि ब्रेन ट्यूमर से जिंदगी थम नहीं जाती है। चिकित्सा विज्ञान में आई नई तकनीकें ब्रेन ट्यूमर के मरीजों के लिए वरदान साबित हुई हैं। जल्दी जांच करवाकर नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का इलाज अब आसानी से संभव है।

09/06/2020