Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of October 2020
 
स्वास्थ्य

पीठ से महाधमनी में घुसकर जांघ तक पहुंचा मशीन का टुकड़ा, सर्जरी कर पैर बचाया

Friday, September 25, 2020 11:10 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। जाको राखे साइंया, मार सके न कोय कहावत कोटा के 35 वर्षीय राजेंद्र कुमार (परिवर्तित नाम) के साथ चरितार्थ हुई। मार्बल की खदान में हुए एक हादसे में बंदूक की गोली से तेज रफ्तार में मशीन का टुकड़ा पीठ से उनकी छाती में घुसकर हृदय की महाधमनी को भेदता हुआ अंदर चला गया। वहीं रक्त के बहाव के साथ जांघ तक जा पहुंचा और जांघ की नस को बाधित कर दिया, जिसके कारण मरीज का पैर पैरालाईज (लकवा) जैसा हो गया। इस हादसे के कारण मरीज की छाती में खून भी भर गया था। ऐसे मामलों में महाधमनी छिलने से आंतरिक रक्तस्त्राव के कारण रोगी के बचने की संभावना न्यूनतम रहती है, लेकिन एक तरह से ईश्वरीय चमत्कार एवं शहर के नारायणा हॉस्पिटल की रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस व कार्डियक सर्जरी टीम के संयुक्त प्रयासों से मरीज की जान बच गई। आश्चर्य वाली बात यह रही है कि जिस जगह महाधमनी छीली थी, वहां का जख्म थ्रोमबोसिस (ब्लड क्लॉटिंग) के कारण अपने आप ही भर गया, जो अपने आप में एक रेयर मामला है।

महाधमनी व दूसरे हिस्सों को पहुंचा नुकसान
हादसे में मशीन की ब्लेड का एक टुकड़ा टूटकर गोली से भी तेज रफ्तार से मरीज की पीठ में घुसा और हृदय की महाधमनी (एओर्टा) को भेदता हुआ रक्त के बहाव के साथ जांघ की बड़ी नस में चला गया और फंस गया। हादसे की वजह से मरीज खदान में ही अचेत सा हो गया था, उसे तुरंत पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां प्रारंभिक उपचार किया गया। मरीज के पैर में फिर भी दर्द, सूजन एवं लकवे जैसी स्थिति थी, इसलिए उसके परिजन उसे तुरंत जयपुर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल ले आए, जहां सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने उनका केस डायग्नोस किया और जटिल सर्जरी कर उनकी जान बचाई।

सर्जरी कर जांघ से निकाला 2 इंच का बड़ा टुकड़ा
नारायणा हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियो-थोरेसिक व वैस्कुलर सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने बताया कि ऐसे मामलों में रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस एवं टीम वर्क का बहुत महत्व है। अगर समय पर मरीज के जांघ की सर्जरी नहीं की जाती तो पैर में गैंगरीन हो जाता और पैर काटना पड़ता। करीब 3 घंटे चली सर्जरी में 2 इंच से बड़े टुकड़े को पैर से बहुत सावधानी से, नस को नुकसान पहुंचाए बिना निकाला गया और फिर वहां पैच लगाया गया। छाती एवं महाधमनी में हुई क्षति को कंजर्वेटिवली (दवाईयों द्वारा) मैनेज किया गया। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और उसे अस्पताल से डिसचार्ज कर दिया गया है।
 

यह भी पढ़ें:

सात वचन निभाये, बाईपास सर्जरी भी कराई एक साथ

जीवन के सभी सुख-दुख साथ बांटने का वादा लिये एक जोड़े ने हार्ट की बायपास सर्जरी जैसा उपचार भी एक ही दिन, एक ही अस्पताल में और एक ही सर्जन से कराया।

05/11/2019

Video: डॉक्टर्स ने पेट से निकाला बालों का बड़ा गुच्छा

सर्जन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल त्रिपाठी ने बताया कि मरीज के पेट में दर्द, भूख ना लगना, उल्टी होना, वजन कम होना इत्यादि लक्षणों की शिकायत कुछ महीनों से थी।

23/12/2019

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है।

22/11/2019

105 साल की महिला ने जीती कोविड-19 से जंग, डॉक्टर्स और मरीज के जज्बे ने मिलकर कोरोना को हराया

राजधानी जयपुर में 105 वर्ष की सूरज देवी चौधरी ने इस उम्र में भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को अपने जज्बे से मात दे दी। नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की अनुभवी कोविड टीम ने सूरज देवी की उम्र को उनके इलाज के बीच नहीं आने दिया बल्कि उनका सफल उपचार कर एक तरह से नया जीवनदान दिया।

20/10/2020

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस बीच जिनेवा में कोरोना पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसेस ने कोरोना को COVID-19 का नाम दिया।

12/02/2020

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।

30/11/2019