Dainik Navajyoti Logo
Sunday 1st of August 2021
 
स्वास्थ्य

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

Monday, January 20, 2020 11:35 AM
एक्मो तकनीक के बारे में जानकारी देते हुए विशेषज्ञ।

जयपुर। कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ, गंभीर निमोनिया, स्वाइन फ्लू या जहरीले धुएं के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। वहां उन्हें बचाने के लिए वेंटिलेटर सपोर्ट भी पर्याप्त नहीं होता। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में रविवार को हुई एक दिवसीय वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने एक्मो तकनीक पर यह जानकारी दी।

विशेषज्ञों ने बताया कि यह अत्याधुनिक लाइफ सपोर्ट तकनीक है जो मरीज की श्वसन क्रिया में तब तक सपोर्ट करती है जब तक कि रोगी के फेफड़े या हृदय सुचारू रूप से काम करने की स्थिति में नहीं आ जाते है। वर्कशॉप में 100 से अधिक कार्डियक सर्जन, क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट्स, फिजिशियन, श्वास रोग विशेषज्ञ, इमरजेंसी स्टाफ ने भाग लिया। प्रतिभागियों को एक्मो मशीन इस्तेमाल करने की प्रैक्टिल ट्रेनिंग दी गई। हॉस्पिटल के एनेस्थिसिया व क्रिटिकल केयर विभाग के अध्यक्ष और क्लिनिकल डायरेक्टर डॉ. प्रदीप गोयल ने बताया कि यह तकनीक उन लोगों को लंबे समय तक हृदय और श्वसन से संबंधित सहायता प्रदान करती है, जिनके दिल या फेफड़े कुछ कारणवश अस्थायी रूप से शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन देने में असमर्थ हो जाते है।

मशीन से बाहर निकालते हैं पूरा खून
इस तकनीक में मरीज के शरीर का पूरा खून मशीन से बाहर निकालते हैं। फिर उसमें जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन शामिल कर प्रेशर से वापस शरीर में प्रवाह किया जाता है। इससे बीपी तो ठीक होता ही है, साथ ही फेफड़ो व हार्ट के खून में ऑक्सीजन की मात्रा भी सही हो जाती है। मुंबई के पीडियाट्रिक्स इमरजेंसी व क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ अमीश वोरा ने बताया कि ऐसे केस में एक्मो तकनीक मरीज की जान बचाने का अंतिम विकल्प होता है। जब मरीज के शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बनाए रखने के लिए वेंटिलेटर भी पर्याप्त नहीं होता है, तब एक्मो तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

मांझे ने गहराई तक काटा टखना, डॉक्टरों ने सर्जरी कर बचाया

पतंगबाजी के जुनून में मांझा हर किसी के लिए आफत बना हुआ है। ऐसे ही आशिदा के पैर में मांझा फंसने से उनका टखना बुरी तरह से कट गया, खून इतना बह गया कि बीपी तक रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था।

17/01/2020

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

विश्व के 83 और भारत के 89 प्रतिशत लोग तनाव में जी रहे : वांगचुक

जयपुरिया इंस्टीट्यूट आॅफ मैनेजमेंट, जयपुर में सोमवार को भूटान के पूर्व शिक्षा मंत्री नोरबू वांगचुक का हैप्पीनेस लैसंस फ्रॉम भूटान विषय पर इंटरेनशनल गेस्ट सैशन आयोजित किया गया।

05/11/2019

संक्रमण से बचाएगा देश का पहला 3D मास्क, SMS हॉस्पिटल एवं MNIT के सहयोग से किया तैयार

कोरोना के बेहतरीन उपचार को लेकर देशभर में विख्यात जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल के चिकित्सकों व एमएनआईटी जयपुर के सहयोग से कंपनी ने कोरोना से बचाव के लिए ऐसा मास्क बनाया है, जो संक्रमण से 99.9 फीसदी बचाएगा। खास बात ये है कि इस मास्क का विकास एवं निर्माण पूर्णतया जयपुर में हुआ है।

29/12/2020

दृढ़ इच्छा शक्ति और उचित इलाज से कैंसर को हराना होना चाहिए हमारा लक्ष्य: गहलोत

विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हमारा लक्ष्य उचित उपचार एवं इच्छा शक्ति के माध्यम से कैंसर को हराने का होना चाहिए। सकारात्मक सोच, प्रतिरोध क्षमता और काबू पाने का दृढ़ संकल्प कैंसर के खिलाफ लड़ाई लड़ने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

04/02/2020

Video: गुर्दे का कैंसर पहुंचा हार्ट तक, 8 घंटे की सफल सर्जरी के बाद स्थापित किया कीर्तिमान

यह ट्यूमर किडनी की खून की नली के रास्ते होता हुआ ह्रद्य के निचले चैम्बर तक अपनी जडे जमा चुका था एवं विष्व में इस तरह का यह तीसरा सफल ऑपरेशन है।

06/01/2020