Dainik Navajyoti Logo
Thursday 6th of May 2021
 
स्वास्थ्य

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

Friday, November 22, 2019 12:10 PM
प्रतिकात्मक तस्वीर।

नई दिल्ली। देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है। देश में स्तन कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने अपनी रिपोर्ट में अगले साल तक इस कैंसर के 17.3 लाख नए मामले सामने आने की आशंका जताई है जिनमें 50 प्रतिशत से अधिक महिलाओं की जान को जोखिम है। रोगी की जान बचाने के लिए स्तन हटाकर अलग कर दिया जाता है और मुख की सर्जरी में रोगी का चेहरा वीभत्स हो जाता है। ऐसे लेजर तकनीक बड़ी आशा के किरण के रुप में सामने आई है। इन मामलों में परेशानियों से काफी निजात मिली है और सफलता का ग्राफ भी काफी अच्छा है।

मुख और स्तन सर्जरी की जटिल प्रक्रिया से निजात 
उन्होंने कहा कि लेजर तकनीक से वर्तमान में होने वाली मुख और स्तन सर्जरी  की जटिल प्रक्रिया से बचा जा सकता है। मुख कैंसर के रोगियों को लेजर तकनीकी से इलाज के दौरान मुंह के निचले अथवा किसी हिस्से को काटने की जरुरत नहीं पड़ती और ना ही बाद में उन्हें पाइप के सहारे पेय पदार्थ देना पड़ता है। ऐसा भी नहीं होता कि वे अपनी आवाज खो बैठते हैं।

आठ साल पहले शुरू हुआ था लेजर से इलाज
मुंबई के ऑर्चिड कैंसर ट्रस्ट के संस्थापक डॉ. रूसी भल्ला ने आठ साल पहले लेजर से मुख के कैंसर का इलाज शुरु किया। इस तरह के कैंसर के इलाज के लिए यह अंतरराष्ट्रीय तकनीक है जिसकी डॉ. भल्ला ने देश में शुरुआत की। इसकी सफलता से उत्साहित डॉ. भल्ला ने स्तन कैंसर से भी जंग के लिए इस तकनीक को हथियार बनाया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि हमने मुख और स्तन के कई रोगियों का लेजर तकनीक से इलाज किया है और पारम्परिक सर्जरी की तुलना में सस्ती इस सर्जरी का नतीजा आर्श्चयजनक रहा है। डॉ. भल्ला ने कहा, इस तकनीक से मुख के कैंसर के रोगियों को जीवन की गुणवत्ता के साथ अच्छी उम्र भी मिली है।

स्तन कैंसर में जहां महिलाओं को स्तन हटाने की पीड़ा और हीन भावना से गुजराना पड़ता है,ऐसे कैंसर के तीसरे चरण में भी लेजर सर्जरी से बिना किसी चीर-फाड़ और बाहरी दाग-धब्बे का इलाज संभव हुआ है। इलाज के 6-7 साल के बाद एमआरआई रिपोर्ट में कैंसर का नामोनिशां नहीं पाया गया है। लेजर तकनीक से इस तरह के कैंसर के इलाज में रोगियों को किस तरह की राहत मिली है। इसके प्रमाण के लिए हमारे पास ऐसे कई रोगियों की मेडिकल रिपोर्ट हैं। कैंसर पर फतह करने वाले लोगों ने अपनी त्रासदी और उससे राहत के अपने सफर की दास्तां को प्रमाण के रुप में वीडियो रिकॉर्डिंग भी की है।

यह भी पढ़ें:

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

सवाई मानसिंह अस्पताल में हुआ हार्ट ट्रांसप्लांट, मुख्यमंत्री गहलोत ने जताई खुशी

सवाई मानसिंह अस्पताल में गुरुवार अलसुबह हुआ प्रदेश का सरकारी स्तर का पहला हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ।

16/01/2020

मांझे ने गहराई तक काटा टखना, डॉक्टरों ने सर्जरी कर बचाया

पतंगबाजी के जुनून में मांझा हर किसी के लिए आफत बना हुआ है। ऐसे ही आशिदा के पैर में मांझा फंसने से उनका टखना बुरी तरह से कट गया, खून इतना बह गया कि बीपी तक रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था।

17/01/2020

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020