Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 10th of December 2019
 
स्वास्थ्य

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

Saturday, November 16, 2019 15:30 PM
इंटरनेशनलवर्कशॉप में विशेषज्ञों ने नए सिस्टम के बारे में बताया।

जयपुर। मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है। इसके लिए हाईफ्लो नेजल कैन्युला (एचएनएफसी) तकनीक आ गई है। इस तकनीक से वेंटीलेटर के जोखिम बिल्कुल खत्म हो जाते हैं। एकेडमी ऑफ क्लीनिकल एजुकेशन (एस) और इंडियन सोसायटी ऑफ क्रिटीकल केयर मेडिसिन के संयुक्त तत्वाधान में शनिवार से शुरू हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल हैंड्स ऑन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने ऐसे ही नए लाइफ सपोर्ट सिस्टम के बारे में बताया। कॉन्फ्रेंस के आयोजन सचिव डॉ. पंकज आनंद ने बताया कि वर्कशॉप में दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरू से आए विशेषज्ञों ने आईसीयू में आने वाले गंभीर मरीजों का बचाने में काम आने वाली नई तकनीकों के बारे में जानकारी दी।

इस दौरान मेडिकल स्टूडेंट्स को सिम्यूलेटर पर नई तकनीकों का इस्तेमाल करना सिखाया गया। हर बीमारी में वेंटीलेटर में होने वाली अलग-अलग सेंटिग्स से मरीज के शरीर में उसका क्या प्रभाव पड़ता है, उसका सिम्यूलेटर पर लाइव डेमो दिया गया।  वर्कशॉप के पहले दिन बेंगलुरू के डॉ. सुनील कारांथ, मुंबई से डॉ. विजया पाटिल, हैदराबाद से डॉ. श्रीनिवास सामावेदम ने क्रिटीकल केयर में आई नवीनतम तकनीकों के बारे में जानकारी दी।

वेंटीलेटर के खतरों से बचाती एचएनएफसी तकनीक
हैदराबाद के डॉ. सामावेदम ने बताया कि जो मरीज पूरी तरह से सांस नहीं ले पाते हैं तो उन्हें वेंटीलेटर पर ले जाये बिना ही बचाया जा सकता है। इसके लिए एचएनएफसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें मरीज को वेंटीलेटर न लगाकर हाई फ्लो से सांस दी जाती है। इससे मरीज को वेंटीलेटर पर होने वाले नुकसान जैसे निमोनिया, बीपी संबंधित समस्याएं, पाइप डालने पर होने वाली तकलीफ नहीं होती और उसे बचा लिया जाता है। इसके अलावा पहले दिन कई साइंटिफिक सेशन आयोजित हुए जिसमें बेसिक फीजियोलॉजी, हार्ट-लंग इंटरेक्शन, आर्टरियल ब्लड गैस एनालिसिस, नॉन-इनवेसिव वेंटीलेशन जैसे विषयों पर चर्चा की गई।

 

यह भी पढ़ें:

भारतीयों में आंखों की बढ़ती बीमारी से चिंता

विश्व दृष्टि दिवस पर हाल में जारी एक शोध के नतीजे में कहा गया है कि भारतीयों में दृष्टि दोष या आंखों के कमजोर और बीमार होने के मामले हाल में बहुत बढ गए हैं।

12/10/2019

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

डेंगू होने से फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया, वेंटीलेटर भी फेल, डॉक्टर्स ने बचाया

डेंगू के गंभीर स्थिति में हो जाने के बाद प्रिंस के फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया था। कृत्रिम सांस देने के लिए लगाया गया वेंटीलेटर भी फेल हो गया था।

18/10/2019

सेरेब्रल मलेरिया की दस्तक, चपेट में आई बालिका

डेंगू बुखार और सामान्य मलेरिया के बाद अब प्रदेश में सेरेब्रल मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इस बीमारी को जानलेवा फालस्पिैरम मलेरिया के नाम से भी जाना जाता है।

18/10/2019

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

एक्सप्रेस-वे पर दो दुर्घटनाओं में मां-बेटे सहित आठ लोगों की मौत, 15 घायल

मथुरा : दिल्ली-आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे पर आज तड़के सड़क किनारे खड़ी बस को टैंकर ने पीछे से टक्कर मार दिया, जिसके कारण बस के बाहर खड़े लोगों में से छह की मौके पर ही मौत हो गयी.

16/08/2016