Dainik Navajyoti Logo
Monday 21st of September 2020
 
स्वास्थ्य

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

Tuesday, May 14, 2019 12:05 PM

जयपुर। ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी। सर्जरी के पहले के लक्षण काफी दर्दनाक होते हैं। मरीज को चलने में काफी दिक्कत आती है। इसलिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना जरूरी है जिससे ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद परेशानी ना हो। यदि इन बातो का ध्यान ना रखा जाए तो सर्जरी के बाद भी बेहतर परिणाम प्राप्त होना मुश्किल हैं।

ओवरवेट तो वजन कम करें
सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन डॉ. एस.एस. सोनी ने बताया कि, अगर आपका वजन आपकी हाइट के मुताबिक ज्यादा है और आप ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बारे में सोच रहे हैं, तो पहले वजन कम करना पड़ेगा। इसका फायदा यह होता है कि इससे सर्जरी के बाद कॉम्पलिकेशंस कम हो जाती हैं साथ ही सर्जरी की सफलता की संभावना भी कई गुणा अधिक हो जाती है।
अन्य बीमारियों पर हो कंट्रोल

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी से पहले जरूरी है कि अगर आपको कोई ओर दिक्कत है, तो उसे कंट्रोल में करें, जैसे- हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल या डायबिटीज। अगर आप स्मोक करते हैं, तो इसका दुष्प्रभाव भी सर्जरी पर पड़ सकता है। अगर आपको कोई स्किन प्रॉब्लम है या डेंटल डिजीज है, तो भी डॉक्टर को बताएं, क्योंकि दांतों की दिक्कत से सर्जरी के दौरान हिप या नी में इंफेक्शन फैलने का डर होता है। अगर आपको रुमेटॉयड आर्थराइटिस है, तो सर्जरी से एक महीना पहले इसकी दवाईयां रोकनी पड़ सकती हैं, ताकि ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ठीक से हो जाए।

हिप और नी रिप्लेसमेंट सर्जरी डेढ़ से तीन घंटे की होती है। आजकल अत्याधुनिक तकनीक से सर्जरी के बाद आप मूवमेंट कर सकते हैं और 48 घंटों के बाद घर भी जा सकते हैं। ऐसा उनमें होता है, जिनमें कॉम्पलिकेशंस ना हों। यदि कॉम्पलिकेशन्स हो तो डॉक्टर्स कुछ समय का प्रीकॉशन्स लेकर सर्जरी के बाद अधिक समय का विश्राम कह सकते हैं।
-डॉ. एस.एस. सोनी, सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन।

यह भी पढ़ें:

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे एक कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा।

04/10/2019

जिम में ट्रेनर की न करें अनदेखी

हर व्यक्ति,खासकर युवा पीढ़ी जिम में जाकर एक्सरसाइज के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहता है।

26/02/2020

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है।

16/11/2019

कैंसर उपचार में मददगार है साइको थैरेपी, बढ़ाती है रोगियों का इम्यून सिस्टम

सीबीटी, सीडीटी और एसडी थैरेपी का उपयोग कैंसर इलाज में एक वरदान के रूप में सामने आ रहा है। एडवांस स्टेज के कैंसर रोगियों के इलाज के लिए भी यह थैरेपी मददगार साबित हो रही है। इस थैरेपी के जरिए रोगियों के इम्यून सिस्टम की क्षमता को बढ़ाया जाता है, जिससे रोगी में कैंसर से लड़ने की क्षमता बढ़ रही है।

04/02/2020

दृढ़ इच्छा शक्ति और उचित इलाज से कैंसर को हराना होना चाहिए हमारा लक्ष्य: गहलोत

विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हमारा लक्ष्य उचित उपचार एवं इच्छा शक्ति के माध्यम से कैंसर को हराने का होना चाहिए। सकारात्मक सोच, प्रतिरोध क्षमता और काबू पाने का दृढ़ संकल्प कैंसर के खिलाफ लड़ाई लड़ने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

04/02/2020

ब्रेन ट्यूमर से थम नहीं जाती जिंदगी, जल्दी जांच और नई तकनीकों से इलाज संभव

ब्रेन ट्यूमर की पहचान होने पर अकसर मरीज अपने जीवन की आशा छोड़ देते थे जबकि ब्रेन ट्यूमर से जिंदगी थम नहीं जाती है। चिकित्सा विज्ञान में आई नई तकनीकें ब्रेन ट्यूमर के मरीजों के लिए वरदान साबित हुई हैं। जल्दी जांच करवाकर नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का इलाज अब आसानी से संभव है।

09/06/2020