Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of December 2021
 
स्वास्थ्य

सिर्फ एक गोली से कैंसर मुक्त रहना है संभव

Wednesday, September 22, 2021 17:30 PM
भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में बुधवार को विश्व क्रोनिक मायलोइड ल्यूकेमिया (सीएमएल) दिवस मनाया।

जयपुर। भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में बुधवार को विश्व  क्रोनिक मायलोइड ल्यूकेमिया (सीएमएल) दिवस मनाया गया। इस मौके पर सीएमएल कैंसर सरवाइर्स ने कैंसर से जीत हासिल करने के अनुभव साझा किए। इस मौके पर सीएमएल कैंसर की रोकथाम एवं उपचार के बारे में जानकारी देने के साथ ही प्रदेशभर से आए कैंसर विजेताओं ने उपचार ले रहे रोगियों का हौसला बढ़ाया।

कार्यक्रम में ब्लड कैंसर विशेषज्ञ डॉ उपेन्द्र शर्मा ने बताया कि देष में मौजूदा कैंसर रजिस्ट्री के आंकडों के आधार पर सीएमएल कैंसर के केस करीब 2.2 फीसदी है। सीएमएल कैंसर के रोगी अपनी दवा नियमित तौर पर लें तो ना सिर्फ वह कैंसर को मात दे सकते हैं बल्कि सामान्य व्यक्ति की तरह स्वस्थ जीवन जी सकते है। इस मौके पर मेडिकल ऑन्कोलॉजी विभाग के निदेषक एवं प्रमुख डॉ अजय बापना ने बताया दिवस ने इस दिवस के महत्व के बारे में जानकारी दी और बताया कि यदि मरीज नियमित रूप से दवाएं खाते रहे तो आसानी से कैंसर से जीत हासिल कर सकते है।

निःशुल्क उपचार से 248 रोगी कैंसर मुक्त

हॉस्पिटल के अधिशासी निदेषक मेजर जनरल एस सी पारीक, ने बताया कि हॉस्पिटल की ओर जनकल्याण योजना क्रोनिक माईलोइड ल्यूकीमिया कैंसर मुक्ति योजना (सीएमएल-सीएमवाए) चलाई जा रही है। इस योजना के तहत (सीएमएल) रक्त कैंसर से पीड़ित रोगियों का निःशुल्क उपचार किया जाता है। अगस्त 2015 में शुरू हुई इस योजना में 248 रोगियों का निःशुल्क जांच एवं उपचार किया जा रहा है और सभी रोगी कैंसर मुक्त है। जून 2021 तक इस प्रोजेक्ट पर 1ण्15 करोड़राशि खर्च की जा चुकी है।

कई योजनाओं के तहत निशुल्क उपचार

चिकित्सालय के कोषाध्यक्ष डॉ प्रेमसिंह लोढा ने बताया कि चिकित्सालय की ओर से सीएमएल के साथ ही डोनेट ए लाईफ, किडनी कैंसर, कैंसर केयर अनुकम्पा परियोजना, क्योर थायोराइड कैंसर परियोजना, स्तन कैंसर निवारण पयोधि प्रतिदान परियोजना के तहत रोगियों को दवाओं सहित जून 2021 तक 6,78,92,902 राशि तक का निःशुल्क उपचार प्रदान किया जा चुका है। चिकित्सा अधीक्षक डॉ सुबह पठानिया चिकित्सालय में महिलाओं में स्तन एवं गर्भाशय कैंसर की निःशुल्क जांच कार्यक्रम के तहत अब तक 815 महिलाओं कि जांच की जा चुकी है, जिसमें 8,49,980 रूपए की राशि खर्च हुई है।

केस- 1

करीब चार साल पहले मुझे भूख नहीं लगने और खाना खाने पर उल्टी आने की समस्या हुई। डॉक्टर को दिखाया तो पता चला कि लीवर डेमेज हो गया है। डॉक्टर ने बीएमसीएचआरसी रेफर किया। यहां जांच में ब्लड कैंसर सामने आया। माला की छोटी सी दुकान करते हुए परीवार में सबसे बडे बेटे की जिम्मेदारी निभाते हुए कैंसे कैंसर का उपचार करवारू समझ नहीं आ रहा था। लेकिन हॉस्पिटल की सीएमएल योजना का मुझे लाभ मिला और पूरा उपचार निषुल्क हो गया। आज मैं पूरी तरह कैंसर मुक्त हूं। -गिरराज सिंह, जयपुर, कैंसर सरवाइवर

केस- 2
मुझे बार-बार बुखार आता और शौच के दौरान खून निकलता। कई बार डॉक्टर को दिखाया लेकिन आराम नहीं मिला। कुछ महिनों बाद कई तरह की जांचें हुई और उसमें ब्लड कैंसर सामने आया। जब कैंसर का पता चला तो हिम्मत टूटती लगी, लेकिन हार नहीं माना और उपचार करवाने का निर्णय लिया। योजना का भी लाभ मिला और मैं आज पूरी तरह कैंसर मुक्त हूं। -कृष्ण पाल, आगरा, कैंसर सरवाइवर

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

मंगल के दिन कोरोना ‘जीरो’

19 माह 16 दिन बाद प्रदेश में कोई नया केस नहीं

20/10/2021

Video: गुर्दे का कैंसर पहुंचा हार्ट तक, 8 घंटे की सफल सर्जरी के बाद स्थापित किया कीर्तिमान

यह ट्यूमर किडनी की खून की नली के रास्ते होता हुआ ह्रद्य के निचले चैम्बर तक अपनी जडे जमा चुका था एवं विष्व में इस तरह का यह तीसरा सफल ऑपरेशन है।

06/01/2020

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019

तनावयुक्त जीवनशैली, अनियमित दिनचर्या से होती हैं ये बीमारियां

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर राजस्थान स्वास्थ्य योग परिषद ट्रस्ट, योग भवन, शास्त्री नगर में न्यूरो केयर, जागरण शिविर का आयोजन हुआ, जिसमें संतोकबा दुर्लभजी अस्पताल के न्यूरो फि जिशियन डॉ. नीरज भूटानी और न्यूरो सर्जन डॉ. डीपी शर्मा ने व्याख्यान दिया।

08/04/2019

105 साल की महिला ने जीती कोविड-19 से जंग, डॉक्टर्स और मरीज के जज्बे ने मिलकर कोरोना को हराया

राजधानी जयपुर में 105 वर्ष की सूरज देवी चौधरी ने इस उम्र में भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को अपने जज्बे से मात दे दी। नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की अनुभवी कोविड टीम ने सूरज देवी की उम्र को उनके इलाज के बीच नहीं आने दिया बल्कि उनका सफल उपचार कर एक तरह से नया जीवनदान दिया।

20/10/2020

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019