Dainik Navajyoti Logo
Thursday 22nd of April 2021
 
स्वास्थ्य

78 वर्षीय बुजुर्ग को मिली राहत, हार्ट वॉल्व का बिना चीरफाड़ के किया प्रत्यारोपण

Friday, March 05, 2021 10:35 AM
सर्जरी करने वाली चिकित्सकों की टीम।

जयपुर। शहर के जगतपुरा स्थित एक निजी अस्पताल में 78 वर्षीय मरीज के हार्ट वॉल्व का बिना किसी चीरफाड़ के सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया है। अस्पताल के वरिष्ठ कार्डियक सर्जन डॉ. समीर शर्मा ने बताया कि मरीज को करीब पांच साल पहले हृदय की नसों में रुकावट के बाद दो स्टंट लगाए गए थे। उसके बाद कुछ सालों तक मरीज को कोई लक्षण नहीं थे। हाल ही में मरीज को कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ। इसके बाद उन्हें चलने फिरने में कठिनाई, छाती में दर्द और सांस फूलने की तकलीफ होने लगी। इस पर मरीज को जीवन रेखा हॉस्पिटल लाया गया।

यहां डॉ. समीर शर्मा ने मरीज की उम्र अधिक होने और फेफड़ों की स्थिति कमजोर होने के कारण उन्हें एंजियोप्लास्टी एवं ट्रांसकैथेटर ऑर्टिक वाल्व रिप्लेसमेंट की सलाह दी। सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. राम चितलांगिया ने मरीज की एंजियोग्राफी कर एफएफआर तकनीक से हृदय की नस के ब्लॉकेज का ऐस्टीमेशन किया और एफएफआर पॉजिटिव आने के बाद उनके हृदय के मुख्य धमनी में दो स्टंट इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड आईवीयूएस गाइडेंस में प्रत्यारोपित किया। अगले दिन मरीज को ट्रांसकैथेटर ऑर्टिक वॉल्व रिप्लेसमेंट के तहत अत्याधुनिक सेल्फ एक्सपेंडिंग एऑरटिक वॉल्व पैर की नस के जरिए डाला गया।

यह भी पढ़ें:

घुटने के टिश्यू निकालकर की कंधे की दुर्लभ सर्जरी

शहर के मानसरोवर स्थित इंडस हॉस्पिटल में झुंझुनूं निवासी 45 वर्षीय अमरचंद के घुटने के टिश्यू निकालकर कंधे की सफल सर्जरी की गई।

20/04/2019

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019