Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 28th of October 2020
 
स्वास्थ्य

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

Monday, January 06, 2020 11:10 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

जयपुर। अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक इलाज तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन (टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में इस केस में पहली बार टावी तकनीक से बिना चीरफाड़ नया हार्ट वॉल्व लगाया गया।

हॉस्पिटल के डॉ. सीपी श्रीवास्तव, डॉ. देवेन्द्र श्रीमाल और डॉ. माणिक चोपड़ा की टीम ने सफलतापूर्वक इस अत्याधुनिक तकनीक से ऑपरेशन के जरिए मरीज को नया जीवन दिया। प्रदेश में चुनिंदा ही हॉस्पिटल है जिनमें टावी के लिए एक प्रशिक्षित टीम है। हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. देवेन्द्र श्रीमाल ने बताया मरीज फाइटर की बीमारियों से लड़ रहा था और 2013 में मल्टीपल ब्लॉकेज के कारण उनकी हॉस्पिटल में ही बायपास सर्जरी हुई थी।

परिजनों ने चुनी तकनीक
पिछले दिनों बायपास सर्जरी के सभी ग्राफ्ट्स सुचारू रूप से काम कर रहे थे तभी एक नई बीमारी एओर्टिक स्टेनोसिस कैल्शियम जमाव के कारण वॉल्व में सिकुड़न डायग्नोसिस हुई। स्टेनोसिस के कारण हृदय की ब्लड पम्प करने की क्षमता प्रभावित हो जाती है, जिससे रोगी में सांस फूलने, छाती में दर्द के लक्षण दिखते हैं। मरीज की बढ़ी उम्र और पूर्व चिकित्सकीय इतिहास को देखते हुए परिजनों ने टावी तकनीक को चुना।

जांघ के जरिए बदला प्रभावित वॉल्व
टावी एक्सपर्ट डॉ. माणिक चोपड़ा ने बताया इस प्रक्रिया में एक छोटा चीरा लगाकर जांघ के पास से बायो प्रोस्थेटिक वॉल्व को प्रभावित वॉल्व तक पहुंचाया, क्योंकि प्रक्रिया बिना सर्जरी के होती है इसलिए मरीज अगले ही दिन से पूरी तरह से सक्रिय हो जाता है। डेढ़ घंटे में टावी तकनीक से हमने मरीज का प्रभावित वॉल्व बदल दिया और अगले दिन वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया। अब मरीज ने पूरी तरह से रिकवर कर लिया है और उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है।

यह भी पढ़ें:

मांझे ने गहराई तक काटा टखना, डॉक्टरों ने सर्जरी कर बचाया

पतंगबाजी के जुनून में मांझा हर किसी के लिए आफत बना हुआ है। ऐसे ही आशिदा के पैर में मांझा फंसने से उनका टखना बुरी तरह से कट गया, खून इतना बह गया कि बीपी तक रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था।

17/01/2020

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है।

22/11/2019

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी।

14/05/2019

लॉकडाउन में 10 हजार से ज्यादा कैंसर मरीजों का किया इलाज, WHO के सुरक्षा नियमों को अपनाते हुए उपचार

कैंसर रोगियों को समय पर उपचार मिले और उनकी बीमारी को फैलने से रोका जा सके इसके लिए लॉकडाउन के समय में भी भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर जयपुर की ओर से 10 हजार से ज्यादा कैंसर रोगियों को उपचार सुविधाएं उपलब्ध कराई गई।

15/06/2020

सात वचन निभाये, बाईपास सर्जरी भी कराई एक साथ

जीवन के सभी सुख-दुख साथ बांटने का वादा लिये एक जोड़े ने हार्ट की बायपास सर्जरी जैसा उपचार भी एक ही दिन, एक ही अस्पताल में और एक ही सर्जन से कराया।

05/11/2019

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019

17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट अस्पताल से डिस्चार्ज, कुछ दिनों तक रहेगा चिकित्सकों की निगरानी में

प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल से 17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट को डिस्चार्ज कर दिया गया। वह अब पूरी तरह से स्वस्थ्य है और अपने रोजमर्रा के जरूरी काम करने में सक्षम है। लेकिन उअस्पताल प्रशासन की ओर से उसे एतिहात के लिए बनीपार्क जयसिंह हाइवे स्थित माधव आश्रम में रखा गया।

07/02/2020