Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 20th of January 2021
 
स्वास्थ्य

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

Monday, January 20, 2020 11:35 AM
एक्मो तकनीक के बारे में जानकारी देते हुए विशेषज्ञ।

जयपुर। कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ, गंभीर निमोनिया, स्वाइन फ्लू या जहरीले धुएं के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। वहां उन्हें बचाने के लिए वेंटिलेटर सपोर्ट भी पर्याप्त नहीं होता। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल में रविवार को हुई एक दिवसीय वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने एक्मो तकनीक पर यह जानकारी दी।

विशेषज्ञों ने बताया कि यह अत्याधुनिक लाइफ सपोर्ट तकनीक है जो मरीज की श्वसन क्रिया में तब तक सपोर्ट करती है जब तक कि रोगी के फेफड़े या हृदय सुचारू रूप से काम करने की स्थिति में नहीं आ जाते है। वर्कशॉप में 100 से अधिक कार्डियक सर्जन, क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट्स, फिजिशियन, श्वास रोग विशेषज्ञ, इमरजेंसी स्टाफ ने भाग लिया। प्रतिभागियों को एक्मो मशीन इस्तेमाल करने की प्रैक्टिल ट्रेनिंग दी गई। हॉस्पिटल के एनेस्थिसिया व क्रिटिकल केयर विभाग के अध्यक्ष और क्लिनिकल डायरेक्टर डॉ. प्रदीप गोयल ने बताया कि यह तकनीक उन लोगों को लंबे समय तक हृदय और श्वसन से संबंधित सहायता प्रदान करती है, जिनके दिल या फेफड़े कुछ कारणवश अस्थायी रूप से शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन देने में असमर्थ हो जाते है।

मशीन से बाहर निकालते हैं पूरा खून
इस तकनीक में मरीज के शरीर का पूरा खून मशीन से बाहर निकालते हैं। फिर उसमें जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन शामिल कर प्रेशर से वापस शरीर में प्रवाह किया जाता है। इससे बीपी तो ठीक होता ही है, साथ ही फेफड़ो व हार्ट के खून में ऑक्सीजन की मात्रा भी सही हो जाती है। मुंबई के पीडियाट्रिक्स इमरजेंसी व क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ अमीश वोरा ने बताया कि ऐसे केस में एक्मो तकनीक मरीज की जान बचाने का अंतिम विकल्प होता है। जब मरीज के शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बनाए रखने के लिए वेंटिलेटर भी पर्याप्त नहीं होता है, तब एक्मो तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें:

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019

नेजोफैरेंजियल वॉश रोक सकते है कोरोना इंफेक्शन: लंग इंडिया

अंतरराष्ट्रीय जनरल लंग इंडिया ने अपने ताजा अंक में प्रकाशित रिसर्च पेपर में प्रतिपादित किया है कि अगर गुनगुने पानी के गरारे और नेजल वॉश (जल नेती) को नियमित किया जाए तो कोरोना का संक्रमण जो इंसान के मुंह और गले से होते हुए लंग्स (फेंफड़ों) तक पहुंचता है, उस पर विराम लग सकती है तथा कोरोना के इलाज में मदद मिल सकती है।

06/05/2020

एंडगेम ऑफ टबैको विषय पर वेबीनार में जुटे हेल्थ एक्सपर्ट, बचाव के संभावित तरीकों पर की चर्चा

पूर्णिमा यूनिवर्सिटी तथा जोधपुर स्कूल ऑफ पब्लिक हैल्थ की ओर से 'एंडगेम ऑफ टबैको: प्रोटेक्टिंग नेक्स्ट जनरेशन' विषय पर इंटरनेशनल वेबीनार आयोजित किया गया। इसमें देश-विदेश के हैल्थ एक्सपर्ट्स व एजुकेशनिस्ट्स ने युवा पीढ़ी को टबैको से बचाव के संभावित तरीकों के बारे में गंभीर चर्चा की।

07/06/2020

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर बचाई जान, महात्मा गांधी अस्पताल के डॉक्टर्स ने की ब्लडलेस सर्जरी

जयपुर शहर के सीतापुरा स्थित महात्मा गांधी अस्पताल के हार्ट सर्जन को एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर एक युवक की जान बचाने में सफलता अर्जित की है। युवक बहुत ही नाजुक स्थिति में महात्मा गांधी अस्पताल में आया था। प्रख्यात हार्ट सर्जन डॉ एम ए चिश्ती ने तुरंत ही बीमारी की पहचान कर ली थी।

09/10/2020