Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
स्वास्थ्य

पत्नी ने किडनी डोनेट कर बचाया सुहाग, डॉक्टर्स डे पर किडनी रोगी को मिला जीवनदान

Wednesday, July 01, 2020 19:20 PM
डॉक्टर्स डे पर मिला किडनी रोगी को जीवनदान।

जयपुर। महात्मा गांधी अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने 18 साल से किडनी रोग से पीड़ित युवक की किडनी प्रत्यारोपण कर जान बचाने में सफलता अर्जित की है। हुआ यूं कि एडवोकेट राजेश सिहाग पिछले 18 सालों से किडनी की बीमारी से पीड़ित था। यूरिन में प्रोटीन की बहुत अधिक मात्रा आने तथा क्रिएटिनिन के अधिक बढ़ने के कारण किडनी में इंफेक्शन से परेशान था। राजेश के जीवन जीने का आधार मात्र डायलिसिस और दवा ही रह गया था फिर भी क्रिएटिनिन कम नहीं हो रहा था। उसकी यह दशा देखकर परिवारजन उसे महात्मा गांधी अस्पताल लेकर आए जहां उसने नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. सूरज गोदारा को दिखाया। तो उन्होंने रोग की गंभीरता को देखते हुए भर्ती कर किडनी ट्रांसप्लांट का प्लान किया।

डॉ. गोदारा ने बताया कि महात्मा गांधी अस्पताल में 350 से अधिक किडनी ट्रांसप्लांट हो चुके हैं। यहां की सफलता दर विश्वस्तरीय है। कोरोना काल में किसी रोगी का किडनी ट्रांसप्लांट बहुत अधिक चुनौती भरा होता है। चिकित्सकों ने यह चुनौती स्वीकार कर आखिरकार राजेश को किडनी ट्रांसप्लांट किया। राजेश को किडनी उसकी धर्मपत्नी वर्षा ने दी। राजेश की पत्नी वर्षा सिहाग का कहना है अपने सुहाग की रक्षा के लिए जब किडनी डोनेट करने की जरूरत हुई तो मैंने सबसे किडनी डोनेट की। वहीं राजेश ने कहा कि महात्मा गांधी अस्पताल के चिकित्सकों ने मुझे नया जीवन दिया है। मुख्य किडनी प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. टीसी सदासुखी ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के तौर पर पहले रोगी तथा डोनर की कोरोना वायरस जांच करवाई गई। ट्रांसप्लांट में विशेष सावधानी बरती गई। इसके बाद गहन चिकित्सा ने भी विशेष एहतियात रखा जा रहा है। डोनर की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है, अब रेसिपीएंड की घर वापसी होगी। ऑपरेशन टीम में डॉक्टर टीसी सदासुखी के अलावा सूरज गोदारा, एचएल गुप्ता, मनीष गुप्ता, डॉ. विपिन गोयल शामिल थे।

यह भी पढ़ें:

Video: डॉक्टर्स ने पेट से निकाला बालों का बड़ा गुच्छा

सर्जन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल त्रिपाठी ने बताया कि मरीज के पेट में दर्द, भूख ना लगना, उल्टी होना, वजन कम होना इत्यादि लक्षणों की शिकायत कुछ महीनों से थी।

23/12/2019

कोरोना संक्रमण का नर्वस सिस्टम पर भी बुरा असर, पोस्ट कोविड में बेहद जरूरी न्यूरो केयर

पेशे से व्यापारी नरेश शर्मा (परिवर्तित नाम) कोरोना संक्रमित होने के कुछ दिनों बाद ठीक हो गए, लेकिन महीनेभर बाद ही उन्हें परिजनों को दोबारा से हॉस्पिटल लाना पड़ा। उन्हें न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाया गया, क्योंकि संक्रमित होने के बाद से उन्हें भूलने की समस्या होने लगी थी। वह छोटी-छोटी चीजें भी भूलने लगे थे, जो कोरोना संक्रमण से पहले कभी नहीं होता था।

19/11/2020

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019

वैज्ञानिकों का दावा, टी सेल थैरेपी से ठीक किया जा सकता है कैंसर

वैज्ञानिकों ने दावा किया कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यूनिटी को बढ़ाकर हर तरह के कैंसर से लड़ सकते हैं।

22/01/2020

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी।

14/02/2021

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020