Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
स्वास्थ्य

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

Friday, August 21, 2020 18:30 PM
महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में जुटे एक्सपर्ट्स।

जयपुर। प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी। डॉ. जायसवाल शुक्रवार को कोविड-19 के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी विषय पर आयोजित ऑनलाइन मीटिंग को संबोधित कर रहे थे।  उन्होंने कहा कोरोना वायरस मुक्त होने के बाद अपना प्लाज्मा डोनेट कर गंभीर स्थिति में कोरोना रोगी को जीवनदान भी दे सकता है। उन्होंने बताया वर्तमान में कोरोना से ठीक हो चुके केवल 2 फीसदी रोगी प्लाज्मा डोनेट के लिए आगे आ रहे हैं, जबकि बड़ी संख्या में कोरोना रोगियों को इसकी आवश्यकता है। कोरोना के प्रभाव से मुक्त हो चुके व्यक्ति 18 से 50 आयु वर्ग का व्यक्ति 28 दिन बाद प्लाज्मा डोनेट कर सकता है।

वेबीनार में अस्पताल के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के प्रोफेसर डॉ. रजत बोहरा ने कहा कि देश में वर्तमान में कोरोना के 29 लाख लोग संक्रमित हैं, जिनमें से 55000 की अकाल मौत हो चुकी है। राज्य में करीब 67000 कोरोना पॉजिटिव में से 50 हजार ठीक हो चुके है। लिवर, कैंसर और डायबिटीज के रोगी तथा उम्रदराज के कोरोना पॉजिटिव होने की संभावना अधिक है। इस अवसर पर मेडिसिन विभाग के वरिष्ठ विशेषज्ञ फिजिशियन डॉ. किशोर मुलरजानी ने कहा कि सांस लेने में परेशानी, बुखार, सिर दर्द, खांसी, गले में खराश और कमजोरी कोविड-19 लक्षण है। इसके लिए समय-समय पर बुखार की जांच, ऑक्सीजन लेवल की जांच की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जो रोगी अपने घर पर बैठे कोरोना का इलाज लेना चाहे तो उनके लिए महात्मा गांधी अस्पताल में सुरक्षा एट होम का पैकेज भी उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें:

ई-संजीवनी ओपीडी सेवा से मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे मिल रहा परामर्श

कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। जिससे अस्पतालों में भीड़ नियंत्रण कर संक्रमण को कम किया जा सके और आमजन को सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। इस सुविधा का आमजन लाभ भी उठा रहे हैं।

21/05/2020

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है।

16/11/2019

फिट मूवमेंट के तहत प्रदेश के युवाओं को करेंगे अवेयर

फिट इंडिया मूवमेंट की तर्ज पर एक वेलफेयर सोसायटी की ओर से फिट राजस्थान मूवमेंट का आयोजन किया जाएगा।

03/12/2019

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

बच्चों पर शोध: खांसी-जुकाम नहीं बल्कि बुखार के साथ उल्टी दस्त, पेट दर्द होने पर भी हो सकता है कोरोना

अब तक खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण होने पर ही कोरोना वायरस की पुष्टि होना माना जा रहा था। लेकिन बच्चों में बुखार के साथ उल्टी दस्त होने पर भी कोरोना वायरस होना पाया गया है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर में बच्चों पर हुए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है।

03/06/2020

गंभीर कैंसर रोगियों का दर्द कम करती है पैलिएटिव थैरेपी

कैंसर एक घातक व दिल दहला देने वाली जानलेवा बीमारी है। दुनिया भर में होने वाली छह में से एक व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है।

18/04/2019