Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 12th of May 2021
 
स्वास्थ्य

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

Tuesday, December 03, 2019 16:30 PM

जयपुर। राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ होने के कारण सीधे पैरों से चलने-फिरने, दैनिक कार्य कर पाने में असमर्थ मरीज के लिए डॉक्टर भगवान साबित हुए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

सीनियर जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. धीरज दुबे ने बताया कि अलवर की 35 वर्षीय शालिनी को पिछले 20 वर्षों से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की गंभीर बीमारी थी। इससे मरीज के कूल्हे के दोनों जोड़ों की चाल बिल्कुल खत्म हो गई थी और वह एक अवस्था में ही जड़ हो गए। इस समस्या के कारण मरीज न तो ढंग से चल-फिर पाती थी और न ही दैनिक कार्य कर पा रही थी। जोड़ों की संरचना में जटिलताएं होने के कारण कई सेंटर्स पर दिखाने के बावजूद मरीज को कोई राहत नही मिल रही थी।

सर्जरी में थे बहुत जोखिम
मरीज की सर्जरी में काफी जोखिम थे। मरीज को ऑपरेशन के लिए ऑपरेशन टेबल पर सही स्थिति में लाना ही मुश्किल था। कूल्हों में फिर से चाल लाने के लिए उसकी संरचना की सघन जांच की गई। ऐसे में पहले डॉक्टर्स ने 3डी प्रिंटिंग के जरिए कूल्हों की संरचना की प्रतिकृति बनाई और सर्जरी प्लान की। सर्जरी में डबल विंडो तकनीक से हिप जॉइंट्स को खोला गया और नए इंप्लांट लगाए गए। इसके अलावा सर्जरी के दौरान इंट्रा ऑपरेटिव कंटीनियस सेचुरेशन तकनीक से मरीज के शरीर में रक्त प्रवाह पर लगातार नजर रखी गई।

सर्जरी वाले दिन ही चलने लगी
सर्जरी में सारी सावधानियां रखने के बाद उसी दिन मरीज ने चलना भी शुरू कर दिया। डॉ. धीरज ने बताया कि उसे चलने में कोई समस्या नहीं हुई और मरीज अब सामान्य जीवन व्यतीत कर पा रही है। सर्जरी में इस्तेमाल की गई तकनीकों का राजस्थान में पहली बार सफल प्रयोग हुआ है।

यह भी पढ़ें:

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019

बच्चों पर शोध: खांसी-जुकाम नहीं बल्कि बुखार के साथ उल्टी दस्त, पेट दर्द होने पर भी हो सकता है कोरोना

अब तक खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण होने पर ही कोरोना वायरस की पुष्टि होना माना जा रहा था। लेकिन बच्चों में बुखार के साथ उल्टी दस्त होने पर भी कोरोना वायरस होना पाया गया है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर में बच्चों पर हुए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है।

03/06/2020

पीठ से महाधमनी में घुसकर जांघ तक पहुंचा मशीन का टुकड़ा, सर्जरी कर पैर बचाया

मार्बल की खदान में हुए एक हादसे में बंदूक की गोली से तेज रफ्तार में मशीन का टुकड़ा कोटा के 35 वर्षीय राजेंद्र कुमार की पीठ से छाती में घुसकर हृदय की महाधमनी को भेदता हुआ अंदर चला गया। ऐसे मामलों में महाधमनी छिलने से आंतरिक रक्तस्त्राव के कारण रोगी के बचने की संभावना न्यूनतम रहती है, लेकिन नारायणा हॉस्पिटल की रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस व कार्डियक सर्जरी टीम के संयुक्त प्रयासों से मरीज की जान बच गई।

25/09/2020

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019

विश्व के 83 और भारत के 89 प्रतिशत लोग तनाव में जी रहे : वांगचुक

जयपुरिया इंस्टीट्यूट आॅफ मैनेजमेंट, जयपुर में सोमवार को भूटान के पूर्व शिक्षा मंत्री नोरबू वांगचुक का हैप्पीनेस लैसंस फ्रॉम भूटान विषय पर इंटरेनशनल गेस्ट सैशन आयोजित किया गया।

05/11/2019

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

अस्थमा नहीं है लाइलाज, इनहेलेशन थैरेपी है कारगर

अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है जिसमें श्वास मार्ग में सूजन और श्वास मार्ग की संकीर्णता की समस्या होती है जो समय के साथ कम ज्यादा होती है।

03/05/2019