Dainik Navajyoti Logo
Monday 2nd of August 2021
 
स्वास्थ्य

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

Monday, February 03, 2020 13:00 PM
जयपुर मैराथन में दौड़ लगाते हुए धावक।

जयपुर। कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय तड़के ही देशभर से आए धावक अल्बर्ट हॉल के दक्षिण द्वार पर एकत्रित हुए और खुद को स्वस्थ रखने के लिए दौड़ लगाई। रविवार को जेएलएन मार्ग पर जयपुर मैराथन का 11वां सीजन आयोजित हुआ, जिसमें बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े। गर्वनर कलराज मिश्र ने फ्लैग ऑफ कर मैराथन को रवाना किया। इस अवसर पर कला एवं संस्कृति मंत्री बीडी कल्ला, आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत, बॉलीवुड डायरेक्टर मधुर भंडारकर, संस्कृति युवा संस्था के अध्यक्ष पं. सुरेश मिश्रा, मैराथन के डायरेक्टर मुकेश मिश्रा, संजय अग्रवाल, अनूप बरतरिया सहित गणमान्य लोग मौजूद थे। 42.195 किलोमीटर की फुल रन तड़के 3 बजे रवाना हुई। धावकों में इस रन को लेकर बेहद उत्साह था। युवाओं के संग 60 साल के बुजुर्गों ने भी अपनी बीमारी को हथियार बनाकर मैराथन में दौड़ लगाई।

केन्याई धावक जोफेट रोनो बने विजेता
इसके साथ ही 21 किमी हाफ मैराथन, 10 किमी व 5 किमी टाईम्ड रन, 6 किमी व 1 किमी की ड्रीम रन में भी देशवासी दौड़े। मैराथन में भाग लेने के लिए देश-विदेश के धावक आए थे। 42 किमी एलीट मैराथन में केन्या के जोफेट रोनो ने 2 घंटा 34 मिनट व 56 सैकंड में पूरी कर गोल्ड मैडल हासिल किया। द्वितीय स्थान पर आए निकोडेमस किप्रुगट ने 2 घंटा 35 मिनट व 25 सैकंड में पूरा किया। एलीट फुल मैराथन इंडियन में प्रथम श्रीकांत यादव द्वितीय धीरज सोलंकी व तृतीय मोहन लाल रहे। हाफ मैराथन मेल में प्रथम हंसाराम, द्वितीय सुशील यादव व तृतीय देव सिंह गुर्जर रहे। वहीं महिलाओं की हाफ मैराथन में प्रथम तृप्ति अग्रवाल, द्वितीय सुनीता जाट एवं तृतीय स्नेहा जाट रहे। जयपुर मैराथन के सीईओ मुकेश मिश्रा ने बताया कि मैराथन में 35 देशों और देश के 140 शहरों से आम लोगों और प्रोफेशनल रनर्स ने भाग लिया। इस दौरान एक हजार से अधिक राजस्थानी लोक कलाकारों, तीन आर्मी बैंड ने शानदार प्रस्तुति देकर समां बांधा।

वर्ल्ड रिकॉर्ड का गवाह बनी जयपुर मैराथन रेस
एशिया की सबसे बड़ी मैराथन रेसों में से एक जयपुर मैराथन में इस बार गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड भी कायम किया गया। रेस में देशभर से जुटे 11,393 रोटेरियंस ने एक जैसी टीशर्ट पहनकर अल्बर्ट हॉल से वर्ल्ड ट्रेड पार्क तक 6 किमी की ड्रीम मैराथन में दौड़कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। वहीं रेट्रो रनिंग का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी एयू बैंक जयपुर मैराथन में ब्रेक हुआ। रनर ओम विश्नोई ने 1.35 घंटे में 21 किमी उल्टा दौड़कर रिकॉर्ड तोड़ा।

रनिंग में लगा ग्लैमर का तड़का
मैराथन में नेशनल और इंटरनेशनल ब्यूटीज ने भी दौड़ लगाई। मिस इंडिया मल्टीनेशनल सिमरन शर्मा, मिस राजस्थान कंचन खटाना, मिस राजस्थान फर्स्ट और सेकेंड रनरअप अरुणा बेनीवाल व मानसी बेनीवाल और वेया मिस इंडिया अमिशा राज ने जयपुर मैराथन में भाग लिया।

जज्बे को सबने किया सलाम
पांच किलोमीटर में मैराथन में जयपुर के दिव्यांग लखन सिंह ने व्हील चेयर पर रन पूरी की। दौड़ते हुए उन्हें देखकर हर कोई शख्स लखन के जज्बे को सलाम कर रहा था। लखन ने बातचीत में कहा यह जज्बा रुकेगा नहीं। आज पहली बार मैराथन में दौड़ने के बाद उत्साह और ज्यादा है इसलिए अगली बार कोलकाता में होने वाली इंटरनेशनल मैराथन में भी दौड़ लगाएंगे।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

Video: गुर्दे का कैंसर पहुंचा हार्ट तक, 8 घंटे की सफल सर्जरी के बाद स्थापित किया कीर्तिमान

यह ट्यूमर किडनी की खून की नली के रास्ते होता हुआ ह्रद्य के निचले चैम्बर तक अपनी जडे जमा चुका था एवं विष्व में इस तरह का यह तीसरा सफल ऑपरेशन है।

06/01/2020

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

घुटने के टिश्यू निकालकर की कंधे की दुर्लभ सर्जरी

शहर के मानसरोवर स्थित इंडस हॉस्पिटल में झुंझुनूं निवासी 45 वर्षीय अमरचंद के घुटने के टिश्यू निकालकर कंधे की सफल सर्जरी की गई।

20/04/2019

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

इस खास तकनीक से बिना सीना चीरे बदला हार्ट वाल्व

कभी बुजुर्गों की मानी जाने वाले हृदय की बीमारियां अब युवा पीढ़ी को भी अपनी चपेट में ले रही है । यह समाज के लिए बड़ी चुनौती है।

07/11/2019