Dainik Navajyoti Logo
Friday 28th of January 2022
 
स्वास्थ्य

वैक्सीन की पहली डोज लगा चुके लोग दूसरी डोज लगवाने में लापरवाही ना बरतें

Tuesday, November 30, 2021 16:25 PM
फाइल फोटो

जयपुर। चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीना ने कहा कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवा चुके लोग दूसरी डोज लगवाने में लापरवाही ना बरतें। उनकी लापरवाही परिवार, समाज, राज्य और देश पर भी भारी पड़ सकती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी जिला कलक्टर्स को दूसरी डोज से वंचित लोगों के लिए अभियान चलाकर टीकाकरण के निर्देश दिए जा चुके हैं।  

 मीणा ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की खासी कमी देखने में आई। मेडिकल ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए प्रदेश में 475 से ज्यादा ऑक्सीजन प्लांट लग चुके है, जिनसे इस महीने के अंत तक ऑक्सीजन उत्पादन प्रारंभ किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का लक्ष्य 1 हजार मेट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन उत्पादन करने का है। साथ ही राज्य सरकार द्वारा 40 हजार से ज्यादा ऑक्सीजन कंसट्रेटर्स की व्यवस्था की जा चुकी है। राज्य सरकार किसी भी स्थिति का सामना करने में समक्ष और सजग है।

शिशु चिकित्सा संस्थानों को किया जा रहा मजबूत

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना की संभावित तीसरी लहर का असर बच्चों पर हो सकता है। ऐसे में बच्चों के बेहतर उपचार के लिए प्रदेश के सभी शिशु चिकित्सालयों के आधारभूत ढांचे को मजबूत किया जा रहा है। वहां के आईसीयू, नीकू, पीकू और एसएनसीयू में ऑक्सीजन युक्त बैड्स की व्यवस्थाएं की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए टीका उपलब्ध कराने के लिए भारत सरकार को लिखा जा रहा है।

6 करोड़ 80 लाख लोगों का हुआ वैक्सीनेशन
 मीणा ने कहा कि आमजन को वैक्सीन का पहला और दूसरा डोज लगने के बाद ही बूस्टर डोज लग सकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अब तक 6 करोड़, 80 लाख, 21 हजार 768 लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाई जा चुकी है। इनमें से 4 करोड़, 34 लाख, 48 हजार, 884 को पहला और 2 करोड़ 45 लाख, 72 हजार, 884 लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। उन्होंने पहला डोज लगवा चुके लोगों से दूसरा डोज लगवाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन की दोनों डोज से ही कोरोना से बचाव संभव है।

सतर्कता से ही बचाव है संभव

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना प्रबंधन से लेकर वैक्सीनेशन में राजस्थान देश भर में अग्रणी रहा है। कोरोना के प्रबंधन की सराहना देश के प्रधानमंत्री भी चुके हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है। नए-नए वैरिएंट से साथ वापस आ रहा है। आमजन से अपील करते हुए कहा कि घर से बाहर निकलते समय मास्क लगाना ना भूलें, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करें और बार-बार साबुन से हाथ धोने को अपने व्यवहार में शामिल कर लें। उन्होंने कहा कि आमजन की सर्तकता से ही कोरोना से बचा जा सकता है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

चीन से भारतीयों को निकालने के लिए रवाना हुआ एयर इंडिया का विमान

एयर इंडिया की विशेष उड़ान शुक्रवार सुबह मुंबई से रवाना हुई। बोइंग 747 विमान रास्ते में दिल्ली से मेडिकल किट लेकर चीन जाएगा।

31/01/2020

17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट अस्पताल से डिस्चार्ज, कुछ दिनों तक रहेगा चिकित्सकों की निगरानी में

प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल से 17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट को डिस्चार्ज कर दिया गया। वह अब पूरी तरह से स्वस्थ्य है और अपने रोजमर्रा के जरूरी काम करने में सक्षम है। लेकिन उअस्पताल प्रशासन की ओर से उसे एतिहात के लिए बनीपार्क जयसिंह हाइवे स्थित माधव आश्रम में रखा गया।

07/02/2020

SMS अस्पताल में पहली बार मेटल की नली से निकाला एक लीटर से ज्यादा मवाद और अपशिष्ट

पेनक्रियाज की बीमारी से पेट में बनी थी बड़ी गांठ

28/08/2021

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020

ब्रेन ट्यूमर से थम नहीं जाती जिंदगी, जल्दी जांच और नई तकनीकों से इलाज संभव

ब्रेन ट्यूमर की पहचान होने पर अकसर मरीज अपने जीवन की आशा छोड़ देते थे जबकि ब्रेन ट्यूमर से जिंदगी थम नहीं जाती है। चिकित्सा विज्ञान में आई नई तकनीकें ब्रेन ट्यूमर के मरीजों के लिए वरदान साबित हुई हैं। जल्दी जांच करवाकर नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का इलाज अब आसानी से संभव है।

09/06/2020