Dainik Navajyoti Logo
Friday 18th of June 2021
 
स्वास्थ्य

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

Friday, November 22, 2019 09:25 AM
सवाई मानसिंह अस्पताल।

जयपुर। सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी। जानकारी के अनुसार अभी न्यूरोलॉजी विभाग में जनरल ओपीडी चलती है। इसमें मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया सहित सभी तरह की दिमागी बीमारियों के मरीज आ रहे हैं, लेकिन स्पेशयलिटी क्लीनिक में हर रोग की अलग से क्लीनिक होगी। जैसे मिर्गी का रोगी मिर्गी क्लीनिक में, डिमेंशिया का डिमेंशिया क्लीनिक में ही इलाज करवा सकेगा। इससे ओपीडी में भीड़ कम होगी और बेहतर इलाज मिल सकेगा। इस क्लीनिक के लिए अस्पताल अधीक्षक और एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्राचार्य की ओर से स्वीकृति मिल गई है और उम्मीद है कि जल्द ही जगह चिन्हित कर इस क्लीनिक को शुरू कर दिया जाएगा।

शोध कार्यों में मिलेगी सहायता
एसएमएस में रोजाना 600 से 800 मरीज न्यूरो के आ रहे हैं। ऐसे में अलग-अलग बीमारियों के मरीजों का रिकॉर्ड रख पाना मुश्किल हो रहा था। अलग-अलग क्लीनिक में मरीजों का रिकॉर्ड मेंटेंन होगा। इससे न केवल रोग का बेहतर तरीके से निदान और इलाज हो पाएगा, बल्कि जनशिक्षा कार्यक्रम भी नियमित रूप से आयोजित किए जा सकेंगे एवं शोध कार्यों में काफी सहायता मिलेगी।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

29/09/2020

फिट मूवमेंट के तहत प्रदेश के युवाओं को करेंगे अवेयर

फिट इंडिया मूवमेंट की तर्ज पर एक वेलफेयर सोसायटी की ओर से फिट राजस्थान मूवमेंट का आयोजन किया जाएगा।

03/12/2019

क्या है कोरोना वायरस, पढ़िए इसके लक्षण और इससे बचाव की पूरी जानकारी

चाइना में कहर बरपाने के बाद कोरोना वायरस अब भारत में भी अपनी दस्तक दे चुका है। मुंबई में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मामले सामने आए हैं। दोनों संदिग्धों को कस्तूरबा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

24/01/2020

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019

ई-संजीवनी ओपीडी सेवा से मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे मिल रहा परामर्श

कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। जिससे अस्पतालों में भीड़ नियंत्रण कर संक्रमण को कम किया जा सके और आमजन को सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। इस सुविधा का आमजन लाभ भी उठा रहे हैं।

21/05/2020