Dainik Navajyoti Logo
Friday 28th of January 2022
 
स्वास्थ्य

साउथ अफ्रीका का ओमिक्रॉन वायरस : शंका के घेरे में कोरोना जांच, एक्सपर्ट चिंतित

Tuesday, November 30, 2021 12:05 PM
कॉन्सेप्ट फोटो

 जयपुर। साउथ अफ्रीका में जन्मे कोरोना के नए रूप ओमिक्रॉन (बी.1.1.529) वायरस पर आरटीपीसीआर जांच कितनी कारगर रहेगी, इस पर अभी स्थितियां साफ नहीं हो पाई है, लेकिन चिकित्सकों को इसकी एक्यूरेसी की चिंता है। अभी तक प्रदेश में कोरोना के सामान्य, अल्फा, गामा और डेल्टा वेरिएंट ही सामने आए हैं। उन पर आरटीपीसीआर जांच की 60 फीसदी तक ही एक्यूरेसी है यानी कोरोना के 10 मरीजों में से जांच 6 मरीजों को ही पॉजिटिव बताती है, लेकिन नए ओमिक्रॉन वायरस से किसी के संक्रमित होने पर टेस्ट की एक्यूरेसी कितनी रहेगी, इसे लेकर प्रदेश के कोरोना के सैकड़ों मरीजों का इलाज कर चुके डॉक्टरों में संशय बरकरार है। डॉक्टरों को आशंका है कि नए वायरस पर टेस्ट की एक्यूरेसी और कम हो सकती है, क्योंकि वायरस के स्पाइक प्रोटीन में करीब 30 म्यूटेशन हैं। वायरस पुराने वेरिएंट से भी ज्यादा जांच को धोखा दे सकता है।

इनका कहना है : जांच किट की अभी एक्यूरेसी 60-70 फीसदी ही है। ओमिक्रॉन में एक्यूरेसी कितनी होगी, इस पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। हालांकि उम्मीद है वायरस के एक्सकेप प्रोटीन की जांच सही रहे। मरीज की एचआरसीटी-स्कैन जांच में लंग्स में इंफेक्शन का तो पता लगाया ही जा सकता है।  -डॉ. रमन शर्मा, प्रोफेसर मेडिसिन, एसएमएस मेडिकल कॉलेज

ओमिक्रॉन आया और एक्यूरेसी कम तो तीसरी लहर ज्यादा घातक

नए वेरिएंट ओमिक्रॉन की प्रदेश में दस्तक हुई और आरटीपीसीआर जांच में डॉक्टरों की शंकाएं सही निकली तो मरीज चिन्हित करना भी चिकित्सा विभाग के सामने बड़ी चुनौती होगी। मरीज चिन्हित नहीं हुए तो उसके आइसोलेट या क्वारंटीन नहीं होने पर संक्रमण काफी तेजी से फैल सकता है, क्योंकि नया ओमिक्रॉन वायरस दूसरी लहर लाने वाले डेल्टा वेरिएंट से भी कई गुना ज्यादा संक्रमण दर वाला है।  


फिलहाल 80 फीसदी डेल्टा वेरिएंट के शिकार
: एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में राहत यह है कि जो भी संक्रमित आ रहे हैं उनमें 80 फीसदी डेल्टा वेरिएंट और शेष 20 फीसदी अल्फा, गामा और अन्य कमजोर वेरिएंट के हैं। कॉलेज की जीनोम सिक्वेंसिंग लैब में 800 केसों की जांचों में यह पुष्टि हुई है।

अभी भी कई मरीज ऐसे आ रहे हैं जिनमें कोविड के सभी लक्षण हैं, लेकिन उनकी आरटीपीसीआर जांच में रिपोर्ट नेगेटिव है। एचआरसीटी स्कैन या एक्स रे में लंग्स में भी इंफेक्शन आ रहा है। टेस्ट की एक्यूरेसी में संशय पैदा हो सकता है, लेकिन नए वेरिएंट पर टेस्ट किट एक्यूरेसी पर वैज्ञानिक शोध अलर्ट रहने के लिए जरूर हो, क्योंकि बीमारी एपेडेमिक है। -डॉ.सीएल नवल, प्रोफेसर मेडिसिन, एसएमएस मेडिकल कॉलेज

