Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 28th of October 2020
 
स्वास्थ्य

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

Thursday, October 03, 2019 18:20 PM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक हैं जो त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां देर से पड़ें इसलिए एंटी एजिंग उत्पादों का प्रयोग किया जाता है। इनमें सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है। एक विशेषज्ञ कॉस्मेटोलॉजिस्ट से परामर्श लेकर बोटोक्स का सही उपयोग करने से आप अपने चेहरे की झुर्रियों ठीक कर सकते हैं। यह ट्रीटमेंट तीस वर्ष से अधिक की उम्र के लोगों के लिए ही है। इस ट्रीटमेंट का लाभ पुरुष और महिलाएं दोनों उठा सकते हैं।

क्या होता है बोटोक्स ट्रीटमेंट
नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के सीनियर कॉस्मेटिक सर्जन डॉ. सुनीश गोयल ने बताया कि बोटोक्स यानी बोटयुलिनस टॉक्सिन न्यूरोटॉक्सिंस नामक रसायन होता है जो हमारी त्वचा के लिए जवानी देने का काम करता है। बोटोक्स इंजेक्शन के द्वारा स्किन के मांसपेशियों में दी जाती है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

विशेषज्ञ से ही लें परामर्श
बोटोक्स के माध्यम से झुर्रियों का इलाज विश्व के कई देशों में किया जाता है लेकिन यह सर्जीकल उपचार की श्रेणी में नहीं आता। त्वचा में झुर्रियों की जांच करने के बाद ही उनमें बोटोक्स इंजेक्ट करने की मात्रा तय की जाती है। इसके लिए आपको एक अनुभवी विशेषज्ञ से ही झुर्रियों का उपचार कराना चाहिए। डॉ. गोयल ने बताया कि आमतौर पर एक से तीन इंजेक्शन हर मांसपेशी में लगाए जाते हैं, इंजेक्शन से होने वाले मामूली दर्द को डॉक्टर लोकल एनस्थीसिया देकर दूर करते हैं। इनके उपचार के 20 घंटे बाद ही सुइयों के निशान मिट जाते हैं।

यह भी पढ़ें:

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

नहीं था अंगूठा, तर्जनी उंगली को जोड़ कर नया बनाया

कोटा की आयशा (3 वर्ष) के जन्म से ही दोनों हाथों में अंगूठे अविकसित थे, जिसके कारण वह कुछ भी ठीक से पकड़ नहीं पाती थी।

28/01/2020

अस्थमा नहीं है लाइलाज, इनहेलेशन थैरेपी है कारगर

अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है जिसमें श्वास मार्ग में सूजन और श्वास मार्ग की संकीर्णता की समस्या होती है जो समय के साथ कम ज्यादा होती है।

03/05/2019

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, खोजा ऐसा वायरस जो हर तरह के कैंसर का करेगा खात्मा

दुनियाभर के साथ ही भारत में भी कैंसर की बीमारी तेजी से फैल रही है। इस खतरनाक बीमारी की वजह से हर साल करीब 8 लाख लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा वायरस खोजा है जो हर तरह के कैंसर को खत्म कर सकता है।

11/11/2019

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

युवाओं में भी तेजी से बढ़ी रही हार्ट अटैक संबंधी बीमारियां, जानिए बचाव

विश्व में करीब 1.7 करोड़ लोगों की मृत्यु हृदय संबंधी रोगों के कारण हो जाती है। 2016 में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 5.4 करोड़ लोग हार्ट संबंधी रोगों के शिकार हैं और हर 33 सैकंड में एक व्यक्ति की मौत हार्ट अटैक से हो जाती है।

29/09/2019