Dainik Navajyoti Logo
Sunday 16th of May 2021
 
स्वास्थ्य

जयपुर के डॉक्टर्स ने की सफल दुर्लभ सर्जरी, कूल्हे और घुटने के जोड़ समेत पूरी हड्डी बदली

Friday, November 20, 2020 13:40 PM
डॉक्टर्स ने की सफल दुर्लभ सर्जरी।

जयपुर। बोन कैंसर से जूझ रहे मरीज के कूल्हे और घुटने के जोड़ को स्थिरता देने वाली शरीर की सबसे मजबूत हड्डी फीमोरल बोन (जांघ की हड्डी) की दुर्लभ टोटल फीमोरल रिप्लेसमेंट सर्जरी, जयपुर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाई। 75 वर्षीय मेघपाल (परिवर्तित नाम) की जांघ की हड्डी बोन कैंसर के कारण तेजी से गलने लगी थी। ऐसे में डॉक्टर्स ने कूल्हे व घुटने के जोड़ तक फैली पूरी हड्डी को बदल दिया। शहर के शैल्बी हॉस्पिटल में सीनियर जॉइंट रिप्लेसमेंट एंड ऑर्थोपेडिक्स सर्जन डॉ. धीरज दुबे ने यह सर्जरी की।

बोन कैंसर सारकोमा से पिघलने लगी थी हड्डी
डॉ. धीरज दुबे ने बताया कि मरीज को बोन कैंसर सारकोमा था। इसके कारण उसकी जांघ की हड्डी तेजी से गलना शुरू हो गई थी और मांपेशियों में भी कैंसर तेजी से फैल रहा था। मरीज को पैर में सूजन, दर्द, हड्डी में फ्रैक्चर और पैर का आकर भी छोटा हो गया था। इस स्थिति में कैंसरस बोन को सर्जरी कर निकालना ही एकमात्र उपाय था। अगर मरीज की सर्जरी में देरी होती तो कैंसर दूसरे अंगों तक पहुंच जाता और मरीज के लिए जानलेवा स्थिति बन जाती।

सर्जरी में थे कई जोखिम
इस सर्जरी में कई जोखिम थे। मरीज की उम्र अधिक थी जो अपने आप में एक जोखिम है। इसके अलावा सर्जरी के दौरान हड्डी के चारों ओर खून की नसें, नर्व के खराब होने का खतरा भी था जिन्हें बचाते हुए हड्डी को निकाला गया। डॉ. धीरज ने बताया कि हमारी जांघ की हड्डी का एक छोर कूल्हे के जोड़ और दूसरा छोर घुटने के जोड़ में होता है। पूरी हड्डी बदलने में कूल्हे और घुटने के जोड़ों का कुछ हिस्सा भी बदला गया। करीब पांच से छह घंटे की सर्जरी में फीमोरल हड्डी की रिप्लेसमेंट सर्जरी कर दी गई। सर्जरी में कैंसर विशेषज्ञ डॉ. कपिल देव का भी सहयोग रहा।

यह भी पढ़ें:

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

नहीं था अंगूठा, तर्जनी उंगली को जोड़ कर नया बनाया

कोटा की आयशा (3 वर्ष) के जन्म से ही दोनों हाथों में अंगूठे अविकसित थे, जिसके कारण वह कुछ भी ठीक से पकड़ नहीं पाती थी।

28/01/2020

पीठ से महाधमनी में घुसकर जांघ तक पहुंचा मशीन का टुकड़ा, सर्जरी कर पैर बचाया

मार्बल की खदान में हुए एक हादसे में बंदूक की गोली से तेज रफ्तार में मशीन का टुकड़ा कोटा के 35 वर्षीय राजेंद्र कुमार की पीठ से छाती में घुसकर हृदय की महाधमनी को भेदता हुआ अंदर चला गया। ऐसे मामलों में महाधमनी छिलने से आंतरिक रक्तस्त्राव के कारण रोगी के बचने की संभावना न्यूनतम रहती है, लेकिन नारायणा हॉस्पिटल की रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस व कार्डियक सर्जरी टीम के संयुक्त प्रयासों से मरीज की जान बच गई।

25/09/2020

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016