Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 10th of December 2019
 
स्वास्थ्य

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

Friday, November 22, 2019 09:25 AM
सवाई मानसिंह अस्पताल।

जयपुर। सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी। जानकारी के अनुसार अभी न्यूरोलॉजी विभाग में जनरल ओपीडी चलती है। इसमें मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया सहित सभी तरह की दिमागी बीमारियों के मरीज आ रहे हैं, लेकिन स्पेशयलिटी क्लीनिक में हर रोग की अलग से क्लीनिक होगी। जैसे मिर्गी का रोगी मिर्गी क्लीनिक में, डिमेंशिया का डिमेंशिया क्लीनिक में ही इलाज करवा सकेगा। इससे ओपीडी में भीड़ कम होगी और बेहतर इलाज मिल सकेगा। इस क्लीनिक के लिए अस्पताल अधीक्षक और एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्राचार्य की ओर से स्वीकृति मिल गई है और उम्मीद है कि जल्द ही जगह चिन्हित कर इस क्लीनिक को शुरू कर दिया जाएगा।

शोध कार्यों में मिलेगी सहायता
एसएमएस में रोजाना 600 से 800 मरीज न्यूरो के आ रहे हैं। ऐसे में अलग-अलग बीमारियों के मरीजों का रिकॉर्ड रख पाना मुश्किल हो रहा था। अलग-अलग क्लीनिक में मरीजों का रिकॉर्ड मेंटेंन होगा। इससे न केवल रोग का बेहतर तरीके से निदान और इलाज हो पाएगा, बल्कि जनशिक्षा कार्यक्रम भी नियमित रूप से आयोजित किए जा सकेंगे एवं शोध कार्यों में काफी सहायता मिलेगी।

यह भी पढ़ें:

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी।

14/05/2019

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

सेरेब्रल मलेरिया की दस्तक, चपेट में आई बालिका

डेंगू बुखार और सामान्य मलेरिया के बाद अब प्रदेश में सेरेब्रल मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इस बीमारी को जानलेवा फालस्पिैरम मलेरिया के नाम से भी जाना जाता है।

18/10/2019

इस खास तकनीक से बिना सीना चीरे बदला हार्ट वाल्व

कभी बुजुर्गों की मानी जाने वाले हृदय की बीमारियां अब युवा पीढ़ी को भी अपनी चपेट में ले रही है । यह समाज के लिए बड़ी चुनौती है।

07/11/2019

भारतीयों में आंखों की बढ़ती बीमारी से चिंता

विश्व दृष्टि दिवस पर हाल में जारी एक शोध के नतीजे में कहा गया है कि भारतीयों में दृष्टि दोष या आंखों के कमजोर और बीमार होने के मामले हाल में बहुत बढ गए हैं।

12/10/2019