Dainik Navajyoti Logo
Monday 10th of August 2020
 
स्वास्थ्य

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

Saturday, October 12, 2019 11:35 AM
कॉन्सेप्ट फोटो

जयपुर। आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है। विशेषज्ञों के अनुसार अगर रह-रह कर हाथ-पैर की अंगुलियों, घुटनों और एड़ियों में दर्द होता है तो समझ जाइए कि आपके खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ गई है। यह हाथ-पैरों के जोड़ों में क्रिस्टल के रूप में जम जाता है और आर्थराइटिस का रूप ले लेता है। आर्थराइटिस की बड़ी वजह बिगड़ी लाइफ स्टाइल तो है ही, मोटापा भी बड़ा कारण है।

नियमित व्यायाम से रखें जोड़ मजबूत
नारायणा हॉस्पिटल के ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. विजय शर्मा ने बताया कि, नियमित रूप से व्यायाम, बैलेंस डाइट, वजन नियंत्रित एवं चोटों से बचाव बहुत जरूरी है। हफ्ते में कम से कम 5 दिन 45 मिनट व्यायाम जरूर करें। जॉगिंग, ब्रिस्क वॉक, साइकिलिंग भी करें। आर्थराइटिस एक उम्र तक स्त्री व पुरुष में बराबर पाया जाता है, लेकिन 50 की उम्र के करीब स्त्रियों में ज्यादा हो जाता है, क्योंकि मीनोपोज के बाद हार्मोन्स की रक्षात्मक क्षमता खत्म हो जाती है। जोड़ों के दर्द के लिए सही समय पर डॉक्टरी सलाह लेने से आरामदेह जिंदगी जीने में मदद मिल सकती है।

आर्थोपेडिक्स में आधुनिक इलाज ने गठिया रोग को मैनेज करने में क्रांतिकारी बदलाव किया है। रोग के इलाज के पारंपरिक विकल्पों से लेकर सर्जिकल तरीकों जैसे मामूली सर्जरी और जॉइंट रिप्लेसमेंट थेरेपी से गठिया का आसानी से इलाज कराकर उसे मैनेज किया जा सकता है।

सुबह देर तक जोड़ों में जकड़न तो गठिया
गठिया रोग विशेषज्ञ डॉ. राहुल जैन ने बताया कि, आर्थराइटिस में सबसे आम आॅस्टियो आर्थराइटिस व रूमेटायड आर्थराइटिस है। सुबह उठने पर जोड़ों में जकड़न सी महसूस होती है और दर्द व सूजन दिखती है और यह स्थिति आधे घंटे तक रहती है, तो यह गठिया हो सकता है।

युवाओं में स्पोर्ट्स इंजरी प्रमुख कारण
नारायणा के ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन व आॅर्थोस्कॉपी स्पेशलिस्ट डॉ. हेमेन्द्र अग्रवाल ने बताया कि खेल के दौरान सावधानी नहीं रखने से अक्सर खिलाड़ियों में गंभीर चोटें लग जाती हैं, जो आगे जाकर आर्थराइटिस का कारण बन जाती हैं। वहीं स्टेरोइड का सेवन, एवीएन, हड्डियों की टीबी भी युवाओं में इस रोग का कारण हैं।

वजन काबू में रखें, स्मोकिंग से बचें
हैंड एंड माइक्रोवेस्कुलर सर्जन डॉ. गिरीश गुप्ता बताते हैं कि वजन काबू में रखने से इस रोग से बचाव हो सकता है, क्योंकि ज्यादा वजन जोड़ों पर ज्यादा असर डालता है। धूम्रपान करना दिल, फेफड़ों के साथ हड्डियों के लिए भी नुकसानदेह है।

 

यह भी पढ़ें:

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस बीच जिनेवा में कोरोना पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसेस ने कोरोना को COVID-19 का नाम दिया।

12/02/2020

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, खोजा ऐसा वायरस जो हर तरह के कैंसर का करेगा खात्मा

दुनियाभर के साथ ही भारत में भी कैंसर की बीमारी तेजी से फैल रही है। इस खतरनाक बीमारी की वजह से हर साल करीब 8 लाख लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा वायरस खोजा है जो हर तरह के कैंसर को खत्म कर सकता है।

11/11/2019

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे: कोरोना वायरस महामारी के दौरान जानलेवा हो रहा है हाइपरटेंशन

रक्तचाप से जुड़ी बीमारी हाइपरटेंशन आज दुनियाभर में अपनी जड़ें जमा चुकी है। कोरोना के बीच कई ऐसी रिसर्च भी आई हैं, जिसमें यह सामने आया है कि हाइपरटेंशन के मरीजों को कोरोना का संक्रमण होता है तो यह उनके लिए अन्य मरीजों की अपेक्षा अधिक जानलेवा है।

17/05/2020