Dainik Navajyoti Logo
Sunday 20th of June 2021
 
स्वास्थ्य

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक से बोन कैंसर का इलाज, रिकवरी में लगने वाला समय और खर्च भी होगा कम

Friday, June 12, 2020 12:30 PM
आइसक्रीम स्टिक टेक्निक से बोन कैंसर की सर्जरी करने वाली टीम।

जयपुर। आइसक्रीम स्टिक टेक्निक बोन कैंसर से जुझ रहे रोगियों के इलाज की नवीनतम तकनीक के रूप में सामने आई है। इस तकनीक की सहायता से रोगी की कैंसर ग्रसित बोन को लिक्विड नाइट्रोजन की सहायता से कैंसर मुक्त करना संभव है। यह सर्जरी भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के ऑर्थोऑन्को सर्जन डॉ. प्रवीण गुप्ता, एनेस्थिसियोलॉजिस्ट डॉ. सौमी एच चौधरी की टीम की ओर से की गई है। इस सर्जरी में ईविंग सारकोमा (बोन कैंसर) से जुझ रहे 40 वर्षीय युवक के पांव की कैंसर ग्रसित बोन को बगैर शरीर से अलग किए उसे कैंसर मुक्त करने में सफलता हासिल की गई है।

डॉ. प्रवीण गुप्ता ने बताया कि बोन कैंसर के रोगियों में बोन को कैंसर मुक्त करने के लिए रेडिएशन दिया जाता है या उस बोन को निकालकर उसके स्थान पर आर्टिफिशल बोन को लगाया जाता है। इन दोनों टेक्निक से एडवांस है आइसक्रीम स्टिक टेक्निक। इसमें बोन के जिस हिस्से में कैंसर है उस के एक हिस्से पर कट लगाकर उसे बाहर की ओर घुमाकर 20 मिनट तक लिक्विड नाइट्रोजन में डूबोकर रखा जाता है। इसका तापमान 160°C होता है। इस तामपान की वजह से बोन में मौजूद कैंसर सेल पूरी तरह से खत्म हो जाते है। लिक्विड नाइट्रोजन से निकालने के 40 मिनट बाद उसके सामान्य तापमान में आने पर पुन: जोड़ दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि इस तकनीक में मरीज को आर्टिफिशियल बोन की जगह खुद का ही बोन कैंसर मुक्त करके लगाया जाता हैं, जिसकी वजह से रोगी की रिकवरी भी तेजी से होती है। ऑपरेशन के दो दिन बाद मरीज चल-फिर सकता है, जबकि करीब 3 माह के पश्चात सामान्य व्यक्ति की तरह सभी कार्य करने में सक्षम होगा। इस तरह की कैंसर सर्जरी में जब बोन को रेडिएशन थैरेपी दी जाती है तो सर्जरी में 6 घंटे तक का समय लगता है, वहीं इस तकनीक के जरिए महज 4 घंटे में सर्जरी की जाती है। यदि सर्जरी में आर्टिफिशियल बोन (इम्प्लांट) का उपयोग होता हैं, तो सर्जरी का खर्च 6 से 7 लाख रूपए आता है, वहीं इस तकनीक से मात्र 1.5 से 2 लाख रुपए के खर्च में सर्जरी की जा सकती है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019

सिर में बिजली कौंधने जैसा दर्द तो हो सकता है ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया, लापरवाही हो सकती है जानलेवा

सिर दर्द कई तरह का होता है, लेकिन अगर आपको सिर व चेहरे पर बिजली कौंधने जैसा तेज दर्द हो तो आपको सावधान होने की जरूरत है। यह गंभीर न्यूरो डिजिज ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया हो सकती है। आमतौर पर युवाओं में ज्यादा देखे जाने वाली इस बीमारी में दर्द का पहला अटैक आते ही बिना देर किए विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

22/01/2021

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

कैंसर उपचार में मददगार है साइको थैरेपी, बढ़ाती है रोगियों का इम्यून सिस्टम

सीबीटी, सीडीटी और एसडी थैरेपी का उपयोग कैंसर इलाज में एक वरदान के रूप में सामने आ रहा है। एडवांस स्टेज के कैंसर रोगियों के इलाज के लिए भी यह थैरेपी मददगार साबित हो रही है। इस थैरेपी के जरिए रोगियों के इम्यून सिस्टम की क्षमता को बढ़ाया जाता है, जिससे रोगी में कैंसर से लड़ने की क्षमता बढ़ रही है।

04/02/2020