Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
स्वास्थ्य

पीठ से महाधमनी में घुसकर जांघ तक पहुंचा मशीन का टुकड़ा, सर्जरी कर पैर बचाया

Friday, September 25, 2020 11:10 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। जाको राखे साइंया, मार सके न कोय कहावत कोटा के 35 वर्षीय राजेंद्र कुमार (परिवर्तित नाम) के साथ चरितार्थ हुई। मार्बल की खदान में हुए एक हादसे में बंदूक की गोली से तेज रफ्तार में मशीन का टुकड़ा पीठ से उनकी छाती में घुसकर हृदय की महाधमनी को भेदता हुआ अंदर चला गया। वहीं रक्त के बहाव के साथ जांघ तक जा पहुंचा और जांघ की नस को बाधित कर दिया, जिसके कारण मरीज का पैर पैरालाईज (लकवा) जैसा हो गया। इस हादसे के कारण मरीज की छाती में खून भी भर गया था। ऐसे मामलों में महाधमनी छिलने से आंतरिक रक्तस्त्राव के कारण रोगी के बचने की संभावना न्यूनतम रहती है, लेकिन एक तरह से ईश्वरीय चमत्कार एवं शहर के नारायणा हॉस्पिटल की रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस व कार्डियक सर्जरी टीम के संयुक्त प्रयासों से मरीज की जान बच गई। आश्चर्य वाली बात यह रही है कि जिस जगह महाधमनी छीली थी, वहां का जख्म थ्रोमबोसिस (ब्लड क्लॉटिंग) के कारण अपने आप ही भर गया, जो अपने आप में एक रेयर मामला है।

महाधमनी व दूसरे हिस्सों को पहुंचा नुकसान
हादसे में मशीन की ब्लेड का एक टुकड़ा टूटकर गोली से भी तेज रफ्तार से मरीज की पीठ में घुसा और हृदय की महाधमनी (एओर्टा) को भेदता हुआ रक्त के बहाव के साथ जांघ की बड़ी नस में चला गया और फंस गया। हादसे की वजह से मरीज खदान में ही अचेत सा हो गया था, उसे तुरंत पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां प्रारंभिक उपचार किया गया। मरीज के पैर में फिर भी दर्द, सूजन एवं लकवे जैसी स्थिति थी, इसलिए उसके परिजन उसे तुरंत जयपुर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल ले आए, जहां सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने उनका केस डायग्नोस किया और जटिल सर्जरी कर उनकी जान बचाई।

सर्जरी कर जांघ से निकाला 2 इंच का बड़ा टुकड़ा
नारायणा हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियो-थोरेसिक व वैस्कुलर सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने बताया कि ऐसे मामलों में रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस एवं टीम वर्क का बहुत महत्व है। अगर समय पर मरीज के जांघ की सर्जरी नहीं की जाती तो पैर में गैंगरीन हो जाता और पैर काटना पड़ता। करीब 3 घंटे चली सर्जरी में 2 इंच से बड़े टुकड़े को पैर से बहुत सावधानी से, नस को नुकसान पहुंचाए बिना निकाला गया और फिर वहां पैच लगाया गया। छाती एवं महाधमनी में हुई क्षति को कंजर्वेटिवली (दवाईयों द्वारा) मैनेज किया गया। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और उसे अस्पताल से डिसचार्ज कर दिया गया है।
 

यह भी पढ़ें:

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

कट्टरपंथी इस्लाम के प्रसार को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय बैठक बुलाउंगा : ट्रम्प

इस्लामिक स्टेट आतंकवादी समूह और इस्लामिक कट्टरपंथियों से निपटने के लिए विदेश नीति के दृष्टिकोण को पेश करते हुए रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि राष्ट्र निर्माण का युग खत्म होना चाहिए.

16/08/2016

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020