Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of April 2021
 
स्वास्थ्य

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

Saturday, February 08, 2020 16:10 PM
कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन हुआ।

जयपुर। स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे। इस आइसोकाइनेटिक टेस्टिंग तकनीक से खिलाड़ी अपने हर शारीरिक कोण पर समान दबाव बनाकर अपनी परफॉर्मेंस को बेहतर कर सकते हैं। इसके साथ ही इससे मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या भी दूर हो सकेगी। एक अन्य वीओटू मैक्स तकनीक से खिलाड़ी अपने शरीर की ऑक्सीजन खपत की विस्तृत जानकारी प्राप्त कर अपनी प्रदर्शन में सुधार कर सकेंगे।

शहर में चल रही नेशनल स्पोर्ट्स इंजरी कॉन्फ्रेंस आईएएसएमकॉन में देश-विदेश से आए नामी विशेषज्ञों ने ऐसी जानकारी दी। कॉन्फ्रेंस के आयोजक डॉ. विक्रम शर्मा ने बताया कि एसएमएस मेडिकल कॉलेज के ऑडिटोरियम में आयोजित इस कॉन्फ्रेंस में खेल के दौरान लगने वाली चोटों, उनसे बचाव, डोपिंग, न्यूट्रिशन सहित कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा हो रही है। कॉन्फ्रेंस का आयोजन एशियन फुटबॉल कॉन्फेड्रेशन, स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई), ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन, आरसीए, जेएमए के सहयोग से किया जा रहा है। कॉन्फ्रेंस में स्पोर्ट्स इंजरी विशेषज्ञों के साथ खिलाडिय़ों, कोच, फिजीयोथेरेपिस्ट, जिम ट्रेनर ने भी भाग लिया और खेल के दौरान लगने वाली चोटों व प्रदर्शन को बेहतर बनाने के संदर्भ में सवाल-जवाब भी किये। आयोजन समिति के डॉ. कपिल देव गर्ग ने बताया कि कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन हुआ।

मांसपेशियों के दबाव पर रहेगी नजर
इंडियन हॉकी टीम के फीजियोथेरेपिस्ट डॉ. अयंगर ने बताया कि आइसोकाइनेटिक टेस्टिंग तकनीक में ऐसी सेंसरयुक्त मशीनें आ गई हैं, जो खिलाड़ी की सभी मांसपशियों पर बराबर दबाव बनाकर रखेगी। गुरुत्वाकर्षण बल के तहत यह तकनीक खिलाड़ी की हर मांसपेशियों पर नजर रखेगी और उनकी क्षमता बढ़ायेगी। इससे खिलाड़ी की क्षमता बढ़ऩे के साथ ही मसल इंजरी से भी बचाव होगा।




 

यह भी पढ़ें:

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है

17/03/2021

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

जयपुर के डॉक्टर्स ने की सफल दुर्लभ सर्जरी, कूल्हे और घुटने के जोड़ समेत पूरी हड्डी बदली

बोन कैंसर से जूझ रहे मरीज के कूल्हे और घुटने के जोड़ को स्थिरता देने वाली शरीर की सबसे मजबूत हड्डी फीमोरल बोन की दुर्लभ टोटल फीमोरल रिप्लेसमेंट सर्जरी, जयपुर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाई। 75 वर्षीय मरीज की जांघ की हड्डी बोन कैंसर के कारण तेजी से गलने लगी थी, ऐसे में डॉक्टर्स ने कूल्हे व घुटने के जोड़ तक फैली पूरी हड्डी को बदल दिया।

20/11/2020

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020