Dainik Navajyoti Logo
Friday 28th of January 2022
 
स्वास्थ्य

आज से कोविड की प्रिकॉशन डॉज, प्रिकॉशन डोज के लिए लिए डॉक्टर्स के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं

Monday, January 10, 2022 12:05 PM
कॉन्सेप्ट फोटो

जयपुर। राजस्थान में 60 पार को-मोर्बेडिटी वाले बुजुर्गों और हेल्थ-फ्रंटलाइन वर्कर्स को सोमवार से तीसरी यानी प्रिकॉशन डोज दी जा रही है। प्रदेश में सभी वैक्सीनेशन सेंटरों पर यह वर्ग कोरोना वैक्सीन की यह डोज लगवा सकेगा। प्रदेश में इस वर्ग के करीब 24.15 लाख लोग हैं। इनमें 12.50 लाख बुजुर्ग जो गंभीर बीमारियों जैसे डायबिटीज, बीपी, हार्ट सहित अन्य रोगों से ग्रसित हैं, वे सेंटरों पर जाकर यह डोज लेने के लिए योग्य होंगे। वहीं हाई रिस्की जोन में काम कर रहे 5.17 लाख हेल्थ वर्कर्स और 6.48 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स हैं। पूर्व में जिस वैक्सीन की दो डोज दी गई है, तीसरी डोज भी उसी कंपनी की दी जाएगी। ऑनलाइन या ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन में वैक्सीनेशन किया जाएगा। को-मोर्बेडिटी वाले बुजुर्गों को वैक्सीनेशन के लिए बीमारी होने का डॉक्टर का सर्टिफिकेट देने की जरूरत नहीं होगी। चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने सभी से प्रिकॉशन डोज लगाने की अपील की है।

दूसरी डोज लिए 9 माह होने पर तीसरी डोज
प्रदेश में इस श्रेणी के उन्हीं लोगों को प्रिकॉशन डोज लगाई जा रही है। जिन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज लिए नौ माह बीत चुके हैं। तीसरी डोज लगाने के पीछे वैज्ञानिक आधार यह है कि नौ माह पूरे होने के कारण कोरोना के खिलाफ सुरक्षा कवच यानी एंटीबॉडीज कम हो जाती है। गंभीर बीमार बुजुर्ग में इम्यूनिटी कम होती है, ऐसे में वे संक्रमण लगने पर फिर से बीमार ना हो, इसलिए तीसरी डोज दी जा रही है। हेल्थ व फ्रंटलाइन वर्कर्स को हाईरिस्की जोन में काम करने के कारण सुरक्षित करने का प्लान है।

गर्भवती महिलाओं, दिव्यांग कर्मचारियों को कार्यालय आने से मिली छूट

 सरकार ने कोविड महामारी की तीसरी लहर को देखते हुए गर्भवती महिला और दिव्यांग कर्मचारियों को कार्यालय आने से छूट देते हुए घर से काम करने की अनुमति दे दी है। केन्द्रीय कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने रविवार को कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) के दिशा-निर्देशों के बारे में जानकारी देते हुए यह खुलासा किया। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिला और दिव्यांग कर्मचारियों को कार्यालय आने से छूट दी गई है हालांकि, उन्हें उपलब्ध रहने और घर से काम करने की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन (रोकथाम क्षेत्र) में रहने वाले सभी अधिकारी और कर्मचारियों को भी उस समय तक कार्यालय आने से छूट रहेगी। जब तक उनके क्षेत्र को अधिसूचित क्षेत्र से बाहर नहीं किया जाता।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

कब तक रहेगी एंटीबॉडी, क्या लगेगा बूस्टर डोज

कई देशों में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीनेशन किया जा रहा हैं। लेकिन समय के साथ वैक्सीनों के कम प्रभावी होने के मामले भी सामने आ रहे हैं।

21/10/2021

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

05/12/2019

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

एक्मो जैसी तकनीक व दुर्लभ जी हॉस्पिटल के अनुभवी डाक्टरों ने किया कारनामा

गत महिनों में 10 से ज्यादा जहरखुरानी के मरीजों को दिया नया जीवन

27/08/2021

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

सीओपीडी से होने वाली मौतों के मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर, राजस्थान की भी स्थिति बेहद खराब

प्रदूषण और धूम्रपान है क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीज़ यानी सीओपीडी रोग का बड़ा कारण

17/11/2021

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019