Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of December 2021
 
स्वास्थ्य

जन्मजात बीमारी से पीड़ित बालिका को SMS हॉस्पिटल में मिला नया जीवन

Wednesday, November 24, 2021 16:05 PM
हिंडौन सिटी निवासी 12 वर्षीय काजल तीन साल से खांसी-श्वास फूलने की बीमारी से पीडि़त थी। इसके अलावा करीब 5 माह से उसे खाना निगलने में भी परेशानी हो रही थी।

जयपुर। एसएमएस अस्पताल के सीटी सर्जरी विभाग में डॉक्टरों ने एक 12 वर्षीय बालिका का ऑपरेशन कर उसे जन्मजात बीमारी से मुक्ति दिलाई है। हिंडौन सिटी निवासी 12 वर्षीय काजल तीन साल से खांसी-श्वास फूलने की बीमारी से पीडि़त थी। इसके अलावा करीब 5 माह से उसे खाना निगलने में भी परेशानी हो रही थी। इसके बाद परिजनों ने उसे जेके लोन अस्पताल में भर्ती कराया था। वहां बालिका को फायदा नहीं होने पर 9 नवंबर को उसे एसएमएस अस्पताल के सीटी सर्जरी विभाग रैफर किया गया। डॉक्टरों के अनुसार बालिका को यह बीमारी जन्म से ही थी और प्रदेश में संभवतया यह पहला ऑपरेशन है।


सीनियर कॉर्डिक सर्जन डॉ. रामगोपाल यादव ने बताया कि बालिका की सीटी एंजियोग्राफी की गई। उसमें राइड साइड की सबक्लेवियन आर्टरी एओर्टा से लेफ्ट साइड से निकलकर श्वास नलिका (ट्रेकिआ) एवं आहार नली (इसोफेगस) के नीचे से राडट साइड के हाथ को ब्लड सप्लाई कर रही थी। इसकी वजह से रोगी को खांसी, श्वास फूलने तथा खाना निगलने में तकलीफ रहती थी।


उन्होंने बताया कि 16 नवंबर को रोगी का ऑपरेशन एओर्टा से राइट  सबक्लेवियन आर्टरी को काटकर दाहिनी तरफ के कॉमन कैरोडिटी आर्टरी से एनास्टोकोसिस किया गया। अब रोगी पूर्णतया स्वस्थ है। ऑपरेशन करने वाले सीनियर कॉर्डिक सर्जन डॉ. रामगोपाल यादव का डॉ. राजेश शर्मा एवं डॉ. राजेंद्र महावर ने ऑपरेशन में सहयोग किया। एनेस्थिसिया डॉ. इंदू वर्मा, डॉ. सत्यप्रकाश एवं अंशुल गुप्ता ने दिया।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

गर्दन में डैंस की हड्डी का डॉक्टरों ने किया सफल ऑपरेशन

रामअवतार यादव उंचाई से गिर गया था, जिसके कारण उसकी गर्दन में गहरी चोट लग गई थी। एक्स-रे में सामने आया कि मरीज की गर्दन में डैंस की हड्डी का फैक्चर है।

19/10/2019

भारत में पहला मामला, महिला के शरीर में दुर्लभ जटिलताएं, देखकर चिकित्सक हैरान

थांवला कस्बे के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एक 22 वर्षीय महिला के शरीर के अन्दरूनी भागों में एक से अधिक प्राइवेट पार्ट होने के खुलासे के बाद चिकित्सक हैरान रह गए। इन शारीरिक जटिलताओं के चलते महिला के दो माह के गर्भ को गिराना पड़ा। महिला को भी इस बात का ध्यान चिकित्सकों द्वारा कराई गई सोनोग्राफी के बाद पता चला।

06/07/2021

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

प्राकृतिक चिकित्सा में है सेहत संबंधी रोगों का निदान

विभिन्न रोगों का उपचार : नेचुरोपैथी के प्रति बढ़ा लोगों का भरोसा

15/11/2021

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

29/09/2020

जिम में ट्रेनर की न करें अनदेखी

हर व्यक्ति,खासकर युवा पीढ़ी जिम में जाकर एक्सरसाइज के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहता है।

26/02/2020

कोरोना से अटकी 'रोशनी', संक्रमण के चलते दान नहीं हो सकी आंखें

राजस्थान में कोरोना महामारी के कारण अंधता से जूझ रहे हजारों लोगों के जीवन में रोशनी का इंतजार और लंबा हो गया है। संक्रमण के खतरे के चलते आंखें यानि कार्निया दान करने की रफ्तार पर ब्रेक से लग गए। प्रदेश में इस साल मार्च में कोरोना की दस्तक के बाद से कार्निया दान होने की प्रक्रिया एक तरह से थम सी गई।

04/01/2021