Dainik Navajyoti Logo
Saturday 24th of October 2020
 
स्वास्थ्य

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल में मनाया गया विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

Thursday, October 10, 2019 15:40 PM
आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार का आयोजन किया गया।

जयपुर। अजमेर रोड स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में मनोरोग विभाग की ओर से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर चिकित्सकों के लिए अवसाद एवं आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार एवं मानसिक स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। विभागाध्यक्ष डॉ. अखिलेश जैन ने अवसाद के विभिन्न लक्षणों, कारणों एवम इलाज़ के बारे में ऑडिओविसुअल प्रेजेंटेशन के जरिये जानकारी दी। डॉ. जैन ने बताया कि इस बार की थीम आत्महत्त्या की रोकथाम पर फोकस की गई है, क्योंकि विश्व मे लगभग 8 लाख लोग प्रतिवर्ष इसका शिकार होते है, जो कि लगभग हर 40 सेकंड में एक आत्महत्त्या का होना दर्शाता है। भारत मे 2015 की रिपॉर्ट के अनुसार आत्महत्त्या का आंकड़ा 10.6 प्रति लाख व्यक्ति है। राजस्थान में यह आंकड़ा 4.8 प्रति लाख व्यक्ति है। मनोरोग विभाग की ओर से आत्महत्त्या रोकथाम को लेकर आमजन में  एक कैंपेन चलाया गया था, जो चिकिसकों की संगोष्ठी के साथ संपन्न हुआ ।डॉ जैन ने बताया कि आत्महत्त्या को रोक जा सकता है। इसीलिए चिकित्सकों को इसके रिस्क फैक्टर्स,वार्निंग साइन एवम कारणों जिनमे अवसाद एक मुख्य कारण है।

भारत मे लगभग बीस में से एक व्यक्ति अपने जीवन काल मे अवसाद से ग्रसित होता है। चिकिसकों की ओर से इसके प्रारंभिक लक्षणों की पहचान कर समय पर उपचार किये जाने से हम किसी बहुमूल्य जीवन को बचा सकते है ।कार्यक्रम  के मुख्य अतिथि अतिरिक्त महानिदेशक, राजस्थान पुलिस डॉ. रविप्रकाश मेहरड़ा ने सोशल मीडिया के जरिये युवाओं को जागरूक करने पर जोर दिया। उन्होंने मानसिक स्वास्थ्य को लेकर विभिन्न स्तर पर जागरूकता कार्यक्रमों पर जोर दिया। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बनारसीदास ने चिकिसकों से मानसिक रोगियों के साथ संवेदनशील एवं भावनात्मक रूप से जुड़ने पर जोर दिया।  इस अवसर पर निजी क्षेत्र में बेहतर एवं सुलभ मानसिक चिकित्सा उपलब्ध कराने पर डॉ. राकेश यादव को सम्मानित किया गया।

 

यह भी पढ़ें:

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक से बोन कैंसर का इलाज, रिकवरी में लगने वाला समय और खर्च भी होगा कम

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक बोन कैंसर से जुझ रहे रोगियों के इलाज की नवीनतम तकनीक के रूप में सामने आई है। इस तकनीक की सहायता से रोगी की कैंसर ग्रसित बोन को लिक्विड नाइट्रोजन की सहायता से कैंसर मुक्त करना संभव है।

12/06/2020

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है।

08/06/2019

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

सवाई मानसिंह अस्पताल में हुआ हार्ट ट्रांसप्लांट, मुख्यमंत्री गहलोत ने जताई खुशी

सवाई मानसिंह अस्पताल में गुरुवार अलसुबह हुआ प्रदेश का सरकारी स्तर का पहला हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ।

16/01/2020

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020