Dainik Navajyoti Logo
Sunday 18th of April 2021
 
स्वास्थ्य

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

Thursday, October 03, 2019 18:20 PM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक हैं जो त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां देर से पड़ें इसलिए एंटी एजिंग उत्पादों का प्रयोग किया जाता है। इनमें सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है। एक विशेषज्ञ कॉस्मेटोलॉजिस्ट से परामर्श लेकर बोटोक्स का सही उपयोग करने से आप अपने चेहरे की झुर्रियों ठीक कर सकते हैं। यह ट्रीटमेंट तीस वर्ष से अधिक की उम्र के लोगों के लिए ही है। इस ट्रीटमेंट का लाभ पुरुष और महिलाएं दोनों उठा सकते हैं।

क्या होता है बोटोक्स ट्रीटमेंट
नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के सीनियर कॉस्मेटिक सर्जन डॉ. सुनीश गोयल ने बताया कि बोटोक्स यानी बोटयुलिनस टॉक्सिन न्यूरोटॉक्सिंस नामक रसायन होता है जो हमारी त्वचा के लिए जवानी देने का काम करता है। बोटोक्स इंजेक्शन के द्वारा स्किन के मांसपेशियों में दी जाती है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

विशेषज्ञ से ही लें परामर्श
बोटोक्स के माध्यम से झुर्रियों का इलाज विश्व के कई देशों में किया जाता है लेकिन यह सर्जीकल उपचार की श्रेणी में नहीं आता। त्वचा में झुर्रियों की जांच करने के बाद ही उनमें बोटोक्स इंजेक्ट करने की मात्रा तय की जाती है। इसके लिए आपको एक अनुभवी विशेषज्ञ से ही झुर्रियों का उपचार कराना चाहिए। डॉ. गोयल ने बताया कि आमतौर पर एक से तीन इंजेक्शन हर मांसपेशी में लगाए जाते हैं, इंजेक्शन से होने वाले मामूली दर्द को डॉक्टर लोकल एनस्थीसिया देकर दूर करते हैं। इनके उपचार के 20 घंटे बाद ही सुइयों के निशान मिट जाते हैं।

यह भी पढ़ें:

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय देशभर से आए धावकों ने जयपुर मैराथन के 11वें सीजन में भाग लिया। इस दौरान बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े।

03/02/2020

कोविड और पोस्ट कोविड मरीजों में हार्ट डिजीज का खतरा 15 प्रतिशत ज्यादा, अलर्ट रहने की जरूरत

पश्चिमी देशों के मुकाबले भारत में ह्रदय संबंधित मामले तीन गुना अधिक होते हैं। वहीं अब कोरोना वायरस द्वारा दिल पर बुरा प्रभाव पड़ने से डॉक्टरों की चिंताएं बढ़ा दी है। आंकड़ों के अनुसार कोरोना से संक्रमण होने पर हार्ट डिजीज का खतरा 10 से 15 प्रतिशत तक ज्यादा बढ़ जाता है।

06/01/2021

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल में मनाया गया विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

अजमेर रोड स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में मनोरोग विभाग की ओर से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर चिकित्सकों के लिए अवसाद एवं आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार एवं मानसिक स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया।

10/10/2019

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020