Dainik Navajyoti Logo
Friday 17th of September 2021
 
स्वास्थ्य

सफलतापूर्वक सर्जरी कर मासूम को दिया नया जीवन

Monday, August 23, 2021 16:30 PM
सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर सफलतापूर्वक सर्जरी के बाद बच्चे के साथ।

 जयपुर। शहर के निजी अस्पताल के कार्डियक साइंसेज टीम ने 3 साल के ऐसे बच्चे की जान बचा ली जिसका बच पाना नामुमकिन सा था- छाती पर 200 किलो का ड्रम गिरने से उसके दिल का एक बड़ा हिस्सा (वेट्रीकुलर सेप्टम) फट गया था और वह हार्ट फेलियर में आ चुका था। काफी क्रिटीकल होने के बावजूद सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर व उनकी टीम ने सभी जोखिमों को मैनेज करते हुए मासूम की सफलतापूर्वक सर्जरी कर उसे एक नया जीवन दिया। आंतरिक सूजन इतनी ज्यादा थी कि सर्जरी के दो दिन तक छाती को खुला रखना पड़ा ताकि उसका हृदय वापस अपने सामान्य आकार में आ सके। गंभीर चोट के प्रभाव से दिल में बड़ा छेद बन जाना- यह काफी रेयर मामला है और दुनिया में ऐसे चंद ही केस रिपोर्ट हुए है।


3 साल का अंकुश अपने घर पर खेल रहा था जब उसने 200 किलो के ड्रम (खेत में किटनाशकों के छिड़काव में इस्तेमाल किया जाने वाला) पर चढ़ने की कोशिश की और वह उसकी छाती पर गिर गया जिससे अंकुश गंभीर रूप से घायल होकर अचेत हो गया। उसके माता-पिता उसे कई स्थानीय अस्पताल लें गये जहाँ से अंकुश को नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल, जयपुर रैफर कर दिया गया। जब तक वह नारायणा हॉस्पिटल की इमरजेंसी में लाया गया, वह मल्टी-आर्गन फेलियर की स्थिति में पहुंच चुका था। अस्पताल में मरीज की प्राथमिक एवं एडवांस जाँचे की गई आंतरिक चोटों का पता लगाने के लिये। यह आश्चर्यजनक रूप से देखा गया कि कोई बाहरी चोट न होते हुए भी हृदय पर प्रभाव इतना गहरा था कि हृदय का वेन्ट्रीकुलर सेप्टम फट गया था।


नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल, जयपुर के सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने कहा कि “हृदय में छेद एक सामान्य जन्मजात हृदय रोग है, लेकिन गंभीर चोट के प्रभाव से हृदय का एक हिस्सा फट जाना और छेद बन जाना काफी रेयर है। ऐसे छेद को ठीक करना बेहद चुनौतिपूर्ण होता है खासकर जब मरीज इतना छोटा बच्चा हो जिसकी धमनियां और नसें धागे के बराबर हो। हृदय के अन्य भागों को नुकसान पहुंचायें बिना घायल हिस्से को ठीक करने के लिये बहुत एकाग्रता की जरूरत होती है क्योंकि ऐसे मामलें में मामूली सी लापरवाही भी घातक हो सकती थी।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

एक्सप्रेस-वे पर दो दुर्घटनाओं में मां-बेटे सहित आठ लोगों की मौत, 15 घायल

मथुरा : दिल्ली-आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे पर आज तड़के सड़क किनारे खड़ी बस को टैंकर ने पीछे से टक्कर मार दिया, जिसके कारण बस के बाहर खड़े लोगों में से छह की मौके पर ही मौत हो गयी.

16/08/2016

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

वैज्ञानिकों का दावा, टी सेल थैरेपी से ठीक किया जा सकता है कैंसर

वैज्ञानिकों ने दावा किया कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यूनिटी को बढ़ाकर हर तरह के कैंसर से लड़ सकते हैं।

22/01/2020

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

कोरोना से अटकी 'रोशनी', संक्रमण के चलते दान नहीं हो सकी आंखें

राजस्थान में कोरोना महामारी के कारण अंधता से जूझ रहे हजारों लोगों के जीवन में रोशनी का इंतजार और लंबा हो गया है। संक्रमण के खतरे के चलते आंखें यानि कार्निया दान करने की रफ्तार पर ब्रेक से लग गए। प्रदेश में इस साल मार्च में कोरोना की दस्तक के बाद से कार्निया दान होने की प्रक्रिया एक तरह से थम सी गई।

04/01/2021