Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 29th of September 2020
 
स्वास्थ्य

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

Friday, August 21, 2020 18:30 PM
महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में जुटे एक्सपर्ट्स।

जयपुर। प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी। डॉ. जायसवाल शुक्रवार को कोविड-19 के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी विषय पर आयोजित ऑनलाइन मीटिंग को संबोधित कर रहे थे।  उन्होंने कहा कोरोना वायरस मुक्त होने के बाद अपना प्लाज्मा डोनेट कर गंभीर स्थिति में कोरोना रोगी को जीवनदान भी दे सकता है। उन्होंने बताया वर्तमान में कोरोना से ठीक हो चुके केवल 2 फीसदी रोगी प्लाज्मा डोनेट के लिए आगे आ रहे हैं, जबकि बड़ी संख्या में कोरोना रोगियों को इसकी आवश्यकता है। कोरोना के प्रभाव से मुक्त हो चुके व्यक्ति 18 से 50 आयु वर्ग का व्यक्ति 28 दिन बाद प्लाज्मा डोनेट कर सकता है।

वेबीनार में अस्पताल के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के प्रोफेसर डॉ. रजत बोहरा ने कहा कि देश में वर्तमान में कोरोना के 29 लाख लोग संक्रमित हैं, जिनमें से 55000 की अकाल मौत हो चुकी है। राज्य में करीब 67000 कोरोना पॉजिटिव में से 50 हजार ठीक हो चुके है। लिवर, कैंसर और डायबिटीज के रोगी तथा उम्रदराज के कोरोना पॉजिटिव होने की संभावना अधिक है। इस अवसर पर मेडिसिन विभाग के वरिष्ठ विशेषज्ञ फिजिशियन डॉ. किशोर मुलरजानी ने कहा कि सांस लेने में परेशानी, बुखार, सिर दर्द, खांसी, गले में खराश और कमजोरी कोविड-19 लक्षण है। इसके लिए समय-समय पर बुखार की जांच, ऑक्सीजन लेवल की जांच की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जो रोगी अपने घर पर बैठे कोरोना का इलाज लेना चाहे तो उनके लिए महात्मा गांधी अस्पताल में सुरक्षा एट होम का पैकेज भी उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें:

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे।

14/05/2020

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

नेजोफैरेंजियल वॉश रोक सकते है कोरोना इंफेक्शन: लंग इंडिया

अंतरराष्ट्रीय जनरल लंग इंडिया ने अपने ताजा अंक में प्रकाशित रिसर्च पेपर में प्रतिपादित किया है कि अगर गुनगुने पानी के गरारे और नेजल वॉश (जल नेती) को नियमित किया जाए तो कोरोना का संक्रमण जो इंसान के मुंह और गले से होते हुए लंग्स (फेंफड़ों) तक पहुंचता है, उस पर विराम लग सकती है तथा कोरोना के इलाज में मदद मिल सकती है।

06/05/2020

लिगामेंट चोट में अब नई डबल बंडल तकनीक

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट घुटनों की चोट में सर्वाधिक चोटिल होने वाला लिगामेंट है। लिगामेंट दो हड्डियों की संरचना को जोड़ने वाली इकाई है, जो हड्डियों की चाल को आसान बनाती है।

08/05/2019

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे: कोरोना वायरस महामारी के दौरान जानलेवा हो रहा है हाइपरटेंशन

रक्तचाप से जुड़ी बीमारी हाइपरटेंशन आज दुनियाभर में अपनी जड़ें जमा चुकी है। कोरोना के बीच कई ऐसी रिसर्च भी आई हैं, जिसमें यह सामने आया है कि हाइपरटेंशन के मरीजों को कोरोना का संक्रमण होता है तो यह उनके लिए अन्य मरीजों की अपेक्षा अधिक जानलेवा है।

17/05/2020

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019