Dainik Navajyoti Logo
Monday 2nd of August 2021
 
स्वास्थ्य

भारत में पहला मामला, महिला के शरीर में दुर्लभ जटिलताएं, देखकर चिकित्सक हैरान

Tuesday, July 06, 2021 10:15 AM
सांकेतिक तस्वीर।

थांवला। कस्बे के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एक 22 वर्षीय महिला के शरीर के अन्दरूनी भागों में एक से अधिक प्राइवेट पार्ट होने के खुलासे के बाद चिकित्सक हैरान रह गए। इन शारीरिक जटिलताओं के चलते महिला के दो माह के गर्भ को गिराना पड़ा। इधर, महिला को भी इस बात का ध्यान चिकित्सकों द्वारा कराई गई सोनोग्राफी के बाद पता चला। स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रकाश चौधरी से मिली जानकारी के अनुसार कस्बे के समीप रहने वाली एक 22 वर्षीय महिला गर्भकाल के दो माह गुजरने के बाद रविवार को राजकीय अस्पताल में चैक-अप के लिए आई और चिकित्सक ने उसको सोनोग्राफी कराने की सलाह दी।

सोनोग्राफी में आई रिपोर्ट में दो प्राइवेट पार्ट, दो गर्भाशय और दो गर्भाशय ग्रीवा पाए जाने से सभी चिकित्सक चौंक गए। इसके बाद डॉक्टर प्रकाश चौधरी ने अपने सीनियर चिकित्सकों और अजमेर के गाइनेकोलॉजिस्ट से सलाह मशवरा कर मामले की जटिलताओं के बारे में उन्हें बताया। सभी ने मिलकर सोनोग्राफी दोबारा कराने की सहमति जताई। इसके बाद महिला को अजमेर भेजकर दोबारा से सोनोग्राफी कराई, जहां पर भी महिला के शरीर में प्रजनन प्रणाली की संख्या दो होना पाया गया। जानकारी के अनुसार महिला के मिसकरैज हो गया, जिसके बाद चिकित्सक प्रकाश चौधरी ने महिला का इलाज शुरू किया एवं गर्भपात कराया।

अमेरिका में सामने आया था मामला
चिकित्सकों के अनुसार भारत में ऐसा पहला मामला है जब किसी महिला के शरीर में दो प्रजनन प्रणाली पाई हो, जो कि दुर्लभ केस के तहत आता है। इससे पहले अमेरिका के पेनसिल्वेनिया में 20 वर्षीय महिला जबकि अमेरिका के ही मिशिगन शहर में 2018 में 27 वर्षीय महिला के शरीर में दो प्रजनन प्रणाली पाई गई थी, जिसने पहला गर्भ गिरने के बाद दूसरी बार में एक स्वस्थ बेटी को जन्म दिया और वो पूरी तरह से स्वस्थ थी। चौधरी ने बताया कि शरीर में इस प्रकार की शारीरिक जटिलता को यूट्रेस डिडेलफिस के नाम से जाना जाता है।
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी।

14/02/2021

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है।

22/11/2019

स्ट्रोक का सही समय पर इलाज कर 34 वर्षीय महिला मरीज की बचाई जान

जयपुर शहर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टमी तकनीक से स्ट्रोक से पीड़ित एक 34 वर्षीय महिला मरीज की जान बचाने में सफलता प्राप्त की है। दरअसल मरीज को हाल ही में जब दुर्लभजी अस्पताल की इमरजेंसी में लाया गया था तब उसे अचेतन अवस्था के साथ ही शरीर के बाएं हिस्से में लकवे की शिकायत थी।

24/01/2021

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019