Dainik Navajyoti Logo
Saturday 28th of March 2020
 
स्वास्थ्य

नहीं था अंगूठा, तर्जनी उंगली को जोड़ कर नया बनाया

Tuesday, January 28, 2020 14:55 PM
नया अंगूठा बना दिया।

जयपुर। कोटा की आयशा (3 वर्ष) के जन्म से ही दोनों हाथों में अंगूठे अविकसित थे, जिसके कारण वह कुछ भी ठीक से पकड़ नहीं पाती थी। वह छोटे-मोटे कामों के लिए भी दूसरों पर निर्भर थी। हैंड सर्जन ने सर्जरी कर आयशा की अंगूठे वाली खाली जगह में तर्जनी उंगली को जोड़ कर नया अंगूठा बना दिया, जिससे वह अब अपने हाथ का सही इस्तेमाल कर पा रही है। शहर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में यह सर्जरी की गई और बच्ची को बेहतर जीवन दिया गया।

विकसित नहीं हुए थे अंगूठे
इस सर्जरी को करने वाले नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक एवं हैंड सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता ने बताया कि बच्ची के दोनों हाथों के अंगूठे जन्मजात ही ठीक तरीके से विकसित नहीं हुए थे। इस स्थिति को हायपोप्लास्टिक थम्ब कहते हैं। अंगूठे न होने के कारण बच्ची कुछ भी पकड़ नहीं पाती थी। जब बच्ची के माता-पिता ने हमें यह दिखाया तो हमने उसके दोनों हाथों में अंगूठे लगाने की सर्जरी (पॉलीसाइजेशन) के बारे में परिजनों को बताया। यह सर्जरी एक बार में एक ही हाथ में होती है और इस केस में पहले मरीज के बाएं हाथ की सर्जरी की गई।

तर्जनी उंगली को बनाया अंगूठा
हैंड सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता ने बताया कि, पॉलीसाइजेशन के लिए बच्ची की तर्जनी (अंगूठे के बगल में) उंगली को अपनी जगह से हटाकर उसका अंगूठा बनाया। यह सर्जरी काफी जटिल व रिस्की थी, क्योंकि इसमें अंगूली को माँसपेशियों व नसों के साथ अपनी जगह से उठाकर अंगूठे की जगह पर प्रत्यारोपित करना पड़ता है। ऐसे में नसों को चोट लगने या दबाव से बंद होने का खतरा व अंगूली हमेशा के लिए खोने का भी डर रहता है। इस केस में अगर नसें ठीक से नहीं जुड़ती तो खून की नली बंद होने पर उंगली भी काली पड़ सकती थी। ऐसे में हमने सभी सावधानियों को बरतते हुए सर्जरी की और हम सर्जरी के परिणाम से काफी खुश है। पहले बाएं हाथ में यह सर्जरी की गई जिसमें तर्जनी उंगली को खून की नसों और टेंडन के साथ हटाकर अंगूठे की जगह लगाया गया। सर्जरी में करीब 4.30 घंटे का समय लगा। सर्जरी के बाद अब वह चीजें ढंग से पकड़ पा रही है।
 

यह भी पढ़ें:

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019

लिगामेंट चोट में अब नई डबल बंडल तकनीक

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट घुटनों की चोट में सर्वाधिक चोटिल होने वाला लिगामेंट है। लिगामेंट दो हड्डियों की संरचना को जोड़ने वाली इकाई है, जो हड्डियों की चाल को आसान बनाती है।

08/05/2019

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

05/12/2019

सोनोलोजिस्ट के राष्ट्रीय सेमिनार की हुई शुरुआत

फेडरेशन ऑफ क्लिनिकल सोनोलोजिस्ट की ओर से केके रॉयल एण्ड कन्वेशन सेंटर में तीन दिवसीय सोनोग्राफी पर राष्ट्रीय सेमिनार की शुरूआत हो गई।

10/01/2020