Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 14th of July 2020
 
स्वास्थ्य

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

Saturday, November 16, 2019 15:30 PM
इंटरनेशनलवर्कशॉप में विशेषज्ञों ने नए सिस्टम के बारे में बताया।

जयपुर। मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है। इसके लिए हाईफ्लो नेजल कैन्युला (एचएनएफसी) तकनीक आ गई है। इस तकनीक से वेंटीलेटर के जोखिम बिल्कुल खत्म हो जाते हैं। एकेडमी ऑफ क्लीनिकल एजुकेशन (एस) और इंडियन सोसायटी ऑफ क्रिटीकल केयर मेडिसिन के संयुक्त तत्वाधान में शनिवार से शुरू हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल हैंड्स ऑन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने ऐसे ही नए लाइफ सपोर्ट सिस्टम के बारे में बताया। कॉन्फ्रेंस के आयोजन सचिव डॉ. पंकज आनंद ने बताया कि वर्कशॉप में दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरू से आए विशेषज्ञों ने आईसीयू में आने वाले गंभीर मरीजों का बचाने में काम आने वाली नई तकनीकों के बारे में जानकारी दी।

इस दौरान मेडिकल स्टूडेंट्स को सिम्यूलेटर पर नई तकनीकों का इस्तेमाल करना सिखाया गया। हर बीमारी में वेंटीलेटर में होने वाली अलग-अलग सेंटिग्स से मरीज के शरीर में उसका क्या प्रभाव पड़ता है, उसका सिम्यूलेटर पर लाइव डेमो दिया गया।  वर्कशॉप के पहले दिन बेंगलुरू के डॉ. सुनील कारांथ, मुंबई से डॉ. विजया पाटिल, हैदराबाद से डॉ. श्रीनिवास सामावेदम ने क्रिटीकल केयर में आई नवीनतम तकनीकों के बारे में जानकारी दी।

वेंटीलेटर के खतरों से बचाती एचएनएफसी तकनीक
हैदराबाद के डॉ. सामावेदम ने बताया कि जो मरीज पूरी तरह से सांस नहीं ले पाते हैं तो उन्हें वेंटीलेटर पर ले जाये बिना ही बचाया जा सकता है। इसके लिए एचएनएफसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें मरीज को वेंटीलेटर न लगाकर हाई फ्लो से सांस दी जाती है। इससे मरीज को वेंटीलेटर पर होने वाले नुकसान जैसे निमोनिया, बीपी संबंधित समस्याएं, पाइप डालने पर होने वाली तकलीफ नहीं होती और उसे बचा लिया जाता है। इसके अलावा पहले दिन कई साइंटिफिक सेशन आयोजित हुए जिसमें बेसिक फीजियोलॉजी, हार्ट-लंग इंटरेक्शन, आर्टरियल ब्लड गैस एनालिसिस, नॉन-इनवेसिव वेंटीलेशन जैसे विषयों पर चर्चा की गई।

 

यह भी पढ़ें:

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

भारतीयों में आंखों की बढ़ती बीमारी से चिंता

विश्व दृष्टि दिवस पर हाल में जारी एक शोध के नतीजे में कहा गया है कि भारतीयों में दृष्टि दोष या आंखों के कमजोर और बीमार होने के मामले हाल में बहुत बढ गए हैं।

12/10/2019

लिगामेंट चोट में अब नई डबल बंडल तकनीक

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट घुटनों की चोट में सर्वाधिक चोटिल होने वाला लिगामेंट है। लिगामेंट दो हड्डियों की संरचना को जोड़ने वाली इकाई है, जो हड्डियों की चाल को आसान बनाती है।

08/05/2019

नेजोफैरेंजियल वॉश रोक सकते है कोरोना इंफेक्शन: लंग इंडिया

अंतरराष्ट्रीय जनरल लंग इंडिया ने अपने ताजा अंक में प्रकाशित रिसर्च पेपर में प्रतिपादित किया है कि अगर गुनगुने पानी के गरारे और नेजल वॉश (जल नेती) को नियमित किया जाए तो कोरोना का संक्रमण जो इंसान के मुंह और गले से होते हुए लंग्स (फेंफड़ों) तक पहुंचता है, उस पर विराम लग सकती है तथा कोरोना के इलाज में मदद मिल सकती है।

06/05/2020

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019