Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 22nd of September 2021
 
स्वास्थ्य

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

Wednesday, February 19, 2020 17:45 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

नई दिल्ली। दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है। इस अनूठी टेक्नॉलॉजी की मदद से टिटेनियम जबड़े को तैयार किया गया, जिसे हरियाणा में फरीदाबाद के प्रभजीत (30 वर्ष) नामक व्यक्ति को लगाया गया। इस नये जबड़े की मदद से अब उसका मुंह पर पूरा नियंत्रण वापस आ गया है और 7 वर्ष के बाद वह अपना भोजन सही तरीके से चबाकर खाने में समर्थ हो गया है।

कैंसर के कारण प्रभजीत का जबड़ा निकाल दिया था, लेकिन अब नये जबड़े से उसका आत्मविश्वास लौट आया है और वह अपने चेहरे के आकार को लेकर बहुत संतुष्ट है। फोर्टिस अस्पताल वसंत कुंज के हेड, नेक और ब्रेस्ट ओंकोलॉजी के प्रमुख डॉ. मंदीप सिंह मल्होत्रा और उनकी टीम ने इस पूरी प्रक्रिया को अंजाम दिया। डॉ. मल्होत्रा ने बताया कि एसएलई रोग और टीएम ज्वाइंट के पुनर्निर्माण के कारण वह इस मामले में पारंपरिक प्रक्रिया नहीं अपनाना चाहते थे, जिसमें जबड़े की हड्डी के पुनर्निर्माण के लिए पैर के निचले भाग से फिब्युला का इस्तेमाल किया जाता है। एसएलई के कारण फिब्युला हड्डी तक रक्त प्रवाह नहीं हो पा रहा था, साथ ही इस प्रक्रिया में पैर की हड्डी भी गंवानी पड़ सकती थी जिसकी भरपाई नहीं हो सकती थी। टीएम ज्वाइंट पुनर्निर्माण सिर्फ प्रोस्थेटिक ज्वाइंट तैयार कर उसे उपयुक्त स्थान पर लगाकर ही मुमकिन थे।

उन्होंने कहा कि 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से प्रोस्थेटिक जबड़ा तैयार करने पर विचार किया जिसके लिए टिटेनियम का इस्तेमाल किया गया जो सर्वाधिक बायोकॉम्पेटिबल और लाइट मैटल है। इस सफलता पर एफएचवी के फैसिलिटी डायरेक्टर डॉ. राजीव नय्यर ने कहा कि 3डी प्रिंटिंग टेक्नॉलॉजी उन सभी लोगों के लिए उम्मीद की नई किरण है, जिन्होंने ओरल कैंसर पर विजय हासिल कर ली है और अब उनका जीवन काफी हद तक सामान्य हो सकता है। इससे ओरल कैंसर सर्जरी के दौरान हुई विकृति की आशंका भी घटी है। अब मरीज ओरल कैंसर के लिए समय पर सही विकल्प चुन सकते हैं।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

युवाओं में भी तेजी से बढ़ी रही हार्ट अटैक संबंधी बीमारियां, जानिए बचाव

विश्व में करीब 1.7 करोड़ लोगों की मृत्यु हृदय संबंधी रोगों के कारण हो जाती है। 2016 में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 5.4 करोड़ लोग हार्ट संबंधी रोगों के शिकार हैं और हर 33 सैकंड में एक व्यक्ति की मौत हार्ट अटैक से हो जाती है।

29/09/2019

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

हेल्थ को लेकर भारत सहित 8 देशों के प्रतिनिधियों ने किया मंथन

हेल्थ को लेकर भारत सहित 8 देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और हेल्थ में सुधार को लेकर विस्तार से मंथन किया।

13/11/2019

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

उत्तर भारत में पहली बार कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण, SMS अस्पताल में हुआ सफल लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट

एसएमएस अस्पताल के चिकित्सकों ने एक बार फिर अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किया है। यहां चिकित्सकों ने पहली बार स्वयं के स्तर पर लीवर का ट्रांसप्लांट किया है। इस सफलता पर चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी उत्तर भारत में पहली बार सफलतापूर्वक कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण करने पर एसएमएस प्रबंधन एवं डॉक्टर्स की टीम को बधाई दी है।

13/11/2020

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है।

16/11/2019

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय देशभर से आए धावकों ने जयपुर मैराथन के 11वें सीजन में भाग लिया। इस दौरान बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े।

03/02/2020