प्रदेश में कोरोना के 12 नए रोगी

जयपुर। प्रदेश में सोमवार को कोरोना के 12 नए रोगी मिले हैं। इनमें जयपुर में सबसे अधिक आठ मरीज है, जबकि उदयपुर, अजमेर, बाड़मेर और हनुमानगढ़ में एक-एक नए रोगी हैं। हालांकि राहत यह है कि प्रदेश में कोरोना से मौतों पर अंकुश है। सोमवार को भी प्रदेश में कहीं कोई मौत नहीं हुई है। नए मरीजों के मुकाबले 24 मरीज रिकवर होने से एक्टिव केस जो 199 पहुंच गए थे, सोमवार को अब 187 बचे हैं। जयपुर में 100 एक्टिव केस हैं। वहीं अजमेर में 22, अलवर में 16, बीकानेर में 14, नागौर में 10, जैसलमेर में पांच, जोधपुर में चार, दौसा, पाली, राजसमंद में दो-दो और हनुमानगढ़ में एक एक्टिव केस हैं। बाकी बचे 23 जिले फिलहाल कोरोना फ्री हैं।

जोखिम वाले देशों से आने वाले को करानी होगी कोविड जांच

एजेंसी/नई दिल्ली। कोविड के नए रूप ओमिक्रॉन को देखते हुए सरकार ने जोखिम वाले देशों की सूची में शामिल दक्षिण अफ्रीका, इजरायल, ब्रिटेन और बांग्लादेश समेत 12 राष्ट्रों से भारत आने वाले व्यक्तियों को भारतीय भूमि पर पहुंचने के साथ ही अनिवार्य रूप से कोविड जांच करानी होगी। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोमवार को यहां जारी संशोधित दिशा-निर्देशों में कहा कि ब्रिटेन समेत यूरोप के कुछ देशों, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मारिशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाव्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इजरायल से भारत पहुंचने वाले व्यक्तियों को अनिवार्य रूप से कोविड जांच करानी होगी। इस सूची की लगातार समीक्षा की जाती है और समय-समय पर इसमें बदलाव होता है।  दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि भारत पहुंचने वाले व्यक्तियों को 72 घंटे पहले का आरटी-पीसीआर जांच लेकर आनी होगी और कोविड नकारात्मक होने बावजूद भी सात दिन तक अपने आवास पर आइसोलेशन में रहना होगा। कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने पर व्यक्ति को कोविड मानकों के अनुरूप इलाज किया जाएगा।

 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

स्ट्रोक का सही समय पर इलाज कर 34 वर्षीय महिला मरीज की बचाई जान

जयपुर शहर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टमी तकनीक से स्ट्रोक से पीड़ित एक 34 वर्षीय महिला मरीज की जान बचाने में सफलता प्राप्त की है। दरअसल मरीज को हाल ही में जब दुर्लभजी अस्पताल की इमरजेंसी में लाया गया था तब उसे अचेतन अवस्था के साथ ही शरीर के बाएं हिस्से में लकवे की शिकायत थी।

24/01/2021

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020

कोविड के दौर में डेंगू भी दे रहा दस्तक, डेंगू के प्रारंभिक लक्षण कोरोना के जैसे होने से पैदा हो रही उलझन

कोविड महामारी के दौर में जहां लक्षणों के आधार पर जांच व इलाज की दिशा तय की जा रही है, वहीं इस कड़ी में बहुत सी ऐसी बीमारियां भी हैं जिनके प्राथमिक लक्षण कोविड से मिलते जुलते हैं। ये लक्षण लोगों मन में कुछ हद तक उलझन पैदा कर सकते हैं। इन्हीं में से एक है डेंगू।

16/05/2021

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

सेरेब्रल मलेरिया की दस्तक, चपेट में आई बालिका

डेंगू बुखार और सामान्य मलेरिया के बाद अब प्रदेश में सेरेब्रल मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इस बीमारी को जानलेवा फालस्पिैरम मलेरिया के नाम से भी जाना जाता है।

18/10/2019