Dainik Navajyoti Logo
Sunday 1st of August 2021
 
स्वास्थ्य

पत्नी ने किडनी डोनेट कर बचाया सुहाग, डॉक्टर्स डे पर किडनी रोगी को मिला जीवनदान

Wednesday, July 01, 2020 19:20 PM
डॉक्टर्स डे पर मिला किडनी रोगी को जीवनदान।

जयपुर। महात्मा गांधी अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने 18 साल से किडनी रोग से पीड़ित युवक की किडनी प्रत्यारोपण कर जान बचाने में सफलता अर्जित की है। हुआ यूं कि एडवोकेट राजेश सिहाग पिछले 18 सालों से किडनी की बीमारी से पीड़ित था। यूरिन में प्रोटीन की बहुत अधिक मात्रा आने तथा क्रिएटिनिन के अधिक बढ़ने के कारण किडनी में इंफेक्शन से परेशान था। राजेश के जीवन जीने का आधार मात्र डायलिसिस और दवा ही रह गया था फिर भी क्रिएटिनिन कम नहीं हो रहा था। उसकी यह दशा देखकर परिवारजन उसे महात्मा गांधी अस्पताल लेकर आए जहां उसने नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. सूरज गोदारा को दिखाया। तो उन्होंने रोग की गंभीरता को देखते हुए भर्ती कर किडनी ट्रांसप्लांट का प्लान किया।

डॉ. गोदारा ने बताया कि महात्मा गांधी अस्पताल में 350 से अधिक किडनी ट्रांसप्लांट हो चुके हैं। यहां की सफलता दर विश्वस्तरीय है। कोरोना काल में किसी रोगी का किडनी ट्रांसप्लांट बहुत अधिक चुनौती भरा होता है। चिकित्सकों ने यह चुनौती स्वीकार कर आखिरकार राजेश को किडनी ट्रांसप्लांट किया। राजेश को किडनी उसकी धर्मपत्नी वर्षा ने दी। राजेश की पत्नी वर्षा सिहाग का कहना है अपने सुहाग की रक्षा के लिए जब किडनी डोनेट करने की जरूरत हुई तो मैंने सबसे किडनी डोनेट की। वहीं राजेश ने कहा कि महात्मा गांधी अस्पताल के चिकित्सकों ने मुझे नया जीवन दिया है। मुख्य किडनी प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. टीसी सदासुखी ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के तौर पर पहले रोगी तथा डोनर की कोरोना वायरस जांच करवाई गई। ट्रांसप्लांट में विशेष सावधानी बरती गई। इसके बाद गहन चिकित्सा ने भी विशेष एहतियात रखा जा रहा है। डोनर की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है, अब रेसिपीएंड की घर वापसी होगी। ऑपरेशन टीम में डॉक्टर टीसी सदासुखी के अलावा सूरज गोदारा, एचएल गुप्ता, मनीष गुप्ता, डॉ. विपिन गोयल शामिल थे।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

SMS अस्पताल के चिकित्सकों ने किया कमाल, हार्ट का ऑपरेशन कर जन्मजात विकृति की दूर

प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल के कार्डियो थोरेसिक विभाग ने एक जटिल ऑपरेशन कर 19 वर्षीय किशोरी के हृदय की जन्मजात विकृति को दूर करने में सफलता हासिल की है। इसमें चिकित्सकों ने यह ऑपरेशन बिना छाती की हड्डी कांटे एक छोटा सा चीरा लगाकर अंजाम दिया है।

17/11/2020

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

घुटने के टिश्यू निकालकर की कंधे की दुर्लभ सर्जरी

शहर के मानसरोवर स्थित इंडस हॉस्पिटल में झुंझुनूं निवासी 45 वर्षीय अमरचंद के घुटने के टिश्यू निकालकर कंधे की सफल सर्जरी की गई।

20/04/2019

गर्दन में डैंस की हड्डी का डॉक्टरों ने किया सफल ऑपरेशन

रामअवतार यादव उंचाई से गिर गया था, जिसके कारण उसकी गर्दन में गहरी चोट लग गई थी। एक्स-रे में सामने आया कि मरीज की गर्दन में डैंस की हड्डी का फैक्चर है।

19/10/2019

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।

08/01/2020

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

05/12/2019

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019