Dainik Navajyoti Logo
Sunday 28th of November 2021
 
स्वास्थ्य

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

Wednesday, March 17, 2021 10:25 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है। यही नहीं मरीज की स्टेंटिंग के बाद उसका इंप्लांटेशन सही हुआ है या नहीं, यह भी जाना जा सकता है।

ओसीटी बताएगी, स्टेंट सही काम कर रहा या नहीं
डॉ. मक्कड़ ने बताया कि ऑप्टीकल कोहैरेंस टोमोग्राफी (ओसीटी) ऑप्टीकल इमेजिंग तकनीक है जो इंफ्रारेड लाइट का इस्तेमाल कर रक्त वाहिकाओं के अंदर का दृश्य देखने और प्लाक के प्रकार व फैलाव को जानने में मदद करता है। साथ ही इससे स्टेंट के साइज, फैलाव और उसके सही खुलने की सही रिपोर्ट भी देता है।

रोटा तकनीक, स्कोरिंग बैलून व शॉक वेव लिथोट्रिप्सी
इन तकनीकों से कठोर से कठोर कैल्शियम वाले ब्लॉकेज में भी स्टेंट लगाया जा सकता है। इंट्रा वैस्कुलर अल्ट्रासाउंड एवं ओसीटी से यह जानने में मदद मिलती है कि इनमें से कौन सी तकनीक इस्तेमाल की जाए।

भारतीय बायोरिसोर्बेबल स्टेंट भी चलन में
डॉ. मक्कड़ के अनुसार एंजियोप्लास्टी के काफी समय बाद मरीज को उसी आर्टरी में फिर से ब्लॉकेज हो जाए तो ऐसी स्थिति में पीएलएल से बने बायोरिसोर्बेबल स्टेंट के इस्तेमाल का प्रचलन बढ़ने लगा है। ये स्टेंट आर्टरी में इंप्लांट होने के एक से डेढ़ साल बाद शरीर में ही घुल जाएगा और आर्टरी को वापस उसकी शेप में ले आएगा।

ड्रग एलुटिंग बैलून
कुछ विशेष परिस्थितियों में स्टेंट का उपयोग न हो पाए या स्टेंट के अंदर ब्लॉक आ जाए, वहां ड्रग एलुटिंग बैलून का प्रयोग काफी प्रभावी रहता है।

डिस्टल रेडियल एंजियोप्लास्टी
कार्डियक इंटरवेंशन में अब एक्सपर्ट दाएं हाथ के अंगूठे के पीछे की बड़ी नस से भी कैथेटर का इस्तेमाल कर हार्ट तक अपनी पहुंच सुगम बना रहे हैं। इस जगह से होने वाले प्रोसीजर को डिस्टल रेडियल एंजियोप्लास्टी कहते हैं। इसमें आर्टरी के नुकसान होने से लेकर प्रोसीजर में लगने वाला समय भी कम होता है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

साढ़े चार महीने बाद जयपुर में कोरोना फिर हुआ जानलेवा

ढाई साल के बच्चे की मौत, 12 वर्षीय स्कूली छात्रा पॉजिटिव : 30 जून को आखिरी बार हुई थी जयपुर में कोरोना से मौत

19/11/2021

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

मंगल के दिन कोरोना ‘जीरो’

19 माह 16 दिन बाद प्रदेश में कोई नया केस नहीं

20/10/2021

Video: जानिए, अस्थमा के इलाज से जुड़ी इनहेलेशन थैरेपी के बारे में

जागरुकता का अभाव, बदलती जीवनशैली, अनुचित खानपान और उससे बढ़ता मोटापा सहित प्रदूषण से अस्थमा तेजी से बढ़ रहा है।

07/05/2019

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019

27 साल पहले हार्ट में लगी पेसमेकर की तार को बिना सर्जरी के निकाला, राजस्थान में इस तरह का पहला केस

वर्षों पहले लगे पेसमेकर में संक्रमण होने के कारण उसे तार समेत हार्ट से निकालने के जटिल मामले को शहर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाया। प्रदेश में पहली बार इस तरह का केस हुआ है जब मरीज को 27 साल पहले लगे पेसमेकर और तार को इंफेक्शन होने पर बिना ओपन हार्ट सर्जरी के हृदय में से निकाला गया। लीड एक्सट्रैक्शन नामक यह प्रक्रिया इतनी जटिल थी कि तार निकालने में जरा भी चूक होती तो मरीज की उसी समय मौत हो सकती थी।

09/07/2020