Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of August 2020
 
स्वास्थ्य

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

Thursday, December 05, 2019 10:45 AM
होम्योपैथी के सार्वजनिकीकरण कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा।

जयपुर। राज्य सरकार प्रदेश में पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज खोलेगी। इसको लेकर चिकित्सा विभाग अभी से कवायद करने वाला है। बुधवार को सुबोध कॉलेज में ‘होम्योपैथी के सार्वजनिकरण’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने सरकारी होम्योपैथी कॉलेज खोलने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि अगले बजट में राज्य में इसकी प्रक्रिया पूरी की जाएगी। डॉ. शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री का सपना ‘निरोगी राजस्थान’ बनाने का है। विभाग इसमें कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगा। उन्होंने कहा कि विभाग होम्योपैथी सहित सभी पैथियों में नवाचार कर रहा है। अभी जयपुर के सांगानेर में अभी निजी स्तर पर होम्योपैथी यूनिवर्सिटी चल रही है।

रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है। इसके लिए सभी कार्यकताओं को पहले प्रशिक्षण देकर तैयार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2011 में प्रदेश में ‘नि:शुल्क दवा योजना’ की शुरुआत की थी। आज देश के 16 राज्यों में प्रदेश सर्वोच्च पायदान पर काबिज है।

फ्री जांच योजना को मजबूत करने का प्रयास
रघु शर्मा ने कहा कि सरकार नि:शुल्क जांच योजना को भी और मजबूत बनाने के प्रयास कर रही है। सरकार आमजन को स्वस्थ रखने के हरसंभव प्रयास कर रही है। सरकार आमजन को चिकित्सा अधिकार दिलाने के लिए भी प्रतिबद्घ है और अगले बजट में ‘राइट टू हैल्थ’ बिल भी विधानसभा में लाएगी।

1.14 करोड़ युवाओं ने नशा नहीं करने की ली शपथ
उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेश में हुक्का बार, ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाकर युवाओं को लती होने से बचाने का काम किया है। प्रदेश के 1 करोड़ 14 लाख युवा नशा नहीं करने की शपथ भी ले चुके हैं। उन्होंने कहा गत 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी जयंती पर प्रदेशवासियों ने करीब 18 हजार यूनिट रक्तदान किया। इस अवसर पर 1 लाख 75 हजार युवाओं ने रक्तदान का संकल्प भी लिया। इससे पहले शासन सचिव आयुष विभाग गायत्री राठौड़ और कॉलेज व स्कूली शिक्षा आयुक्त प्रदीप बोरड़ ने भी संबोधित किया। यह कार्यक्रम निदेशालय होम्योपैथी और ऊषा (अपलिफ्टमेंट ऑफ सोसायटी विद होलिस्टिक एंड होम्योपैथिक एप्रोच) संगठन के सहयोग से आयोजित हुआ।

यह भी पढ़ें:

गर्दन में डैंस की हड्डी का डॉक्टरों ने किया सफल ऑपरेशन

रामअवतार यादव उंचाई से गिर गया था, जिसके कारण उसकी गर्दन में गहरी चोट लग गई थी। एक्स-रे में सामने आया कि मरीज की गर्दन में डैंस की हड्डी का फैक्चर है।

19/10/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020

जिम में ट्रेनर की न करें अनदेखी

हर व्यक्ति,खासकर युवा पीढ़ी जिम में जाकर एक्सरसाइज के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहता है।

26/02/2020

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

युवाओं में भी तेजी से बढ़ी रही हार्ट अटैक संबंधी बीमारियां, जानिए बचाव

विश्व में करीब 1.7 करोड़ लोगों की मृत्यु हृदय संबंधी रोगों के कारण हो जाती है। 2016 में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 5.4 करोड़ लोग हार्ट संबंधी रोगों के शिकार हैं और हर 33 सैकंड में एक व्यक्ति की मौत हार्ट अटैक से हो जाती है।

29/09/2019

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019