Dainik Navajyoti Logo
Sunday 15th of December 2019
 
स्वास्थ्य

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

Friday, November 22, 2019 12:10 PM
प्रतिकात्मक तस्वीर।

नई दिल्ली। देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है। देश में स्तन कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने अपनी रिपोर्ट में अगले साल तक इस कैंसर के 17.3 लाख नए मामले सामने आने की आशंका जताई है जिनमें 50 प्रतिशत से अधिक महिलाओं की जान को जोखिम है। रोगी की जान बचाने के लिए स्तन हटाकर अलग कर दिया जाता है और मुख की सर्जरी में रोगी का चेहरा वीभत्स हो जाता है। ऐसे लेजर तकनीक बड़ी आशा के किरण के रुप में सामने आई है। इन मामलों में परेशानियों से काफी निजात मिली है और सफलता का ग्राफ भी काफी अच्छा है।

मुख और स्तन सर्जरी की जटिल प्रक्रिया से निजात 
उन्होंने कहा कि लेजर तकनीक से वर्तमान में होने वाली मुख और स्तन सर्जरी  की जटिल प्रक्रिया से बचा जा सकता है। मुख कैंसर के रोगियों को लेजर तकनीकी से इलाज के दौरान मुंह के निचले अथवा किसी हिस्से को काटने की जरुरत नहीं पड़ती और ना ही बाद में उन्हें पाइप के सहारे पेय पदार्थ देना पड़ता है। ऐसा भी नहीं होता कि वे अपनी आवाज खो बैठते हैं।

आठ साल पहले शुरू हुआ था लेजर से इलाज
मुंबई के ऑर्चिड कैंसर ट्रस्ट के संस्थापक डॉ. रूसी भल्ला ने आठ साल पहले लेजर से मुख के कैंसर का इलाज शुरु किया। इस तरह के कैंसर के इलाज के लिए यह अंतरराष्ट्रीय तकनीक है जिसकी डॉ. भल्ला ने देश में शुरुआत की। इसकी सफलता से उत्साहित डॉ. भल्ला ने स्तन कैंसर से भी जंग के लिए इस तकनीक को हथियार बनाया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि हमने मुख और स्तन के कई रोगियों का लेजर तकनीक से इलाज किया है और पारम्परिक सर्जरी की तुलना में सस्ती इस सर्जरी का नतीजा आर्श्चयजनक रहा है। डॉ. भल्ला ने कहा, इस तकनीक से मुख के कैंसर के रोगियों को जीवन की गुणवत्ता के साथ अच्छी उम्र भी मिली है।

स्तन कैंसर में जहां महिलाओं को स्तन हटाने की पीड़ा और हीन भावना से गुजराना पड़ता है,ऐसे कैंसर के तीसरे चरण में भी लेजर सर्जरी से बिना किसी चीर-फाड़ और बाहरी दाग-धब्बे का इलाज संभव हुआ है। इलाज के 6-7 साल के बाद एमआरआई रिपोर्ट में कैंसर का नामोनिशां नहीं पाया गया है। लेजर तकनीक से इस तरह के कैंसर के इलाज में रोगियों को किस तरह की राहत मिली है। इसके प्रमाण के लिए हमारे पास ऐसे कई रोगियों की मेडिकल रिपोर्ट हैं। कैंसर पर फतह करने वाले लोगों ने अपनी त्रासदी और उससे राहत के अपने सफर की दास्तां को प्रमाण के रुप में वीडियो रिकॉर्डिंग भी की है।

यह भी पढ़ें:

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019

कट्टरपंथी इस्लाम के प्रसार को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय बैठक बुलाउंगा : ट्रम्प

इस्लामिक स्टेट आतंकवादी समूह और इस्लामिक कट्टरपंथियों से निपटने के लिए विदेश नीति के दृष्टिकोण को पेश करते हुए रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि राष्ट्र निर्माण का युग खत्म होना चाहिए.

16/08/2016

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019

युवाओं में भी तेजी से बढ़ी रही हार्ट अटैक संबंधी बीमारियां, जानिए बचाव

विश्व में करीब 1.7 करोड़ लोगों की मृत्यु हृदय संबंधी रोगों के कारण हो जाती है। 2016 में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 5.4 करोड़ लोग हार्ट संबंधी रोगों के शिकार हैं और हर 33 सैकंड में एक व्यक्ति की मौत हार्ट अटैक से हो जाती है।

29/09/2019

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016