Dainik Navajyoti Logo
Monday 21st of September 2020
 
स्वास्थ्य

17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट अस्पताल से डिस्चार्ज, कुछ दिनों तक रहेगा चिकित्सकों की निगरानी में

Friday, February 07, 2020 09:45 AM
अस्पताल से डिस्चार्ज हुआ हार्ट रिसिपिएंट।

जयपुर। प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल में गत दिनों हुए उत्तर भारत के पहले सरकारी स्तर के हार्ट ट्रांसप्लांट किए जाने के बाद 17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट को गुरुवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। वह अब पूरी तरह से स्वस्थ्य है और अपने रोजमर्रा के जरूरी काम करने में सक्षम है। लेकिन उसके बावजूद अस्पताल प्रशासन की ओर से उसे एतिहात के लिए बनीपार्क जयसिंह हाइवे स्थित माधव आश्रम में रखा गया। यहां वह 24 घंटे एक ट्रेंड आईसीयू स्टाफ और परिजनों की निगरानी में रहेगा।

एसएमएस अस्पताल सीटी सर्जरी विभाग के वरिष्ठ आचार्य एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल शर्मा ने बताया कि हार्ट रिसिपिएंट को यहां से डिस्चार्ज करने के बाद करीब 15 दिनों के लिए बनीपार्क स्थित माधव आश्रम में डॉक्टर्स के ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा। गुरुवार दोपहर को डॉक्टर की टीम ने उसे माधव आश्रम पहुंचाया। हार्ट रिसिपिएंट की देखदेख के लिए एसएमएस का एक डॉक्टर 24 घंटे उसकी देखरेख में रहेगा।

अस्पताल प्रशासन देगा मरीज के परिजनों को ट्रेनिंग
डॉ. शर्मा ने बताया कि मरीज की समय-समय पर जांच भी कराई जाएगी। उसके बाद उसे गांव भेजा जाएगा। मरीज की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण उसके गांव में भी उसके रहने के लिए विशेष इंतजाम किए जाएंगे ताकि उसे किसी प्रकार का इंफेक्शन नहीं हो। इसके लिए मरीज के परिजनों को डॉक्टर्स की तरफ  से ट्रेनिंग भी दी जाएगी। गौरतलब है कि गत 16 जनवरी को सवाईमाधोपुर निवासी 17 वर्षीय युवक को ब्रेन डेड सांवरमल का हार्ट प्रत्यारोपित किया गया था। सांवरमल के परिजनों ने हार्ट के अलावा दोनों किडनियां और लिवर भी डोनेट किया था।

यह भी पढ़ें:

'भारत-अमेरिका नवोन्मेष मंच' का उद्घाटन अगले सप्ताह

किसी नए विचार या नव प्रवर्तन को उसकी खोज के स्तर से उठाकर उसको उसके वाणिज्यिक प्रयोग तक पहुंचाने में मदद के लिए भारत और अमेरिका में एक नई भागीदारी शुरू होने जा रही है। भारत-अमेरिका नवोन्मेष मंच नाम से इस पहल की शुरुआत अगले सप्ताह नई दिल्ली में की जाएगी।

25/08/2016

Video: मेंढक के स्टेम सेल से बनाया दुनिया का पहला जिंदा रोबोट, जो करेगा कैंसर का इलाज

अफ्रीकी मेंढक के स्टेम सेल से अमेरिका के वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला जिंदा और सबसे छोटा रोबोट तैयार किया है, जिसका आकार में इंच के 25वें भाग यानी 1 मिमी जितना है।

15/01/2020

14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर की सफल सर्जरी

सवाई मानसिंह अस्पताल के गेस्ट्रोसर्जरी एवं एनेस्थिसिया विभाग के चिकित्सकों ने महज 14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर का आॅपरेशन करने में सफलता प्राप्त की है।

10/04/2019

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।

30/11/2019

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019