Dainik Navajyoti Logo
Friday 14th of August 2020
 
स्वास्थ्य

पत्नी ने किडनी डोनेट कर बचाया सुहाग, डॉक्टर्स डे पर किडनी रोगी को मिला जीवनदान

Wednesday, July 01, 2020 19:20 PM
डॉक्टर्स डे पर मिला किडनी रोगी को जीवनदान।

जयपुर। महात्मा गांधी अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने 18 साल से किडनी रोग से पीड़ित युवक की किडनी प्रत्यारोपण कर जान बचाने में सफलता अर्जित की है। हुआ यूं कि एडवोकेट राजेश सिहाग पिछले 18 सालों से किडनी की बीमारी से पीड़ित था। यूरिन में प्रोटीन की बहुत अधिक मात्रा आने तथा क्रिएटिनिन के अधिक बढ़ने के कारण किडनी में इंफेक्शन से परेशान था। राजेश के जीवन जीने का आधार मात्र डायलिसिस और दवा ही रह गया था फिर भी क्रिएटिनिन कम नहीं हो रहा था। उसकी यह दशा देखकर परिवारजन उसे महात्मा गांधी अस्पताल लेकर आए जहां उसने नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. सूरज गोदारा को दिखाया। तो उन्होंने रोग की गंभीरता को देखते हुए भर्ती कर किडनी ट्रांसप्लांट का प्लान किया।

डॉ. गोदारा ने बताया कि महात्मा गांधी अस्पताल में 350 से अधिक किडनी ट्रांसप्लांट हो चुके हैं। यहां की सफलता दर विश्वस्तरीय है। कोरोना काल में किसी रोगी का किडनी ट्रांसप्लांट बहुत अधिक चुनौती भरा होता है। चिकित्सकों ने यह चुनौती स्वीकार कर आखिरकार राजेश को किडनी ट्रांसप्लांट किया। राजेश को किडनी उसकी धर्मपत्नी वर्षा ने दी। राजेश की पत्नी वर्षा सिहाग का कहना है अपने सुहाग की रक्षा के लिए जब किडनी डोनेट करने की जरूरत हुई तो मैंने सबसे किडनी डोनेट की। वहीं राजेश ने कहा कि महात्मा गांधी अस्पताल के चिकित्सकों ने मुझे नया जीवन दिया है। मुख्य किडनी प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. टीसी सदासुखी ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के तौर पर पहले रोगी तथा डोनर की कोरोना वायरस जांच करवाई गई। ट्रांसप्लांट में विशेष सावधानी बरती गई। इसके बाद गहन चिकित्सा ने भी विशेष एहतियात रखा जा रहा है। डोनर की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है, अब रेसिपीएंड की घर वापसी होगी। ऑपरेशन टीम में डॉक्टर टीसी सदासुखी के अलावा सूरज गोदारा, एचएल गुप्ता, मनीष गुप्ता, डॉ. विपिन गोयल शामिल थे।

यह भी पढ़ें:

घुटने के टिश्यू निकालकर की कंधे की दुर्लभ सर्जरी

शहर के मानसरोवर स्थित इंडस हॉस्पिटल में झुंझुनूं निवासी 45 वर्षीय अमरचंद के घुटने के टिश्यू निकालकर कंधे की सफल सर्जरी की गई।

20/04/2019

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020

27 साल पहले हार्ट में लगी पेसमेकर की तार को बिना सर्जरी के निकाला, राजस्थान में इस तरह का पहला केस

वर्षों पहले लगे पेसमेकर में संक्रमण होने के कारण उसे तार समेत हार्ट से निकालने के जटिल मामले को शहर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाया। प्रदेश में पहली बार इस तरह का केस हुआ है जब मरीज को 27 साल पहले लगे पेसमेकर और तार को इंफेक्शन होने पर बिना ओपन हार्ट सर्जरी के हृदय में से निकाला गया। लीड एक्सट्रैक्शन नामक यह प्रक्रिया इतनी जटिल थी कि तार निकालने में जरा भी चूक होती तो मरीज की उसी समय मौत हो सकती थी।

09/07/2020

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

युवाओं में भी तेजी से बढ़ी रही हार्ट अटैक संबंधी बीमारियां, जानिए बचाव

विश्व में करीब 1.7 करोड़ लोगों की मृत्यु हृदय संबंधी रोगों के कारण हो जाती है। 2016 में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 5.4 करोड़ लोग हार्ट संबंधी रोगों के शिकार हैं और हर 33 सैकंड में एक व्यक्ति की मौत हार्ट अटैक से हो जाती है।

29/09/2019